आइये जानते है न्याय के देवता कहे जाने वाले घोडा खाल मन्दिर (गोलज्यू) की कहानी..

घोडा खाल मन्दिर एवं गोलज्यू की कहानी,,,, घोडा खाल का अर्थ होता है घोडौ के पानी पीने का तालाब, पवित्र देवभूमि उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध नैनीताल जिले के भवाली से लगभग पांच किलोमीटर दूर स्थित है, गोलज्यू मन्दिर में वैसे तो वर्ष भर भक्तों का तांता लगा रहता है, परन्तु नवरात्रि में तो यहाँ भक्तों की भीड उमड़ पडती है, घोड़ा खाल मन्दिर समुद्र तल से लगभग दो, हजार मीटर ऊचाई में स्थित है.

इसे घंटियाँ का मन्दिर नाम से भी जाना जाता है, गोलज्यू मन्दिर भव्य एवं आकृष्ट है, किवदंतियों के अनुसार गोलज्यू देवता की उत्पत्ति कत्यूरी वंश के राजा झालराई से हुई थी, जिसके ततकाल की राजधानी धूमाकोट चम्पावत थी, राजा झालराई की सात रानीयाँ होने पर भी वह निसंतान थे,

संतान प्राप्ति की आशा में राजा ने काशी के सिद्ध बाबा सेभैरवयज्ञ करवाया और स्वप्न में गोरी भैरव ने उन्हें दर्शन दिया और कहाराजन आपको आठवीं सादी करनी पडेगी मैं उसी रानी के गर्भ में आपके पुत्र के रूप में जन्म लुगा राजा ने कलिका के साथ आठवां विवाह रचाया जल्द ही रानी गर्भवती हो गई, अब हमारे पहाड में एक कहावत है सौति डाह भौल निहुन अर्थात सौति या डाह अच्छा नहीं होता है,

यह भी पढ़ें -  कृष्ण नगरी में जन्माष्टमी की धूम: मथुरा-वृंदावन में मंदिरों को रंग-बिरंगी रोशनी से सजाया गया, देश-विदेश से उमड़े हजारों भक्त

सातों रानीयाँ में जलन का भाव उत्पन्न हो गया, रानीयाँ ने एक साजिश रची और कलिका को यह बताया कि गृहों के प्रकोप से बचने के लिए सात दिनों तक मां जन्मे बच्चे की सूरत नहीं देख सकती है, प्रसव के दिन सातों रानीयाँ ने नवजात शिशु के स्थान पर सिलबट्टा रख दिया सातों रानीयाँ ने कलिका को बताया कि उसने सिलबट्टे को जन्म दिया है, उसके बाद सातों रानीयाँ कलिका के बेटे को मारने की साजिश में शामिल हो गई सबसे पहले उन्होंने उसे उघूण के रास्ते गोठ में डाला यहाँ बता दूँ गोठ गौशाला कहते हैं और उघूण पाल के स्थान से गौशाला में जाने के आपात कालीन द्वार को कहते हैं,


परन्तु जाकोराखे साईया मार सकें न कोइ, फिर वोतो खुद भगवान हैं, थोड़ी देर में रानीयाँ बालक को देखने गौशाला में आईं तो क्या देखती है कि गाय घुटने टेक कर बालक को अपना दूध पिला रही थी, बहुत कोशिश करने के बाद जब बालक नहीं मरता है तो रानीयाँ उसे संदूक में रख कर काली नदी में फैंकते हैं, भगवान के चमत्कार से संदूक ऊपर की ओर तैरता हुआ गोरी घाट पंहुचा, और वहाँ भाना नामक मछवारे के जाल में फंस जाताहै, मछवारे की भी संतान न होने के कारण मछवारा बच्चे को घर ले आता है,

यह भी पढ़ें -  यूपी: लखनऊ में अनोखी चोरी, कैडबरी के गोदाम में धावा बोलकर चोर 17 लाख की चॉकलेट चुराकर रफूचक्कर

गोरी घाट में मिलने के कारण मछवारे ने बालक का नाम गोरिया रखा, जब बच्चा बढ़ा होने लगा तो वह मछवारे से घोड़े की जिद्द करता है, लेकिन मछवारे के पास घोड़ा खरीदने के लिए पैंसे नहीं थे, इसलिए वह उसे लकड़ी का घोड़ा बना कर देता है, घोड़े को देख कर बालक खुश हो गया, एक दिन जब बच्चा घोड़े पर बैठता है, तो घोड़ा सरपट दौडने लगता है, यह नजारा देख कर ग्रामीण हैरान हो गये,

एक दिन बच्चा उसी घोड़े पर बैठकर धामकोट नामक स्थान पर पंहुचा जहाँ राजघाट में सातों रानीयाँ पानी भरने निकलीं थीं, और बच्चा रानीयाँ के मुख से अपनी माँ कलिका के लिए रची शाजिस सुन लेता है, और कहता है कि उसका घोड़ा पहले पानी पियेगा उसके बाद आप पानी भरंगी ,

