उत्तराखंड ने अपनी महान वीरांगना तीलू रौतेली के अदम्य शौर्य-वीरता को किया याद


आज 8 अगस्त है. यह तारीख उत्तराखंड वासियों में अदम्य, शौर्य-वीरता के लिए याद की जाती है. आज महान वीरांगना तीलू रौतेली का जन्मदिन है. इस मौके पर पूरी देवभूमि अपनी महान योद्धा बेटी को याद करते हुए नमन कर रही है. कोरोना महामारी की वजह से राज्य सरकार ने हालांकि कोई बड़े कार्यक्रम आयोजित नहीं किए हैं, लेकिन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने महान वीरांगना तीलू रौतेली के जन्मदिन पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं.

आपको बताते हैं महान योद्धा तीलू रौतेली कौन थी तीलू रौतेली एक ऐसा नाम हैं जो रानी लक्ष्मीबाई, दुर्गावती, चांदबीबी, जियारानी जैसी पराक्रमी महिलाओं में अपना एक उल्लेखनीय स्थान रखता हैं. 15 से 20 वर्ष की आयु में सात युद्ध लड़ने वाली तीलू रौतेली संभवत विश्व की एक मात्र वीरांगना है. तीलू का मूल नाम तिलोत्तमा देवी था. इनका जन्म 8 अगस्त 1661 को ग्राम गुराड़, चौंदकोट (गढ़वाल) के भूप सिंह (गोर्ला)रावत तथा मैणावती रानी के घर में हुआ.

तीलू के दो भाई भगतु और पत्वा थे. 15 वर्ष की उम्र में तीलू की सगाई हो गई. इसी उम्र में गुरु शिबू पोखरियाल ने तीलू को घुड़सवारी और तलवारबाजी के सारे गुर सिखा दिए. बचपन में ही तीलू ने अपने लिए सबसे सुंदर घोड़ी ‘बिंदुली’ का चयन कर लिया था. तीलू रौतेली ने इसी घोड़ी से अपने सातों युद्ध में विजय प्राप्त की थी.

कत्यूरों के अत्याचार के खिलाफ तीलू रौतेली ने उठाई थी तलवार
देवभूमि में कहा जाता है कि लोग कत्यूरों के अत्याचारों से बहुत परेशान थे. जब भी गढ़वाल में फसल काटी जाती थी वैसे ही कुमाऊं से कत्यूर सैनिक लूटपाट करने आ जाते थे. फसल के साथ-साथ ये अन्य सामान और बकरियां तक उठाकर ले जाते थे. ऐसे ही एक आक्रमण में तीलू के पिता, दोनों भाई और मंगेतर शहीद हो गए थे. इस भारी क्षति से तीलू की मां मैणा देवी को बहुत दुख हुआ और उन्होंने तीलू को आदेश दिया कि वह नई सेना गठित करके कत्यूरों पर चढ़ाई करे.

इसके बाद तीलू ने फौज गठित की, तब उनकी उम्र महज 15 साल की थी. लगातार 7 वर्षों तक बड़ी चतुराई से तीलू ने रणनीति बनाकर कत्यूरों का सर्वनाश कर दिया. बेला और देवकी ने भी तीलू के साथ लड़ाई लड़ी. कुमाऊं में जहां बेला शहीद हुई उस स्थान का नाम बेलाघाट और देवकी के शहीद स्थल को देघाट कहते हैं. अंत में जब तीलू लड़ाई जीतकर अपने गांव गुराड वापस आ रही थी तो रात को पूर्वी नयार में स्नान करते समय कत्यूर सैनिक रामू रजवाड़ ने धोखे से उनकी हत्या कर दी.

आज लगभग 350 वर्ष के बाद भी उत्तराखंड के लोग अपनी महान वीरांगना के शौर्य-वीरता को नहीं भूले हैं. अपूर्व शौर्य, संकल्प और साहस की धनी वीरांगना, जिसे गढ़वाल के इतिहास में झांसी की रानी कहकर याद किया जाता है.

वीरांगना तीलू के जन्मदिन पर महिलाओं को दिए जाते हैं राज्य स्तरीय पुरस्कार
राज्य सरकार हर वर्ष योद्धा तीलू रौतेली के जन्मदिन पर महिलाओं को पुरस्कृत करती है, प्रदेश सरकार की ओर से उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को हर साल पुरस्कृत किया जाता है. उत्तराखंड की 21 महिलाओं को इस वर्ष के तीलू रौतेली राज्य स्तरीय पुरस्कार के लिए चुना गया है. 22 आंगनबाड़ी वर्कर को भी विभागीय पुरस्कार के लिए चुना गया है. पुरस्कार वितरण समारोह कल शनिवार को तीलू रौतेली के जन्मदिन पर वर्चुअल माध्यम से होगा.

