ट्रेन में क्यों होते हैं नीले, लाल और हरे रंग के डिब्बे! हर रंग का होता है अलग मतलब

भारतीय रेल नेटवर्क दुनिया का चौथा और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है. हर रोज लाखों लोग ट्रेन से सफर करते हैं. अमीर हो या गरीब, लंबी यात्रा के लिए तो हर कोई ट्रेन को ही चुनता है. ट्रेन में यात्रा सुविधाजनक तो है ही साथ ही बस और हवाई जहाज के मुकाबले सस्‍ती भी है.

आपने भी रेल में सफर जरूर करते होंगे. रेल यात्रा के दौरान ट्रेनों के डिब्‍बों के रंग ने आपका ध्‍यान जरूर अपनी और खींचा होगा. आपके मन में सवाल उठा होगा कि कोचों का रंग अलग-अलग करने के पीछे कोई खास वजह है या फिर रेलवे ने ट्रेनों को खूबसूरत बनाने के लिए डिब्‍बों अलग लुक दिया है.

दरअसल, ट्रेन के डिब्‍बों के रंग और डिजाइन के भी अलग मायने होते हैं. इनकी विशेषता को ध्यान में रखकर ही कोच के रंग और डिजाइन तय होते हैं. रेलवे अलग-अलग रंगों के डिब्‍बे भिन्‍न-भिन्‍न श्रेणियों की ट्रेनों में इस्‍तेमाल करता है. साथ ही डिब्‍बों का रंग ट्रेन की स्‍पीड के बारे में भी हमें बताता है. अलग रंग से रेलगाड़ी की पहचान में थोड़ी आसान हो जाती है. जैसे लाल रंग के कोच अधिकतर शताब्दी और राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों में लगे दिखाई देंगे. रंग डिब्‍बों के बनने की जगह और उनकी क्‍वालिटी के बारे में भी बताते हैं.

लाल रंग
शताब्दी और राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों में ज्‍यादातर लाल रंग के डिब्‍बे लगाए जाते हैं. ये अल्युमिनियम से बने होने की वजह से दूसरे डिब्बों की तुलना में काफी हल्के होते हैं. इसी वजह से इन्‍हें हाई स्‍पीड ट्रेनों में लगाया जाता है. जर्मनी से वर्ष 2000 में लाए गए ये कोच 160 से लेकर 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते हैं. डिस्क ब्रेक की वजह से इमरजेंसी में इन्‍हें जल्‍द रोका जा सकता है.

नीला रंग
भारतीय रेलवे में सबसे ज्यादा डिब्बे नीले रंग के होते हैं. इन डिब्बों को इंटीग्रल कोच कहते हैं. ये डिब्बे एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों में लगाए जाते हैं. ये लोहे के बने होते हैं. ज्यादा वजन होने की वजह से इन डिब्बों को केवल 70 से 140 किमी प्रति घंटे की स्पीड से ही चलाया जा सकता है. इन्‍हें रोकने के लिए एयरब्रेक का इस्तेमाल किया जाता है.

हरे और भूरे रंग के कोच
हरे रंग के कोचों का इस्तेमाल गरीबरथ ट्रेनों में ज्‍यादा किया जाता है. विविधता लाने के लिए रेलवे ने यह रंग ईजाद किया. इस हरे रंग पर कई तरह की चित्रकारी भी की जाती है, जिससे वह कोच देखने में और भी मनमोहक हो जाता है. वहीं भूरे रंग के कोचों का इस्तेमाल छोटी लाइनों पर चलने वाली मीटर गेज ट्रेनों में होता है.




Related Articles

Latest Articles

लोकसभा चुनाव के बाद धामी मंत्रिमंडल की पहली कैबिनेट बैठक कल

0
कल शनिवार को लोकसभा चुनाव के बाद धामी मंत्रिमंडल की पहली बैठक होगी। कैबिनेट बैठक दोपहर एक बजे से शुरू होगी। इस महत्वपूर्ण बैठक...

गंगोत्री धाम: हाईवे पर अनियंत्रित होकर पलटी मध्य प्रदेश के यात्रियों की बस

0
गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित झाला पुल के निकट एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी जिसमें मध्य प्रदेश से आए यात्रियों की बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई।...

आज मंत्री आतिशी का राजधानी के जल संकट पर अनशन, आप ने इंडिया गठबंधन...

0
दिल्ली की जल मंत्री आतिशी शुक्रवार को हरियाणा से अतिरिक्त पानी की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने जा रही हैं। आम आदमी...

मोदी का कश्मीर दौरा: परंपरागत पहनावे में प्रधानमंत्री, श्रीनगर में असमिया गमछा संग दिखे...

0
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को योग दिवस के मुख्य समारोह में असमिया गमछा पहनकर एक बार फिर राष्ट्रीय एकता और समृद्धि का...

सीएम धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में किया योग, बोले योग...

0
पिथौरागढ़| शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में योगा किया. सीएम धामी ने स्थानीय लोगों और पर्यटकों...

तमिलनाडु: मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हुई, 15 दिन की...

0
तमिलनाडु में मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हो गई है. इसी के साथ मिलावटी शराब का ये मुद्दा अब राजनीतिक...

उत्तराखंड: अब मानसून सीजन में नहीं होगी परेशानी, आपदा राहत बचाव कार्यों में लगेंगे...

0
उत्तराखंड में मानसून के सीजन में आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के लिए तीन हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया जाएगा। यह निर्णय उत्तराखंड...

बीजेपी एक बार फिर पंकजा मुंडे पर कर सकती है भरोसा, राज्यसभा भेजने पर...

0
देश के साथ-साथ महाराष्ट्र की राजनीति भी इस समय चरम पर है. इस सियासत के बीच बीड लोकसभा चुनाव में हार का सामना करने...

दिल्ली: केजरीवाल को हाईकोर्ट से झटका, सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर लगी रोक

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत देने के ट्रायल कोर्ट के आदेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा...

उत्तराखंड में आज भी बरसेंगे मेघा, मौसम को देख हैरान लोगों का है ये...

0
आज उत्तराखंड के पांच जिलों में झोंकेदार हवाओं के साथ आंधी और तेज बारिश की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र ने उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली,...