यह सुनकर रानीयाँ हंस पडी और बोली अरे मूर्ख कहीं लकड़ी का घोड़ा भी पानी पी सकता है❓, तो बालक बोलता है कि जब महिला के गर्भ में सिलबट्टा पैदा हो सकता है तो लकड़ी का घोड़ा पानी क्यों नहीं पी सकता है, यह सुनकर सातों रानीयाँ घबरा गए और राजा से उस बालक के बारे में शिकायत करतीं हैं, इसके बाद राजा ने बालक को बुला कर सच्चाई जाननी चाही उस पर बच्चा रानीयाँ द्वारा अपनी माँ कलिका के साथ हुये षड्यंत्र की कहानी बताता है,

यह भी पढ़ें -  बढ़ते कोरोना के मामलों को देख डीजीसीए सख्त, एयरलाइन्स को दिए ये निर्देश

इसके बाद राजा ने उस बच्चे से अपने पुत्र होने का सबूत मांगा लडके गोरिया ने कहा अगर मैं माता कलिका का पुत्र हूँ तो इसी क्षण मेरे माता के वक्ष से दूध की धारा निकल कर मेरे मुह में चली जाए, और ऐसा ही हुआ, राजा ने बच्चे को गले लगाकर उसे राजपाट सौपा, उसके बाद वह राजा बनकर जगह जगह न्याय की सभा लगा कर लोगों को न्याय देने लगे, और न्याय के देवता के रूप में प्रसिद्ध हो गये,


स्थानीय लोगों के अनुसार घोडा खाल मन्दिर में गोलज्यू देवता की स्थापना का श्रेय महरागाँव की एक महिला को माना जाता है, यह महिला वर्षों पूर्व अपने परिजनों द्वारा सतायी जाती थी, उसने चम्पावत अपने मायके जाकर गोलज्यू देवता से न्याय हेतु साथ चलने की प्रार्थना की थी, इसीलिए गोलज्यू देवता उस महिला के साथ घोडा खाल मन्दिर में विराजमान हुए,

लेखक पंडित प्रकाश जोशी गेठिया नैनीताल

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

UKSSSC पेपर लीक मामले में एक और गिरफ्तारी, अब तक 20 आरोपी गिरफ्तार

0
उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग(UKSSSC) पेपर लीक मामले में एसटीएफ ने अब उत्तर प्रदेश के धामपुर निवासी जूनियर इंजीनियर ललित शर्मा को लंबी पूछताछ...

यूट्यूबर बॉबी कटारिया की होगी गिरफ्तारी, देहरादून की एक कोर्ट ने जारी किया गैर...

0
देहरादून में सड़क पर ट्रैफिक रोककर कुर्सी पर बैठकर शराब पीने और पुलिस को धमकाने के मामले में यूट्यूबर बॉबी कटारिया को दून पुलिस...

कृष्ण नगरी में जन्माष्टमी की धूम: मथुरा-वृंदावन में मंदिरों को रंग-बिरंगी रोशनी से सजाया...

0
कृष्ण जन्माष्टमी की आज पूरे देश भर में धूम है, 'जय श्री कृष्णा' के जयकारे गूंज रहे हैं. भारत ही नहीं दुनिया के तमाम...

दिल्ली आबकारी मामले में मनीष सिसोदिया के कई ठिकानों पर सीबीआई का तलाशी अभियान...

0
दिल्ली आबकारी घोटाले के मामले में सीबीआई ने मनीष सिसोदिया के कई ठिकानों पर तलाशी अभियान शुरू किया है. तलाशी के बाद सीबीआई प्राथमिकी...

डोलो को लेकर डॉक्टरों को ₹1,000 करोड़ बांटने के दावे पर सुप्रीमकोर्ट के जज...

0
गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ एक केस की सुनवाई के दौरान अचानक दंग रह गए जब उन्होंने याद आया कि...

राशिफल 19-08-2022: पढ़े आज का सभी राशियों का राशिफल

0
मेष: आज के दिन आर्थिक स्थिति बेहतर होने के योग बनते नजर आ रहे हैं. जीवनसाथी की सेहत खराब हो सकती है, ध्यान रखें. वृष:...

19 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 19 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Covid19: उत्तराखंड में मिले कोरोना के 175 नए मामले, एक्टिव केस 977

0
उत्तराखंड में 24 घंटे के भीतर कोरोना के 175 नए मरीज मिले हैं. जबकि 131 मरीजों ने कोरोना को मात दी है. इसके साथ...

यूकेएसएसएससी पेपर लीक मामला: एसटीएफ की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी, उत्तरकाशी से 19वीं गिरफ्तारी

0
यूकेएसएसएससी पेपर लीक मामले में एसटीएफ की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है. गुरुवार को एसटीएफ ने यूकेएसएसएससी पेपर लीक मामले में एक और गिरफ्तारी...

Ind Vs Zim-Ist ODI: धवन और गिल की आंधी में उड़ी जिंबाब्वे टीम, टीम...

0
टीम इंडिया ने जिंबाब्वे दौरे पर तीन मैचों की वनडे सीरीज का आगाज जीत के साथ किया है. टीम इंडिया ने गुरुवार को पहले...
%d bloggers like this: