जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग मुठभेड़ के दौरान सेना के दो अधिकारी और जम्मू पुलिस के एक डीएसपी शहीद

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान सेना की राष्ट्रीय राइफल्स यूनिट के एक कर्नल, एक मेजर और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक डीएसपी शहीद हो गए. मुठभेड़ के दौरान कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष धौंचक और डीएसपी हुमायूं भट्ट शहीद हो गए. कर्नल मनप्रीत सिंह 19 राष्ट्रीय राइफल्स (19 आरआर) यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर थे और प्रतिष्ठित सेना मेडल (एसएम) मिल चुका है.

जैसे ही सेना को आतंकियों की मौजूदगी की जानकारी मिली तो एक ऑपरेशन लॉन्च किया गया. इस ऑपरेशन में खुद कमांडिंग ऑफिसर मौके पर पहुंचे, लेकिन जैसे ही वह अपनी गाड़ी से उतरे तो आतंकियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. इस गोलीबारी में कमांडिंग ऑफिसरों को गोली लगी.

जहां यह गोलीबार हुई वहां पर घना जंगल था इसके चलते सेना अपने अफसरों का इवेक्युएशन नहीं हो सका. बताया जा रहा है कि ज्यादा खून बह जाने के चलते उनकी मौत हो गई. कमांडिंग ऑफिसर कर्नल मनप्रीत सिंह पिछले 5 साल से अनंतनाग जिले में पोस्टेड थे.

कर्नल कर्नल मनप्रीत सिंह पहले वर्ष 2019 से लेकर 2021 तक सेकेंड इन कमांड (2IC)के तौर पर तैनात थे और उसके बाद वह कमांडिंग अफसर के तौर पर 19 RR का बागडोर संभाल रहे थे. मनप्रीत सिंह को सेना मेडल (गैलेंट्री) से भी नवाजा गया था. वहीं इस साल 15 अगस्त को मेजर आशीष धौंचक को भी सेना मेडल (गैलेंट्री) अवॉर्ड से इस 15 अगस्त को नवाजा गया था. सूत्रों के मुताबिक यह वही आतंकी गुट हो सकता है, जिसमें रमजान के दौरान राजौरी में सेना के ट्रक पर हमला किया था, जिसमें 5 सैनिकों की जान चली गई थी.

हरियाणा के पानीपत जिले के बिंझौल गांव के लिए बुधवार का दिन किसी सदमे से कम नहीं था. खबर आई कि गांव का लाल मेजर आशीष ढौंचक जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हो गए. जैसे ही यह खबर गांव के लोगों को मिली तो वहां पर शोक छा गया. अब आशीष के बचपन और बहादुरी के किस्सों की लोग चर्चा कर रहे हैं. दरअसल, शहीद मेजर आशीष पानीपत जिले के बिंझौल गांव के रहने वाले थे. वह तीन बहनों का इकलौता भाई थे. बताया जा रहा है कि आशीष छह माह पहले अपने साले की शादी के लिए छुट्टी लेकर घर आए थे. था. उनके पिता और मां पानीपत के सेक्टर-7 में किराए के मकान में रहते हैं.

आशीष धौंचक ने 2013 में पहले ही परीक्षा में एसएसबी की परीक्षा पास की और लेफ्टिनेंट बने. बचपन में अपने साथी दोस्तों के साथ चोर-पुलिस खेलते वक्त आशीष हमेशा पुलिस बनते थे और उनका शुरुआत से रूझान सेना और पुलिस की तरफ था. बताया जा रहा है कि आशीष का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचेगा. उनके पैतृक गांव बिंझौल में राज्य के सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा.







Related Articles

Latest Articles

पांचवे चरण के मतदान से पहले चुनाव आयोग ने जब्त किए 8889 करोड़ रुपये

0
लोकसभा चुनाव 2024 के पांचवे चरण का चुनाव में 2 दिन बचे हैं. इस बीच चुनाव आयोग इलेक्शन के दौरान वोटरों को लुभाने के...

स्वाति मालीवाल मामला: बिभव कुमार की याचिका कोर्ट से खारिज, जानें आगे क्या होगा

0
स्वाति मालीवाल मारपीट मामले में लगातार अपडेट सामने आ रहे हैं. शनिवार को इस घटनाक्रम में उस वक्त नया मोड़ आया जब दिल्ली पुलिस...

हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत, दो की मौत-तीन घायल

0
हल्द्वानी से बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है. शुक्रवार देर रात को हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत...

भारतीय टीम टी 20 वर्ल्ड कप के लिए तैयार, टूनामेंट जल्द होगी टीम रवाना

0
आईपीएल 2024 सीजन अब अपने अंतिम चरण में है और अगले रविवार को इसका फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। इस मौजूदा सीजन के समाप्त होते...

दिल्ली: स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट आई सामने, दाहिने गाल और बाएं पैर पर...

0
दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट में उनके बाएं पैर और दाहिने गाल पर चोट के निशान पाए...

हाईकोर्ट शिफ्टिंग को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कुमाऊं-गढ़वाल के बीच दंगल...

0
उत्तराखंड के कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व राज्यमंत्री डॉ. गणेश उपाध्याय ने हाल ही में एक बयान में कहा है कि हाईकोर्ट के मुद्दे...

सीएम धामी ने चारधाम यात्रा को लेकर की बैठक, अधिकारियों को जनता से फीडबैक से दिए...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्चुअल माध्यम से चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए चार धाम ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व्यवस्था को और अधिक प्रभावी...

उत्तराखंड में बढ़ती गर्मी के साथ ही बढ़ी बिजली की मांग, मैदानी जिलों में...

0
लगातार बढ़ती गर्मी के साथ-साथ बिजली की मांग ने अब एक रिकॉर्ड 5.5 करोड़ के पार पहुंच गई है। इस मौसम में मैदानी जिलों...

हल्द्वानी: 14 साल बाद 41 पार हुआ पारा, बाजारों में कर्फ्यू जैसे हालात

0
कुमाऊं में इस समय मौसम का अलग-अलग मिजाज देखने को मिल रहा है। पहाड़ी जिलों में हल्की बारिश की फुहारों ने मौसम को सुहावना...

यमनोत्री मार्ग पर कई घोड़ो की मौत, श्रद्धालुओं के साथ साथ बेजुबानों के लिए भी...

0
भडेलीगाड यमुनोत्री वैकल्पिक मार्ग पर एक घोड़े की मौत ने वन विभाग की लचर कार्यप्रणाली को उजागर कर दिया है। इस मार्ग की दुर्दशा...