डीडी न्यूज का लोगो केसरिया होने पर सियासी घमासान, विपक्ष ने घेरा

दूरदर्शन के तहत आने वाला सरकारी चैनल डीडी न्यूज अपने लोगो में किए गए बदलाव को लेकर विपक्षी दलों के निशाने पर आ गया है. दरअसल, पिछले दिनों डीडी न्यूज ने अपने नए लोगो का अनावरण किया था. नए लोगो के कलर को रूबी लाल से बदलकर केसरिया कर दिया गया है. सरकारी चैनल के इस तरह भगवाकरण होने से इसकी आलोचना की जा रही है.

दूसरी तरफ ब्रॉडकास्टर ने इस मुद्दे को केवल विजुअल सौंदर्य में बदलाव के रूप में पेश किया है. विपक्षी दलों के नेताओं ने लोकसभा चुनावों से ठीक पहले बदलाव को लागू करने की आवश्यकता पर भी सवाल उठाया है.

दरअसल, मंगलवार शाम को डीडी न्यूज़ ने अपने आधिकारिक एक्स हैंडल पर अपने नए लोगो को एक वीडियो संदेश के साथ पोस्ट किया था. चैनल ने एक्स पर लिखा था “हालांकि हमारे मूल्य समान हैं, हम अब एक नए अवतार में उपलब्ध हैं. एक ऐसी समाचार यात्रा के लिए तैयार हो जाइए जो पहले कभी नहीं देखी गई. बिल्कुल नए डीडी न्यूज का अनुभव करें.” चैनल ने आगे लिखा “हमारे पास यह कहने का साहस है: गति से अधिक सटीकता, दावों से अधिक तथ्य, सनसनीखेज से अधिक सच्चाई… क्योंकि अगर यह डीडी न्यूज पर है तो यह सच है! डीडी न्यूज – भरोसा सच का.“

इसके तुरंत बाद टीएमसी के राज्यसभा सांसद जवाहर सरकार, जो 2012 और 2014 के बीच प्रसार भारती के सीईओ थे ने कहा, “नेशनल ब्रॉडकास्टर ने अपने ऐतिहासिक फ्लैगशिप लोगो को भगवा रंग में रंग दिया है. इसके पूर्व सीईओ के रूप में मैं इसके भगवाकरण को चिंता के साथ देख रहा हूं और महसूस कर रहा हूं – यह अब प्रसार भारती नहीं है, यह प्रचार (प्रचार) भारती है!”

एक अंग्रेजी अख़बार से बात करते हुए सरकार ने कहा, “यह सिर्फ लोगो नहीं है, सार्वजनिक प्रसारक के बारे में सब कुछ अब भगवा है. जहां सत्तारूढ़ दल के कार्यक्रमों और आयोजनों को अधिकतम प्रसारण समय मिलता है, वहीं विपक्षी दलों को अब शायद ही कोई जगह मिलती है.

वहीं लोगो में बदलाव के बाद विपक्ष की आलोचना पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रसार भारती के सीईओ गौरव द्विवेदी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि नए लोगो में आकर्षक नारंगी रंग है. उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले जी-20 (शिखर सम्मेलन) से पहले हमने डीडी इंडिया का पुनरुद्धार किया था और उस चैनल के लिए ग्राफिक्स के एक सेट पर फैसला किया था. हम विजुअल्स और तकनीकी रूप से डीडी न्यूज़ के पुनरुद्धार पर भी काम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, “चमकीले, आकर्षक रंग का उपयोग पूरी तरह से चैनल की ब्रांडिंग और दृश्य सौंदर्य के बारे में है और किसी के लिए भी इसमें कुछ और पढ़ना दुर्भाग्यपूर्ण है. यह केवल एक नया लोगो नहीं है, संपूर्ण रूप और अनुभव को उन्नत किया गया है.” वहीं अधिकारियों ने बताया कि जब 1959 में दूरदर्शन की शुरुआत हुई थी तो उस पर भगवा लोगो ही था. इसके बाद लोगो के लिए नीले, पीले और लाल जैसे अन्य रंग लाए गए.

Related Articles

Latest Articles

पांचवे चरण के मतदान से पहले चुनाव आयोग ने जब्त किए 8889 करोड़ रुपये

0
लोकसभा चुनाव 2024 के पांचवे चरण का चुनाव में 2 दिन बचे हैं. इस बीच चुनाव आयोग इलेक्शन के दौरान वोटरों को लुभाने के...

स्वाति मालीवाल मामला: बिभव कुमार की याचिका कोर्ट से खारिज, जानें आगे क्या होगा

0
स्वाति मालीवाल मारपीट मामले में लगातार अपडेट सामने आ रहे हैं. शनिवार को इस घटनाक्रम में उस वक्त नया मोड़ आया जब दिल्ली पुलिस...

हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत, दो की मौत-तीन घायल

0
हल्द्वानी से बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है. शुक्रवार देर रात को हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत...

भारतीय टीम टी 20 वर्ल्ड कप के लिए तैयार, टूनामेंट जल्द होगी टीम रवाना

0
आईपीएल 2024 सीजन अब अपने अंतिम चरण में है और अगले रविवार को इसका फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। इस मौजूदा सीजन के समाप्त होते...

दिल्ली: स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट आई सामने, दाहिने गाल और बाएं पैर पर...

0
दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट में उनके बाएं पैर और दाहिने गाल पर चोट के निशान पाए...

हाईकोर्ट शिफ्टिंग को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कुमाऊं-गढ़वाल के बीच दंगल...

0
उत्तराखंड के कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व राज्यमंत्री डॉ. गणेश उपाध्याय ने हाल ही में एक बयान में कहा है कि हाईकोर्ट के मुद्दे...

सीएम धामी ने चारधाम यात्रा को लेकर की बैठक, अधिकारियों को जनता से फीडबैक से दिए...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्चुअल माध्यम से चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए चार धाम ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व्यवस्था को और अधिक प्रभावी...

उत्तराखंड में बढ़ती गर्मी के साथ ही बढ़ी बिजली की मांग, मैदानी जिलों में...

0
लगातार बढ़ती गर्मी के साथ-साथ बिजली की मांग ने अब एक रिकॉर्ड 5.5 करोड़ के पार पहुंच गई है। इस मौसम में मैदानी जिलों...

हल्द्वानी: 14 साल बाद 41 पार हुआ पारा, बाजारों में कर्फ्यू जैसे हालात

0
कुमाऊं में इस समय मौसम का अलग-अलग मिजाज देखने को मिल रहा है। पहाड़ी जिलों में हल्की बारिश की फुहारों ने मौसम को सुहावना...

यमनोत्री मार्ग पर कई घोड़ो की मौत, श्रद्धालुओं के साथ साथ बेजुबानों के लिए भी...

0
भडेलीगाड यमुनोत्री वैकल्पिक मार्ग पर एक घोड़े की मौत ने वन विभाग की लचर कार्यप्रणाली को उजागर कर दिया है। इस मार्ग की दुर्दशा...