त्रियुगीनारायण मंदिर: यही हुआ था शिव-पार्वती का विवाह, जानिए इसकी पौराणिक मान्यतायें

उत्तराखंड को देवभूमि यूं ही नहीं कहा जाता. यहां पग पग पर मन मोहने वाले दृश्य और सदियों पुराने मंदिर हैं जिनका धार्मिक ग्रंथों में भी जिक्र मिलता है, आज भी ये मंदिर तमाम आपदाओं के बाद सीना ताने खड़े देखने को मिल जाते हैं.

उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन तो है ही साथ ही साथ अपनी संस्कृति को नजदीक से देखने और जानने का भी मौका मिलता है. यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ तो चार धाम में गिने जाते हैं मगर इनके अलावा भी कई ऐसे मंदिर हैं जिनकी काफी मान्यता है और जहां दर्शन पूजन करने से मनुष्य जीवन धन्य हो जाता है.

ऐसा ही एक मंदिर है त्रियुगी नारायण मंदिर, जो केदारनाथ क्षेत्र में ही स्थित है. जगतगुरु आदि शंकराचार्य ने इस मंदिर की आधार शिला रखी थी. उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित त्रियुगी नारायण मंदिर के बारे में मान्यता है कि सतयुग में भगवान शिव और पार्वती का विवाह यहीं हुआ था.

ये मंदिर भगवान विष्णु का था और वो यहां वामन अवतार में मौजूद हैं जिनको साक्षी मानकर भगवान शिव और माता पार्वती ने यहां विवाह किया था. मंदिर प्रांगण में यहां एक धूनी जलती दिखती है जिसके बारे में मंदिर में मौजूद पंडितों का कहना है कि ये धूनी वो अग्नि है जिसके इर्द गिर्द भगवान शिव और माता पार्वती ने फेरे लिए थे, तीन युगों (सतयुग,त्रेता,द्वापर) से ये यूं ही निरंतर जल रही है. इसीलिए इस मंदिर का नाम त्रियुगी नारायण रखा गया है.

उत्तराखंड सरकार के पर्यटन विभाग ने इसे डेस्टिनेशन वेडिंग प्लेस के तौर पर अपनी साइट पर प्राथमिकता के साथ रखा है. मंदिर में स्थित धर्मशिला पर बिठाकर ही शादियां करवाई जाती हैं. मान्यता है कि उसी शिला पर बैठकर माता पार्वती और भगवान शिव के विवाह के रस्मों रिवाज हुए है. कोरोना काल से पहले कई टीवी सितारों ने यहां आकर विवाह किया था.

ये मंदिर उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है. सोनप्रयाग से 10 किमी की दूरी पर यह मंदिर स्थित है. इसकी बनावट बिल्कुल केदारनाथ मंदिर जैसी ही है. हिंदू पौराणिक ग्रंथों के अनुसार पर्वतराज हिमावत के यहां पार्वती के रूप में सती का पुनर्जन्म हुआ था.

माता पार्वती ने केदार पर्वत में स्थित पार्वती गुफा में भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी. भगवान शिव ने उनकी तपस्या से खुश होकर उन्हें दर्शन दिए और हिमालय के मंदाकिनी क्षेत्र के भगवान विष्णु के इसी मंदिर में उनका विवाह हुआ. भगवान विष्णु ने माता पार्वती के भाई के रूप में सभी रीति रिवाज निभाए थे जबकि ब्रह्मा जी इस विवाह के पुरोहित बने थे.

मंदिर में घुसते वक्त चार जलकुंड दिखाई पड़ते हैं- रुद्र कुंड, विष्णु कुंड, ब्रह्म कुंड और सरस्वती कुंड. इन सभी में जल सरस्वती कुंड से आता है. मान्यता है कि सभी देवताओं ने विवाह से पहले यहां स्नान किया था. सरस्वती कुंड के जल से सिर्फ आचमन किया जाता है, बाकी कुंड के जल में स्नान करने से संतानहीनता से मुक्ति मिल जाती है ऐसी मान्यता है.

Related Articles

Latest Articles

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिले सीएम धामी, इन विषयों पर की चर्चा

0
मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भेंट की. भेंट के दौरान मुख्यमंत्री ने गृह...

स्पीकर चुनाव को लेकर लिया गया फैसला, कांग्रेस ने अपने सभी सांसदों के लिए...

0
संसद सत्र शुरू हो गया है. 26 जून यानी कल लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होंगे. इसके लिए कांग्रेस ने लोकसभा में अपने...

पीएम मोदी से मिले सीएम धामी, तीसरी बार देश का प्रधानमंत्री बनने पर दी...

0
मंगलवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी से भेंट कर उन्हें तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री का दायित्व...

इन राज्यों में हुए सबसे ज्यादा पेपर लीक, दांव पर लगा लाखों उम्मीदवारों का...

0
नीट यूजी कंट्रोवर्सी ने एक बार फिर से पेपर लीक मुद्दे को हवा दे दी है. ये पहला मामला नहीं है जब पेपर लीक...

नए आपराधिक कानूनो को लागू करने लिए उत्तराखंड की तैयारी पूरी: सीएस राधा रतूड़ी

0
देशभर में 1 जुलाई 2024 से लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों हेतु उत्तराखंड की तैयारी पूरी हो चुकी है. उत्तराखंड की मुख्य...

सीएम धामी ने दिल्ली के एम्स पहुंचकर जाना घायल वन कर्मियों का कुशलक्षेम

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पहुंचकर अल्मोड़ा के बिनसर वन्यजीव विहार में वनाग्नि हादसे में गम्भीर...

अबकी बार स्पीकर पद पर तकरार, ओम बिरला बनाम के. सुरेश के बीच जंग

0
लोकसभा स्पीकर पद के लिए अब एक बार फिर एनडीए और विपक्ष के बीच घमासान होने वाला है. एनडीए ने जहां ओम बिरला को...

अभी तिहाड़ जेल से बाहर नहीं आएंगे केजरीवाल, हाईकोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक

0
दिल्ली शराब घोटाला केस में अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका लगा है. दिल्ली हाईकोर्ट ने जमानत पर रोक लगा दी है. हाईकोर्ट ने अपने...

काशीपुर-जसपुर मार्ग पर दो डंपरों आपस में भिड़े, चालक की जिंदा जलकर मौत

0
काशीपुर| उधमसिंहनगर ज़िले से बड़े सड़क हादसे की खबर सामने आ रही है. काशीपुर-जसपुर मार्ग पर टोल प्लाजा के पास मंगलवार सुबह दो डंपरों...

दिल्ली: सफदरजंग अस्पताल की पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में आग, मौके पर फायर ब्रिगेड की...

0
राजधानी दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल की पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में आग लगने की खबर है. बताया जा रहा है कि पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में...