इस मंदिर में झूला झूलती हैं देवी दुर्गा, मां की रखवाली में पहरा देते हैं शेर

झुला देवी मंदिर रानीखेत शहर से 7 कि.मी. की दुरी पर स्थित एक लोकप्रिय पवित्र एवम् धार्मिक मंदिर है. यह मंदिर माँ दुर्गा को समर्पित है एवम् इस मंदिर को झुला देवी के रूप में नामित किया गया है. स्थानीय लोगों के अनुसार यह मंदिर 700 वर्ष पुराना है.

रानीखेत में स्थित झूला देवी मंदिर पहाड़ी स्टेशन पर एक आकर्षण का स्थान है. यह भारत के उत्तराखंड राज्य में अल्मोड़ा जिले के चौबटिया गार्डन के निकट रानीखेत से 7 किमी की दूरी पर स्थित है. वर्तमान मंदिर परिसर 1935 में बनाया गया है.

झूला देवी मंदिर के समीप ही भगवान राम को समर्पित मंदिर भी है. झूला देवी मंदिर को झुला देवी मंदिर और घंटियों वाला मंदिर के रूप में भी जाना जाता है.

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण क्षेत्र में रहने वाले जंगली जानवरों द्वारा उत्पीड़न से मुक्त कराने के लिए मां दुर्गा की कृपा बनाये रखने के उद्देश्य से किया गया था. मंदिर परिसर में झुला स्थापित होने के कारण देवी को “झूला देवी” नाम से पूजा जाता है.

मां के झूला झूलने के बारे में एक और कथा प्रचलित है. माना जाता है कि एक बार श्रावण मास में माता ने किसी व्यक्ति को स्वप्न में दर्शन देकर झूला झूलने की इच्छा जताई.

ग्रामीणों ने मां के लिए एक झूला तैयार कर उसमें प्रतिमा स्थापित कर दी. उसी दिन से यहां देवी मां “झूला देवी” के नाम से पूजी जाने लगी.

यह कहा जाता है कि मंदिर लगभग 700 वर्ष पुराना है. चैबटिया क्षेत्र जंगली जानवर से भरा घना जंगल था. “तेंदुओं और बाघ” आसपास के लोगों पर हमला करते थे और उनके पालतू पशुओं को ले जाते थे.

लोगों को “तेंदुओं और बाघ” से डर लग रहता था और खतरनाक जंगली जानवर से सुरक्षा के लिए आसपास के लोग ‘माता दुर्गा’ से प्रार्थना करते थे.

ऐसा कहा जाता है कि ‘देवी’ ने एक दिन चरवाहा को सपने में दर्शन दिए और चरवाहा से कहा कि वह एक विशेष स्थान खोदे क्योंकि देवी उस स्थान पर अपने लिए एक मंदिर बनवाना चाहती थी. जैसे ही चरवाहा ने गड्ढा खोद दिया तो चरवाहा को उस गड्ढे से देवी की मूर्ति मिली.

इसके बाद ग्रामीणों ने उस जगह पर एक मंदिर का निर्माण किया और देवी की मूर्ति को स्थापित किया और इस तरह ग्रामीणों को जंगल जानवरों द्वारा उत्पीड़न से मुक्त कर दिया गया और मंदिर की स्थापना के कारण चरवाहा अपने पशुओ को घास चरने के लिए छोड़ जाते थे.

मंदिर परिसर के चारों ओर लटकी हुई अनगिनत घंटियां ‘मा झुला देवी’ की दिव्य व दुख खत्म करने वाली शक्तियो को दर्शाती है.

मंदिर में विराजित झूला देवी के बारे में यह माना जाता है कि झूला देवी अपने भक्तों की इच्छाओं को पूरा करती हैं और इच्छाओं को पूरा करने के बाद भक्त यहाँ तांबे की घंटी भेटस्वरुप चढाने आते हैं , घंटियों की मधुर ध्वनि से हर किसी का मन आनंदित हो उठता है.

श्रद्धालुओं का मानना है कि मंदिर में प्रार्थना करने वाले लोगों की मनोकामनाएं मां झूला देवी पूर्ण करती हैं। यहां जाने पर आपको राम मंदिर जाने का मौका भी मिलता है, जो पास में ही स्थित है. यहां झूला देवी मंदिर में नियमित रूप से श्रद्धालुओं का आवागमन लगा रहता है.

मंदिर के प्रति हिंदूओ का अत्यधिक विश्वास है, झुला देवी मंदिर उत्तराखंड में यात्रा के लिए एक लोकप्रिय स्थान है.


Related Articles

Latest Articles

मलेशिया मास्टर्स खिताब जीतने से चूकी सिंधु फाइनल में नहीं लांघ पाईं ‘चीनी दीवार’

0
भारत की स्टार महिला शटलर पीवी सिंधु का 2 साल से खिताबी सूखा बदस्तूर जारी है. सिंधु रविवार को मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट में...

हल्द्वानी: लावारिस सांड की एक बाइक से टक्कर, हादसे में युवक की मौत

0
हल्द्वानी| हल्द्वानी से दुखद घटना की खबर सामने आ रही है. यहां एक लावारिस सांड की एक बाइक से टक्कर हो गई. इस हादसे...

क्या है ‘रेमल’ का मतलब! आखिर कौन तय करता है तूफान का नाम

0
चक्रवार्ती तूफान ‘रेमल’ रविवार (26 मई) की रात पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तट से टकरा सकता है. मौसम विभाग ने कहा है कि...

‘रेमल’ चक्रवात भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील, रविवार रात बंगाल-बांग्लादेश के तटों से टकराएगा

0
चक्रवाती तूफान रेमल रविवार की रात पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के समुद्र तटों पर दस्तक दे सकता है. बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती...

दिल्‍ली: बेबी केयर हॉस्पिटल में आग लगने से 6 किलकारियां हमेशा के लिए खामोश

0
देश की राजधानी दिल्‍ली के विवेक विहार में एक बेबी केयर हॉस्पिटल में आग लगने से 6 किलकारियां हमेशा के लिए खामोश हो गईं....

लोकसभा चुनाव 2024: छठे चरण में 58 सीटों पर मतदान संपन्न, 59.06 फीसदी मतदान...

0
शनिवार को लोकसभा चुनाव के छठे चरण में सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की 58 सीटों पर मतदान हो चुका है. आठ राज्यों...

रविवार को भगवान सूर्य देवता को जल चढ़ाने के होते हैं कई फायदे, जानिए...

0
हिंदू धर्म में सूर्य को जल देने की परंपरा बहुत पुरानी है जिसे आज भी निभाते हैं. श्रद्धालु हर रोज सूर्य देवता को अर्घ्य...

राशिफल 26-05-2024: आज सूर्यदेव की कृपा चमकेगा इन राशियों का भाग्य

0
मेष-:मेष राशि वाले सोचते कुछ हैं, होता कुछ है. रविवार को मेष राशि वालों का जीवनसाथी की लापरवाही से बड़ा नुकसान हो सकता है....

26 मई 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 26 मई 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

चारधाम यात्रा के लिए 6 सदस्यीय उच्च स्तरीय समिति का गठन, आदेश जारी

0
चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं को लेकर आ रही तस्वीरों के बीच अब सरकार नए कदम उठाकर यात्रा के बेहतर संचालन के लिए फैसले ले...