5 जजों की संविधान पीठ का बड़ा फैसला, सुप्रीम कोर्ट को शादी रद्द करने का अधिकार

सुप्रीम कोर्ट सीधे अपनी तरफ से शादी का जारी रहना असंभव होने की स्थिति में तलाक का आदेश दे सकता है. आपसी सहमति से तलाक के लिए लागू 6 महीने इंतज़ार की कानूनी बाध्यता भी ऐसी स्थिति में ज़रूरी नहीं होगी. सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की संविधान पीठ ने यह फैसला दिया है. बेंच ने कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत मिली विशेष शक्ति का इस्तेमाल कर सुप्रीम कोर्ट ऐसा आदेश दे सकता है.

हिंदू मैरिज एक्ट 1955 की धारा 13-B में इस बात का प्रावधान है कि अगर पति-पत्नी आपसी सहमति से तलाक के लिए फैमिली कोर्ट को आवेदन दे सकते हैं. लेकिन फैमिली कोर्ट में मुकदमों की अधिक संख्या के चलते जज के सामने आवेदन सुनवाई के लिए आने में समय लग जाता है. इसके बाद तलाक का पहला मोशन जारी होता है, लेकिन दूसरा मोशन यानी तलाक की औपचारिक डिक्री हासिल करने के लिए 6 महीने के इंतजार करना होता है.

सुप्रीम कोर्ट ने पहले कई मामलों में शादी जारी रखना असंभव होने के आधार पर अनुच्छेद 142 का इस्तेमाल करते हुए अपनी तरफ से तलाक का आदेश दिया था. अनुच्छेद 142 में इस बात का प्रावधान है कि न्याय के हित में सुप्रीम कोर्ट कानूनी औपचारिकताओं को दरकिनार करते हुए किसी भी तरह का आदेश दे सकता है.

2014 में ऐसा ही एक मामला आया, इसका केस टाइटल था- ‘शिल्पा शैलेश बनाम वरुण श्रीनिवासन’. इस मामले को सुनते हुए 2 जजों की बेंच ने सुप्रीम कोर्ट की शक्ति पर विचार करना जरूरी माना. यह देखने की ज़रूरत समझी कि क्या तलाक के मामलों में भी सुप्रीम कोर्ट को विशेष शक्ति का इस्तेमाल करना चाहिए और क्या शादी को जारी रखना असंभव होना भी इसके इस्तेमाल का आधार हो सकता है?

2016 में यह मामला 5 जजों की संविधान पीठ को भेज दिया गया. सितंबर 2022 में जस्टिस संजय किशन कौल, संजीव खन्ना, ए एस ओका, विक्रम नाथ और जे के माहेश्वरी ने इस मामले को सुना और अब बेंच का फैसला आया है. जजों ने यह माना है कि अनुच्छेद 142 की व्यवस्था संविधान में इसलिए की गई है, ताकि लोगों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट आदेश दे सके.

बेंच की तरफ से फैसला पढ़ते हुए जस्टिस संजीव खन्ना ने कहा कि जब शादी को जारी रखना असंभव हो, तब सुप्रीम कोर्ट सीधे भी तलाक आदेश दे सकता है. आपसी सहमति से तलाक के मामले में जरूरी 6 महीने के इंतजार का कानूनी प्रावधान भी इस तरह के मामलों में लागू नहीं होगा. सुप्रीम कोर्ट ने अपने विस्तृत फैसले में उन स्थितियों का भी ज़िक्र किया है, जब वह तलाक के मामलों में दखल दे सकता है. साथ ही, गुजारा भत्ता और बच्चों की परवरिश को लेकर भी चर्चा की है.

Related Articles

Latest Articles

परीक्षा पास करने के बाद किसे मिलता है कौन सा पद! जानिए कौन बनता...

0
मंगलवार को संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सर्विस 2023 परीक्षा के परिणामों का ऐलान कर दिया है. यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा 2023 तीन...

रणदीप सुरजेवाला पर चुनाव आयोग की बड़ी कार्रवाई, 48 घंटे प्रचार पर रोक लगाई

0
कांग्रेस के दिग्गज नेता और सांसद रणदीप सुरजेवाला पर चुनाव आयोग ने कार्रवाई की है. आयोग ने 48 घंटे उनके चुनाव प्रचार पर रोक...

छत्तीसगढ़: कांकेर जंगलों में पुलिसकर्मियों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, 18 माओवादियों के मारे...

0
छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले से बड़ी खबर सामने आ रही है. यहां के पुलिसकर्मियों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ जारी है. इस मुठभेड़ में...

UPSC में पिथौरागढ़ के संदीप सिंह ने 906वीं रैंक की हासिल, पिता चलाते हैं...

0
संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित सिविल सर्विसेज परीक्षा 2023 में धारचूला के चौदास घाटी के गांव सोसा में रहने वाले संदीप सिंह...

लोकसभा चुनाव 2024: आप के स्टार प्रचारकों में सुनीता केजरीवाल का भी नाम, मनीष...

0
मंगलवार को लोकसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की है. स्टार प्रचाकरों की सूची में सांसद संजय...

रोहित-द्रविड़ और अगरकर की टी20 विश्व कप की टीम को लेकर दो घंटे की...

0
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रोहित शर्मा, मुख्य कोच राहुल द्रविड़ और चयन समिति के अध्यक्ष अजीत अगरकर ने पिछले हफ्ते मुंबई में भारत...

आरबीआई की गाइडलाइन, ग्राहक को पूरी जानकारी देने के बाद ही दें लोन-कुछ भी...

0
अब बैंक और एनबीएफसी कंपनियों की ओर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आंखे तरेरना ली हैं. एक नोटिफिकेशन जारी करते हुए कहा है कि...

मुख्तार अंसारी की मौत पर डीजीपी प्रशांत कुमार ने तोड़ी चुप्पी, दिया ये बयान

0
यूपी के डीजीपी प्रशांत कुमार ने माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की मौत पर पहली बार कोई टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि मुख्तार अंसारी...

ये हैं उत्तराखंड के सबसे उम्रदराज मतदाता, उम्र जानकर चौंक जाएंगे

0
लोकसभा चुनाव की मतदाता सूची में अनेक मतदाता शतकवीर होंगे, लेकिन स्वामी परमानंद पुरी एक विशेष मतदाता हैं जिनकी आयु 135 वर्ष है। उनका...

जोशीमठ में मुख्यमंत्री धामी का रोड शो, भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी के लिए मांगा...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जोशीमठ में भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी के लिए समर्थन मांगा और जोशीमठ इंटर कॉलेज चौराहा से चमोली टैक्सी स्टैंड...