नई शिक्षा नीति पर बोले पीएम मोदी, मैथमैटिकल सोच पर दिया जोर


नई दिल्‍ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को देश की नई उम्मीदों, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम बताया है. उन्‍होंने कहा कि इसके पीछे पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत है, हर क्षेत्र, हर विधा, हर भाषा के लोगों ने इस पर दिन रात काम किया है. शिक्षा मंत्रालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने को लेकर देशभर के शिक्षकों से #MyGov पर सुझाव मांगे थे और एक सप्ताह के भीतर 15 लाख से ज्यादा सुझाव मिले, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति को और ज्यादा प्रभावी तरीके से लागू करने में मदद करेंगे.

पीएम मोदी शुक्रवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 (NEP) के तहत ’21वीं सदी में स्कूली शिक्षा’ पर आयोजित एक सम्मेलन को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित कर रहे थे, जब उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति को इस तरह तैयार किया गया है कि पाठ्यक्रम को कम किया जा सके और मौलिक चीजों पर ध्यान केन्द्रित किया जा सके. इसके तहत लर्निंग को एकीकृत एवं अंतर-विषयी, मनोरंजक और आनुभविक बनाने के लिए एक नेशनल कैरिकुलम फ्रेमवर्क बनाया जाएगा. इस दौरान शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल भी उपस्थित रहे.

पीएम मोदी ने कहा कि हमें एक वैज्ञानिक बात को समझने की जरूरत है कि भाषा शिक्षा का माध्यम है, भाषा ही सारी शिक्षा नहीं है. जिस भी भाषा में बच्चा आसानी से सीख सके, वही भाषा पढ़ाई की भाषा होनी चाहिए. कहीं ऐसा तो नहीं कि विषय से ज्यादा बच्चे की ऊर्जा भाषा को समझने में खप रही है. एक टेस्ट, एक मार्क्सशीट क्या बच्चों के सीखने की, उनके मानसिक विकास का मापदंड हो सकता है? आज सच्चाई ये है कि मार्क्सशीट, मानसिक प्रैशरशीट बन गई है. सीख तो बच्चे तब भी कर रहे होते हैं जब वो खेल रहे होते हैं, जब वो परिवार में बात कर रहे होते हैं, जब वो बाहर आपके साथ घूमने जाते हैं. लेकिन अक्सर माता-पिता भी बच्चों से ये नहीं पूछते कि क्या सीखा? वो भी यही पूछते हैं कि मार्क्स कितने आए.

पीएम मोदी ने छात्रों को विभिन्‍न विषयों की जानकारी देने पर भी जोर दिया और कहा, क्या वास्‍तव‍िक दुनिया में हमारे आपके जीवन में ऐसा होता है कि केवल एक ही फील्ड की जानकारी से सारे काम हो जाएं? वास्‍तव में सभी विषय एक दूसरे से जुड़े हुए हैं. हमारी पहले की जो शिक्षा नीति रही, उसने छात्रों को बहुत बांध भी दिया था. जो विद्यार्थी साइंस लेता है, वह आर्ट्स या कॉमर्स नहीं पढ़ सकता था. ऑर्ट्स-कॉमर्स वालों के लिए मान लिया गया कि ये इतिहास, भूगोल, अकाउंट्स इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि ये साइन्स नहीं पढ़ सकते. हमें अपने छात्रों को 21वीं सदी के कौशल के साथ आगे बढ़ाना है.

अब सवाल है कि 21वीं सदी के कौशल क्‍या होंगे? तो गहन सोच, रचनात्मकता, सहभागिता, उत्‍सुकता, कम्‍युनिकेशन कुछ ऐसी कुशलताएं हैं, जो मौजूदा दौर की आवश्‍यकता है. बहुत से प्रोफेशन हैं, जिनमें बहुत गहरे कौशल की जरूरत होती है, लेकिन हम उन्हें महत्व नहीं देते. अगर छात्र इन्हें देखेंगे तो एक तरह का भावनात्मक जुड़ाव होगा, उनका सम्‍मान करेंगे. हो सकता है बड़े होकर इनमें से कई बच्चे ऐसे ही उद्योगों से जुड़ें, उन्हें आगे बढ़ाएं. देशभर में हर क्षेत्र की अपनी कुछ न कुछ खूबी है, कोई न कोई पारंपरिक कला, कारीगरी, उत्‍पाद हर जगह के मशहूर हैं. स्टूडेंट्स उन करघों, हथकरघों में जाएं और देखें आखिर ये कपड़े बनते कैसे हैं? स्कूलों में भी ऐसे दक्ष लोगों को बुलाया जा सकता है.

