नई शिक्षा नीति पर बोले पीएम मोदी, मैथमैटिकल सोच पर दिया जोर


नई दिल्‍ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को देश की नई उम्मीदों, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम बताया है. उन्‍होंने कहा कि इसके पीछे पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत है, हर क्षेत्र, हर विधा, हर भाषा के लोगों ने इस पर दिन रात काम किया है. शिक्षा मंत्रालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने को लेकर देशभर के शिक्षकों से #MyGov पर सुझाव मांगे थे और एक सप्ताह के भीतर 15 लाख से ज्यादा सुझाव मिले, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति को और ज्यादा प्रभावी तरीके से लागू करने में मदद करेंगे.

पीएम मोदी शुक्रवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 (NEP) के तहत ’21वीं सदी में स्कूली शिक्षा’ पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित कर रहे थे, जब उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति को इस तरह तैयार किया गया है कि पाठ्यक्रम को कम किया जा सके और मौलिक चीजों पर ध्यान केन्द्रित किया जा सके. इसके तहत लर्निंग को एकीकृत एवं अंतर-विषयी, मनोरंजक और आनुभविक बनाने के लिए एक नेशनल कैरिकुलम फ्रेमवर्क बनाया जाएगा. इस दौरान शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल भी उपस्थित रहे.

पीएम मोदी ने कहा कि हमें एक वैज्ञानिक बात को समझने की जरूरत है कि भाषा शिक्षा का माध्यम है, भाषा ही सारी शिक्षा नहीं है. जिस भी भाषा में बच्चा आसानी से सीख सके, वही भाषा पढ़ाई की भाषा होनी चाहिए. कहीं ऐसा तो नहीं कि विषय से ज्यादा बच्चे की ऊर्जा भाषा को समझने में खप रही है. एक टेस्ट, एक मार्क्सशीट क्या बच्चों के सीखने की, उनके मानसिक विकास का मापदंड हो सकता है? आज सच्चाई ये है कि मार्क्सशीट, मानसिक प्रैशरशीट बन गई है. सीख तो बच्चे तब भी कर रहे होते हैं जब वो खेल रहे होते हैं, जब वो परिवार में बात कर रहे होते हैं, जब वो बाहर आपके साथ घूमने जाते हैं. लेकिन अक्सर माता-पिता भी बच्चों से ये नहीं पूछते कि क्या सीखा? वो भी यही पूछते हैं कि मार्क्स कितने आए.

पीएम मोदी ने छात्रों को विभिन्‍न विषयों की जानकारी देने पर भी जोर दिया और कहा, क्या वास्‍तव‍िक दुनिया में हमारे आपके जीवन में ऐसा होता है कि केवल एक ही फील्ड की जानकारी से सारे काम हो जाएं? वास्‍तव में सभी विषय एक दूसरे से जुड़े हुए हैं. हमारी पहले की जो शिक्षा नीति रही, उसने छात्रों को बहुत बांध भी दिया था. जो विद्यार्थी साइंस लेता है, वह आर्ट्स या कॉमर्स नहीं पढ़ सकता था. ऑर्ट्स-कॉमर्स वालों के लिए मान लिया गया कि ये इतिहास, भूगोल, अकाउंट्स इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि ये साइन्स नहीं पढ़ सकते. हमें अपने छात्रों को 21वीं सदी के कौशल के साथ आगे बढ़ाना है.

अब सवाल है कि 21वीं सदी के कौशल क्‍या होंगे? तो गहन सोच, रचनात्मकता, सहभागिता, उत्‍सुकता, कम्‍युनिकेशन कुछ ऐसी कुशलताएं हैं, जो मौजूदा दौर की आवश्‍यकता है. बहुत से प्रोफेशन हैं, जिनमें बहुत गहरे कौशल की जरूरत होती है, लेकिन हम उन्हें महत्व नहीं देते. अगर छात्र इन्हें देखेंगे तो एक तरह का भावनात्मक जुड़ाव होगा, उनका सम्‍मान करेंगे. हो सकता है बड़े होकर इनमें से कई बच्चे ऐसे ही उद्योगों से जुड़ें, उन्हें आगे बढ़ाएं. देशभर में हर क्षेत्र की अपनी कुछ न कुछ खूबी है, कोई न कोई पारंपरिक कला, कारीगरी, उत्‍पाद हर जगह के मशहूर हैं. स्टूडेंट्स उन करघों, हथकरघों में जाएं और देखें आखिर ये कपड़े बनते कैसे हैं? स्कूलों में भी ऐसे दक्ष लोगों को बुलाया जा सकता है.

पीएम मोदी ने कहा, हमें आसान और नए-नए तौर-तरीकों को बढ़ाना होगा. उन्‍होंने कहा कि जब शिक्षा को आस-पास के परिवेश से जोड़ दिया जाता है तो उसका प्रभाव विद्यार्थी के पूरे जीवन पर पड़ता है. पूरे समाज पर भी पड़ता है. बच्चों में मैथमैटिकल थिंकिंग और साइंटिफिक टेंपरामेंट विकसित हो, ये बहुत आवश्यक है. पीएम मोदी ने कहा कि मैथमैटिकल थिंकिंग का मतलब केवल यही नहीं है कि बच्चे केवल गणित के प्रॉब्लम ही सॉल्व करें, बल्कि ये सोचने का एक तरीका है.

Related Articles

नैनीताल: कुमाऊं विश्वविद्यालय ने चार सौ विद्यार्थियों परीक्षाफल रोका

कुमाऊं विश्वविद्यालय ने संबद्ध परिसरों, महाविद्यालयों और संस्थानों के करीब चार सौ...

एनएसए, सीडीएस और सेना प्रमुख की रणनीति के आगे चीन पस्त, एलएसी पर नहीं चल पा रही ‘चालबाजी’

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना वास्वतिक नियंत्रण...

मुंबई: भिवंडी में 3 मंजिला इमारत गिरी, 8 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

मुंबई| महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से बड़े हादसे की खबर है.

राशिफल 21-09-2020: आज का दिन इन राशि वालों के लिए रहेगा कठिन

मेष:- आज भाग्य उदय का समय है. नौकरी मिलने की संभावनाओं के...

DC vs KXIP IPL: दिल्ली कैपिटल्स का रोमांचक आगाज, सुपर ओवर में किंग्ल इलेवन पंजाब को दी मात

दुबई| रविवार को आईपीएल के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स...

ओरेकल अमेरिका में चीनी कंपनी टिकटॉक को खरीदेगा

वाशिंगटन| अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनी ओरेकल...

NEET 2020: नीट परीक्षा का रिजल्ट जल्द होगा घोषित, ऐसे कर पाएंगे चेक

राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (NEET) 2020 के परिणाम राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा...

Latest Updates

राशिफल 21-09-2020: आज का दिन इन राशि वालों के लिए रहेगा कठिन

मेष:- आज भाग्य उदय का समय है. नौकरी मिलने की संभावनाओं के बीच समय पर अवसरों का लाभ लें. वृषभ:- धन निवेश...

21 सितम्बर 2020 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 21सितम्बर 2020 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो,...

DC vs KXIP IPL: दिल्ली कैपिटल्स का रोमांचक आगाज, सुपर ओवर में किंग्ल इलेवन पंजाब को दी मात

दुबई| रविवार को आईपीएल के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब की भिड़ंत हो रही है. रविचंद्रन अश्विन, अमित...

अन्य खबरें

जबरदस्त हंगामे के बीच राज्यसभा से पारित हुआ कृषि बिल, सांसदों ने रूल बुक फाड़ी और माइक तोड़ा

नई दिल्ली| राज्यसभा में कृषि बिल 2020 पर चर्चा के दौरान रविवार को जबरदस्त हंगामा हुआ. हंगामे की वजह से राज्यसभा...

राज्यसभा में बिल पास कराने के लिए मोदी सरकार को अभी भी अन्य दलों से करनी पड़ रही है ‘जी हुजूरी’

पिछले तीन दिनों से केंद्र की भाजपा सरकार एक बार फिर परेशान है. मोदी सरकार की परेशानी का बड़ा कारण राज्यसभा में...

कृषि विधेयक पास कराना सरकार के लिए चुनौती, विरोध में केजरीवाल ने की ये अपील

नई दिल्ली| लोकसभा में कृषि विधेयकों के पारित होने के बाद अब इस विधेयक को राज्यसभा में पेश किया जा सकता है...

उद्धव-आदित्य और सुप्रिया सुले की बढ़ी मुश्किलें, चुनावी हलफनामे में संपत्ति और देनदारी की गलत जानकारी देने का आरोप

मुंबई| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे , उनके बेटे आदित्य ठाकरे और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले फिलहाल मुश्किल में...

‘बॉर्डर पर होने वाली झड़पें बढ़ रही हैं और लोग मर रहे हैं’- पाकिस्तान के साथ बातचीत के पक्ष में फारूक अब्दुल्ला

नई दिल्ली| नेशनल कॉन्फेंस के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर कश्मीर में शांति के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत पर...

योगी सरकार के मंत्री ने कहा लव जिहाद रोकने के लिए यूपी में बनेगा कानून

यूपी योगी सरकार के एक मंत्री ने लव जिहाद रोकने के लिए महत्वपूर्ण बयान दिया है.‌ यह बयान यूपी शासन की ओर...