तीलू रौतेली पुरस्कार के लिए चुनी गई महिलाओं को 21 हजार की धनराशि और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है. जबकि, चयनित आंगनबाड़ी वर्कर को दस हजार की राशि दी जाती है. प्रदेश की राज्यमंत्री रेखा आर्य ने बताया कि इस साल कोविड के कारण सचिवालय से वर्चुअल समारोह के जरिए पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे.

यहां हम आपको बता दें कि 15 से 20 साल की आयु में सात युद्ध लड़ने वाली तीलू रौतेली विश्व की एकमात्र वीरांगना है, जिनकी जयंती पर प्रदेश सरकार की ओर से उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को हर साल पुरस्कृत किया जाता है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

थारू राजकीय इण्टर कॉलेज पहुंचे सीएम धामी, बच्चों के बीच स्कूली दिनों को याद...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अपने जनपद खटीमा भ्रमण के दौरान थारू राजकीय इंटर कॉलेज पहुंचकर परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में प्रतिभाग किया. सीएम...

उत्तराखंड के 2 स्कूलों में 42 बच्चे वायरल फीवर से हुए बीमार, 14 बच्चे...

0
उत्तराखंड के पहाड़ों में एक बार फिर से वायरल बुखार स्कूली छात्र छात्राओं को अपना शिकार बना रहा है. अल्मोड़ा सोमेश्वर क्षेत्र के 2...

तुर्किये में आए भूकंप में एक भारतीय लापता, 10 दूरदराज के इलाकों में फंसे-सरकार...

0
तुर्किये और सीरिया में आए भूंकप से हालात बिगड़ गए हैं. अब तक कुल 11,416 लोगों की मौत हो चुकी है. घायलों की संख्या...

पिथौरागढ़: मुख्य सचिव एसएस संधु ने नैनी सैनी एयरपोर्ट और बेस चिकित्सालय का किया...

0
उत्तराखंड के मुख्य सचिव एसएस संधु ने जनपद के नैनी सैनी एयरपोर्ट एवं पिथौरागढ़ स्थित बेस चिकित्सालय भवन का स्थलीय निरीक्षण किया. मुख्य सचिव...

उत्तराखंड को केंद्र से मिल रही लगातार सौगाते, सीएम धामी ने जताया आभार

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड को विशेष सहायता के तहत 65.92 करोड़ रुपए तथा पूंजीगत परिव्यय के रूप में 72 करोड़ रुपए की...

रेलवे स्टेशन के नाम हमेशा पीले बोर्ड पर ही क्यों लिखे जाते हैं, जानिए...

0
आपने भी कभी न कभी तो ट्रेन में सफर किया ही होगा. लेकिन क्या अपने कभी गौर किया है कि रेलवे स्टेशन के नाम...

सर्दी-जुकाम को जल्दी ठीक करने में कारगर है काली मिर्च, जानें इसके फायदे और...

0
आपको अगर कुछ दिनों से खांसी-जुकाम है, तो आज हम आपको बता रहे हैं खांसी-जुकाम दूर करने का ऐसा घरेलू नुस्खा, जो आपकी शुरुआती...

यूपी: मुरादाबाद में बस स्टेशन के पास लगा लंगूर का पोस्टर, जानिए पूरा मामला

0
यूपी के मुदाराबाद में सरकारी बस स्टेशन पर लंगूर के बड़े-बड़े फोटो के साथ फायर साउंड सेंसर मशीनें लगाई गई हैं. ये इंतजाम वहां...

पीएम मोदी पर बयान देकर बुरे फंसे मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्यसभा अध्यक्ष बोले-ये आपको शोभा...

0
राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के एक बयान पर सदन में हंगामा हो गया. खड़गे ने बुधवार को पीएम नरेंद्र मोदी पर...

दिल्ली आबकारी नीति मामला: सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, तेलंगाना के सीएम की बेटी के...

0
सीबीआई ने दिल्ली आबकारी नीति मामले में बड़ी कार्रवाई की है. सीबीआई ने हैदराबाद के चार्टर्ड अकाउंटेंट बुच्ची बाबू गोरंटला को बुधवार को गिरफ्तार...
%d bloggers like this: