किशाऊ बांध: दिल्ली में परियोजना को लेकर बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की अध्यक्षता में किशाऊ बांध बहुद्देशीय परियोजना पर आयोजित बैठक में प्रतिभाग किया. बैठक में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वर्चुअल प्रतिभाग किया.

बैठक में उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने परियोजना के संबंध में अपने-अपने राज्य का पक्ष रखा. मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि परियोजना डीपीआर की लागत बढ़ने की दशा में विद्युत घटक लागत को स्थिर रखा जाए अथवा बढ़ी हुई विद्युत घटक लागत को अन्य चार लाभार्थी राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान व दिल्ली द्वारा वहन किया जाए. ताकि राज्य के उपभोक्ताओं को सस्ती दर पर विद्युत आपूर्ति उपलब्ध हो सके.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह राष्ट्रीय परियोजना, उत्तराखण्ड के विकास हेतु मील का पत्थर साबित होगी क्योंकि परियोजना विकास की अवधि में स्थानीय निवासियों व ग्रामीणों को आय वृद्धि के विभिन्न संसाधन यथा स्थाई व अस्थाई रोजगार प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से उपलब्ध होंगे.

यह भी पढ़ें -  Ind W Vs EngW-3rd ODI: झूलन गोस्वामी की जीत से विदाई, इंग्लैंड का 3-0 से किया सफाया

क्षेत्र के विकास व जनकल्याण हेतु समय- समय पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से क्षेत्र विशेष हेतु लाभप्रद योजनाएं विकसित की जाएगी, जिससे पलायन की समस्या पर काफी हद तक नियंत्रण किया जा सकेगा.

केंद्रीय मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि आज की बैठक में उठाए गए बिंदुओ पर विचार विमर्श कर जल्द ही अगली बैठक आयोजित की जाएगी. गौरतलब है कि किशाऊ बहुउद्देशीय बाँध परियोजना के क्रियान्वयन का कार्य उत्तराखण्ड एवं हिमाचल प्रदेश सरकार के संयुक्त उपक्रम किशाऊ कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है. इस परियोजना को फरवरी 2008 में राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया गया है.

किशाऊ बाँध परियोजना एशिया का दूसरी सबसे बड़ी बाँध परियोजना होगी. जिसे इसकी ऊंचाई 236 मीटर एवं लम्बाई 680 मीटर होगी. किशाऊ परियोजना उत्तराखण्ड राज्य के जनपद देहरादून एवं हिमाचल प्रदेश के जनपद सिरमौर में टोंस नदी पर प्रस्तावित है, इसमें 1324 एम.सीए.एम.

यह भी पढ़ें -  अंकिता भंडारी हत्याकांड मामला: परिवार ने अंतिम संस्कार करने से किया इनकार, सामने आई ये वजह

जीवत भण्डारण द्वारा 97076 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई, 617 एम.सी.एम. पेयजल एवं औद्योगिक उपयोग हेतु जल प्राप्त होगा, जिससे तीन राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान की सिंचाई आवश्यकता तथा दिल्ली की पेयजल आवश्यकता की पूर्ति की जा सकेगी, साथ ही साथ 660 मेगावाट जल विद्युत उत्पादन होगा, जिससे 1379 एम.यू. हरित विद्युत ऊर्जा प्राप्त होगी जो कि उत्तराखण्ड व हिमाचल प्रदेश को बराबर-बराबर प्राप्त होगी.

केन्द्रीय जल आयोग द्वारा परियोजना की कुल लागत मार्च, 2018 के मूल्य स्तर के अनुसार रू० 11550 करोड़, जिसमें जल घटक की लागत रु. 10013.96 करोड़ एवं विद्युत घटक की लागत रु. 1536.04 करोड़ आंकी गई है. वर्तमान में परियोजना की डीपीआर का कार्य प्रगति पर है, जिसमें परियोजना की लागत बढ़ने का अनुमान है.

राष्ट्रीय परियोजना होने के दृष्टिगत परियोजना के क्रियान्वयन हेतु जल घटक लागत (सिंचाई एवं पीने का पानी) का 90 प्रतिशत वित्तीय पोषण भारत सरकार द्वारा एवं 10 प्रतिशत वित्तीय पोषण लाभार्थी राज्यों द्वारा वहन किया जाएगा तथा विद्युत घटक लागत को उत्तराखण्ड व हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा संयुक्त रूप से बराबर-बराबर वहन किया जाना है. बैठक में उत्तराखण्ड से सचिव आर मीनाक्षी सुन्दरम, हरि चंद्र सेमवाल व जल शक्ति मंत्रालय भारत सरकार के अधिकारी उपस्थित थे.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 27-09-2022: आज वृश्चिक को कारोबार में मिलेंगे लाभ के अवसर, जानिए अन्य...

0
मेष-: मन परेशान हो सकता है. मानसिक शान्ति बनाये रखने के लिए प्रयास करें. परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. पिता का साथ...

27 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 27 सितम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

शारदीय नवरात्रि का दूसरा दिन: ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानें विधि और...

0
26 सितम्बर 2022 से चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हो गई है. नवरात्रि के दौरान मां के 9 रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है....

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने ‘समूह ग’ की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा...

0
उत्तराखंड में बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर है. उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की ओर से सोमवार को 'समूह ग' 23 परीक्षाओं के लिए...

सीएम धामी ने दिए मानसखण्ड कॉरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग, एनएच और बीआरओ के प्रदेश में निर्माणाधीन और प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा की. मुख्यमंत्री...

सीएम धामी का सख्त फैसला: उत्तराखंड में होटल, रिजॉर्ट और होमस्टे में अब नहीं...

0
उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्टिव मोड में है. वहीं दूसरी ओर अंकिता भंडारी मर्डर केस...

मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी, 13 लोगों की मौत-कई घायल

0
सोमवार को मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी हुई, जिसमें कई छात्र घायल हुए. वहीं जिस शख्स ने फायरिंग की उसने खुद...

नंदा गौरा योजना की 80 हजार लाभार्थी बालिकाओं को सीएम धामी ने हस्तांतरित की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में...

अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने पर भी खड़ा हुआ संकट

0
फिलहाल जैसे राजस्थान में सियासी माहौल बयां कर रहे हैं उससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का भी संकट...

राजस्थान कांग्रेस में घमासान, अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले गहलोत-पायलट के गुट ने...

0
राजनीति के मैदान में भी उलटफेर होना आम हो चला है. अब पार्टी के विधायक या सांसद क्या अच्छा है, क्या बुरा, स्वयं फैसला...
%d bloggers like this: