नई स्टडीः जाने क्यों कम-ज्यादा महसूस होती है Everest की ऊंचाई

माउंट एवरेस्ट दुनिया का सबसे ऊंचा पहाड़ है लेकिन एक नई स्टडी इसे गलत साबित कर रही है. इसके मुताबिक पाकिस्तान में स्थित के2 पहाड़ एवरेस्ट से बड़ा है. यह स्टडी अमेरिकन जियोफिजिकल यूनियन की न्यूज ब्लॉग ईओएस में प्रकाशित हुई है.

इस स्टडी में एवरेस्ट की ऊंचाई के2 से कम होने की जो वजह बताई गई है, वो बेहद हैरान करने वाली है.ब्रिटेन के लोबोरो यूनिवर्सिटी (Loughborough University) के पर्यावरण वैज्ञानिक टॉम मैथ्यूज कहते हैं कई बार ऐसा हुआ है और होता रहता है कि जब के2 (K2 Mountain) माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) को ऊंचाई के मामले में छोटा कर देता है.

माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई कम-ज्यादा होती रहती है. इस हैरतअंगेज स्टडी से माउंट एवरेस्ट को देखने का नजरिया बदल जाएगाइस स्टडी में टॉम मैथ्यूज और उनकी टीम ने माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) और के2 (K2 Mountain) पर पड़ने वाले हवा के दबाव का अध्ययन किया.

इस स्टडी में 40 वर्षों का डेटा कलेक्ट किया गया. डेटा कलेक्ट करने के लिए दोनों पहाड़ों के आसपास स्थित मौसम केंद्रों और यूरोपियन स्पेस एजेंसी के कॉपरनिकस सैटेलाइट (Copernicus Satellite) की मदद ली गईस्टडी में बताया गया है कि साल 1979 से साल 2019 तक कुल 177 लोग बिला सप्लीमेंटल ऑक्सीजन के माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) पर चढ़े. इसमें 8 महिलाएं और 169 पुरुष थे.

सप्लीमेंटल ऑक्सीजन का मतलब होता है बोतलबंद ऑक्सीजन से सांस लेना. 7000 मीटर की ऊंचाई पर जाने के बाद इस ऑक्सीजन की जरूरत आमतौर पर पड़ती है.टॉम बताते हैं कि जैसे-जैसे आप माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) या के2 (K2 Mountain) जैसे पहाड़ों पर चढ़ते हैं.

ऊंचाई के साथ हवा का दबाव कम होता है. हवा के दबाव से ही ऑक्सीजन के मॉलीक्यूल सीधे तौर पर जुड़े है. पहाड़ों पर पतली हवा की परत होती है. इसमें ऑक्सीजन मॉलीक्यूल्स का स्तर अत्यधिक कम हो जाता है. इसलिए ऐसी ऊंचाई पर सांस लेने में दिक्कत आने लगती है. टॉम कहते हैं कि हवा के दबाव की वजह से के2 (K2 Mountain) कभी-कभी माउंट एवरेस्ट से ऊंचा हो जाता है.

ये जानकारी किसी को इसलिए नहीं मिल पाती क्योंकि ज्यादातर पर्वतारोही अच्छे समय में इन पहाड़ों पर चढ़ते हैं. अच्छा समय यानी मौसम बिगड़ने के आसार कम होते हैं और ऑक्सीजन लेवल ठीक रहता है. ज्यादातर पहाड़ों पर चढ़ाई मई या अक्टूबर के महीने में होती है.

पाकिस्तान और चीन की सीमा पर स्थित काराकोरम रेंज का सबसे ऊंचा पहाड़ है के2 (K2 Mountain). साल 1953 में महान पर्वतारोही जॉर्ज बेल ने कहा था कि ये एक सैवेज माउंटेन है. यह आपकी जान लेने की कोशिश करता है.

दुनिया के पांच सबसे ऊंचे पहाड़ों में सबसे ज्यादा खतरनाक और जानलेवा पहाड़ है के2 (K2 Mountain). यहां जाने वाले हर चार पर्वतारोही में से एक की मौत तय मानी जाती है.

Related Articles

विज्ञापन

Latest Articles

संदेशखाली हिंसा मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट ने दिए सीबीआई जांच के आदेश

0
पश्चिम बंगाल के संदेशखाली हिंसा मामले में कलकत्ता हाईकोर्ट मंगलवार को एक्शन में दिखी. मामले पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए कोर्ट ने कुल...

सीएम धामी ने रोड शो के बाद जनसभा में की घोषणा, नगरपालिका बनेगी पुरोला...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज उत्तरकाशी के बड़कोट में एक भव्य रोड शो का आयोजन किया। इसके बाद उन्होंने लाभार्थी योजना सम्मान समारोह...

बीजेपी कि गढ़वाल और हरिद्वार लोकसभा सीट पर कश्मकश जारी, जल्द हो सकती है...

0
भाजपा के लिए गढ़वाल और हरिद्वार लोकसभा सीटों पर तुरुप का इक्का कौन होगा, इस मुद्दे पर नई दिल्ली में चर्चा जारी है। दोनों...

पिछौड़ा ओढ़कर अनंत-राधिका की प्री वेडिंग में पहुंची साक्षी धोनी

0
अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट का प्री वेडिंग सेलिब्रेशन गुजरात के जामनगर में हुआ। इस मौके पर पूर्व भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र...

सीएम धामी का उत्तरकाशी में भव्य रोड शो, रामलीला मैदान में लाभार्थी सम्मान समारोह

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तरकाशी बड़कोट में एक विशाल रोड शो किया। साथ ही, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट भी इस कार्यक्रम में...

योगी सरकार ने डेढ़ करोड़ किसानों को दिया उपहार, निजी नलकूपों पर मुफ्त बिजली...

0
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में आयोजित कैबिनेट बैठक में किसानों के हित में महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। कैबिनेट ने निजी नलकूपों पर...

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने पीसीएस-जे मुख्य परीक्षा का परिणाम किया घोषित

0
उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने उत्तराखंड न्यायिक सेवा सिविल न्यायाधीश परीक्षा-2022 की मुख्य परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया है। उत्तराखंड न्यायिक सेवा के...

उत्तराखंड: मार्च में बढ़ेगा पारा, रहें गर्मी झेलने को तैयार

0
उत्तराखंड में मार्च के पहले दिनों में बारिश और बर्फबारी के कारण ठंड ने कुछ दिनों के लिए बढ़ गई, लेकिन इस महीने के...

देहरादून के 15 लाख वोटर 1880 मतदान स्थलों पर करेंगे मतदान

0
लोकसभा चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इस बार टिहरी गढ़वाल और हरिद्वार लोकसभा सीटों के लिए...

उत्तराखंड: अप्रैल में भारी बिजली संकट, केंद्र की विशेष सहायता खत्म होने की आशंका

0
उत्तराखंड में अप्रैल माह से बिजली की समस्या बढ़ने का खतरा है, और केंद्र की विशेष सहायता की मियाद 31 मार्च को समाप्त हो...