पीएम मोदी ने कहा, हमें आसान और नए-नए तौर-तरीकों को बढ़ाना होगा. उन्‍होंने कहा कि जब शिक्षा को आस-पास के परिवेश से जोड़ दिया जाता है तो उसका प्रभाव विद्यार्थी के पूरे जीवन पर पड़ता है. पूरे समाज पर भी पड़ता है. बच्चों में मैथमैटिकल थिंकिंग और साइंटिफिक टेंपरामेंट विकसित हो, ये बहुत आवश्यक है. पीएम मोदी ने कहा कि मैथमैटिकल थिंकिंग का मतलब केवल यही नहीं है कि बच्चे केवल गणित के प्रॉब्लम ही सॉल्व करें, बल्कि ये सोचने का एक तरीका है.

यह भी पढ़ें -  ऋचा चड्ढा को सपोर्ट करना ब्यूटी ब्रांड मामाअर्थ को पड़ा भारी, बॉयकॉट के बाद कंपनी ने मांगी माफी

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

बड़ी खबर: उत्तराखंड में हर साल बढ़ेगा यात्री किराया और मालभाड़ा, एसटीए की बैठक...

0
देहरादून| प्रदेश में अब हर साल एक अप्रैल को यात्री किराया और मालभाड़ा बढ़ जाएगा. राज्य परिवहन प्राधिकरण (एसटीए) की बैठक में इसे सैद्धांतिक...

ऋचा चड्ढा को सपोर्ट करना ब्यूटी ब्रांड मामाअर्थ को पड़ा भारी, बॉयकॉट के बाद...

0
भारतीय सेना पर बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा की टिप्पणी के समर्थन में उतरा ब्यूटी प्रोडक्ट कंपनी मामाअर्थ (Mamaearth) अब लोगों के निशाने पर...

GATE Jam 2023: गेट जैम परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की सूची हुई अपडेट,...

0
आईआईटी की ओर से फरवरी में आयोजित की जाने वाली आईआईटी गेट जैम परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की सूची अपडेट की गई है....

अंतरिक्ष में ISRO की एक और उड़ान, श्रीहरि कोटा से 8 नैनो सैटेलाइट समेत...

0
ISRO ने एकर बार फिर इतिहास रचा। बता दें, श्रीहरि कोटा से ओशनसैट-3 समेत 8 नैनो सैटेलाइट को लॉन्च किया गया है। इसी के...

UP News: लोहा गलाने की भट्टी में गिरने से मैनेजर की मौत

0
उत्तरप्रदेश में स्थित हापुड़ जिले से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां लोहा गलाने वाली फैक्ट्री की भट्टी में गिरने से...

दिल्ली: सत्येंद्र जैन को कोर्ट से लगा बड़ा झटका, नहीं मिलेगा धार्मिक मान्यताओं के...

0
मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल के अंदर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन को दिल्ली की एक कोर्ट ने झटका मिला है. राउज एवेन्यू...

रहस्यों से भरा है हैदराबाद का गोलकोंडा किला, जानें इसकी अनोखी खूबियों के बारे...

0
प्राचीन काल से ही भारत किलों और स्मारकों का देश माना जाता है, ऐसा इसलिए क्योंकि हमारे देश में अंग्रेजों से पहले अलग-अलग इलाकों...

फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता विक्रम गोखले का निधन, 77 साल की उम्र...

0
सिनेमा जगत से एक दुखद खबर सामने आई है. टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता विक्रम गोखले का निधन हो गया है....

रामेश्वरम: मछुआरों ने लगाया श्रीलंकाई सेना पर हमले का आरोप, जैसे तैसे बचायी जान

0
रामेश्वरम के भारतीय मछुआरों ने श्रीलंकाई नौसेना पर आरोप लगाते हुए कहा की, आज श्रीलंकाई नौसेना ने तड़के उनकी नाव पर हमला किया। आरोप...

पेटीएम को लगा तगड़ा झटका! आरबीआई ने खारिज किया पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस का आवेदन

0
भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट सर्विस (पीएसएसएल) द्वारा पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस प्राप्त करने के लिए किए आवेदन को खारिज कर दिया है. इसे...
%d bloggers like this: