सियासी दांव: यशपाल आर्य की भरपाई में जुटी भाजपा, मिशन 22 के लिए धामी तलाश रहे दलित ‘चेहरा’

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को चार महीने के अंतराल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले एक लोकप्रिय दलित चेहरे की तलाश है. इन दिनों राज्य भाजपा के रणनीतिकार तीन-चार विधायकों को ‘टटोल’ रहे हैं कि कौन सा नेता ‘मिशन 22’ के लिए दलित वर्ग में फिट रहेगा.

पिछले दिनों धामी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे दलित नेता यशपाल आर्य और उनके विधायक पुत्र संजीव आर्य के कांग्रेस में घर वापसी के बाद भाजपा में ‘बेचैनी’ बढ़ गई है. उत्तराखंड में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहे और छह बार के विधायक यशपाल आर्य दलित समाज से आते हैं.

सूबे की दलित राजनीति पर मजबूत पकड़ रखने वाले यशपाल की छवि शांत और सादगी वाले नेता की है. इसके साथ उनकी उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में अच्छी पकड़ है. मुख्यमंत्री धामी चाहते हैं, वह ऐसा नेता हो जो यशपाल आर्य की बहुत हद तक ‘भरपाई’ कर दे. ‌

क्योंकि पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल के भाजपा छोड़ने के बाद सीएम धामी अपने मंत्रिमंडल में दलित चेहरे को मंत्री बनाना चाहते हैं. धामी सरकार में यशपाल आर्य के जाने के बाद खाली हुए मंत्री पद के लिए फिलहाल सबसे प्रबल दावेदारों में राजपुर रोड विधायक खजान दास, ज्वालापुर के सुरेश राठौर व बागेश्वर के चंदनराम दास के नाम की चर्चाएं हैं.

यह भी पढ़ें -  Covid19: देश में बीते 24 घंटे में मिले कोरोना के 12,751 नए मामले, एक्टिव केस 1.31 लाख से ज्यादा

इसी को लेकर मंगलवार शाम को कुछ दलित विधायकों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात भी की. वहीं दूसरी ओर पार्टी के कुछ दलित विधायकों ने तो दावेदारी भी पेश कर दी है. सीएम पुष्कर सिंह धामी अगर यह सीट भरते हैं तो पूर्व कैबिनेट मंत्री खजान दास के साथ विधायक चंदनराम दास और सुरेश राठौर की दावेदारी सबसे प्रबल बताई जा रही है. दूसरी ओर रायपुर से भाजपा विधायक जो कांग्रेस में जाते-जाते रह गए थे, उन्हें किसी प्रकार भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने ऐनमौके पर बचाया था.

उनको भी दिल्ली पार्टी हाईकमान ने उत्तराखंड सरकार में मंत्री का पद देने का आश्वासन दिया गया है. लेकिन मुख्यमंत्री चाहते हैं के इन 4 महीनों में होने वाले चुनाव से पहले किसी दलित विधायक को अपने मंत्रिमंडल में शामिल करा कर अनुसूचित जाति वर्ग में अपनी पकड़ मजबूत कर ली जाए.

चुनाव से पहले यशपाल के घर वापसी के बाद कांग्रेस दलित वर्ग में पैठ बनाने में जुटी
पंजाब में दलित नेता चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के बाद कांग्रेस हाईकमान ने पिछले दिनों उत्तराखंड में भी दलित मुख्यमंत्री बनाने का ‘सियासी दांव’ खेला . उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा था कि वह राज्य में साल 2022 में ‘दलित चेहरे’ को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं .

यह भी पढ़ें -  युवाओं को लगा बड़ा झटका, यूकेएसएससी ने 08 भर्ती परीक्षाओं पर लगाई रोक

अब यशपाल आर्य की कांग्रेस में घर वापसी के बाद पार्टी ने दलितों में अपनी पैठ बनानी शुरू कर दी है. वहीं दूसरी ओर उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने दलित कार्ड से सियासी समीकरणों को प्रभावित करने की तैयारी कर ली है, जिसके तहत यशपाल की पार्टी ने घर वापसी कराई गई . बता दें कि उत्तराखंड में यशपाल आर्य को दलित राजनीति का केंद्र माना जाता है. सूबे में पहले कांग्रेस को दलित वर्ग का बड़ा समर्थन मिलता रहा, पर 2017 के विधानसभा चुनाव में इस वर्ग का रुझान भाजपा के प्रति तेजी से बढ़ा है.

यह इससे भी साबित होता है कि दलित कोटे के लिए आरक्षित 12 विधानसभा सीटों में से 10 पर भाजपा के प्रत्याशी निर्वाचित हुए थे. कांग्रेस को सिर्फ पुरोला से राजकुमार और भगवानपुर से ममता राकेश के रूप में दो सीटें मिलीं थी.राजकुमार पिछले दिनों भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर चुके हैं. वहीं भाजपा के टिकट से आरक्षित सीटों पर बाजपुर से यशपाल आर्य और नैनीताल से उनका बेटा संजीव आर्य जीते थे.

अगर उत्तराखंड में दलित आबादी की बात की जाए तो अनुसूचित जाति की आबादी 18.50 फीसदी के करीब है. 2011 की जनगणना के मुताबिक राज्य में अनुसूचित जाति की जनसंख्या 18,92,516 है. उत्तराखंड के 11 पर्वतीय जिलों में दलित आबादी 10.14 लाख है जबकि तीन मैदानी जिलों देहरादून, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में 8.78 लाख है. सूबे में सबसे ज्यादा अनुसूचित जाति वर्ग की आबादी हरिद्वार जिले में 411274 है.

यशपाल आर्य के कांग्रेस में जाने के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी दलित वर्ग में अपनी पकड़ बनाने के लिए एक लोकप्रिय चेहरे को जल्द ही आगे लाना चाहते हैं. इसके लिए वे पिछले दिनों से दिल्ली हाईकमान से भी सलाह करने में जुटे हुए हैं.

यह भी पढ़ें -  आरबीआई ने लगाया आठ सहकारी बैंकों पर जुर्माना, एक एनबीएफसी पर ठोकी तगड़ी पेनल्टी

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Covid19: देश में आज फिर बढ़े कोरोना के मामले, एक्टिव केस 1.28 लाख

0
कोरोना के मामलों में मंगलवार को गिरावट देखने को मिली थी, लेकिन बुधवार को एक बार फिर से कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी...

केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे उत्तराखंड,...

0
मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एवं केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में...

यूपी: आजमगढ़ से आईएसआईएस का एक संदिग्‍ध गिरफ्तार, आरएसएस नेता थे निशाने में

0
यूपी एटीएस ने आजमगढ़ से आतंकी संगठन आईएसआईएस के एक संदिग्‍ध को गिरफ्तार किया है. एटीएस का दावा है कि सबाउद्दीन आजमी राष्ट्रीय स्वयं...

राशिफल 10-08-2022: आज इन राशियों को मिलेगा भाग्योदय से लाभ

0
मेष : किसी अनजान के साथ व्यापार करना महंगा पड़ सकता है. विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं. पैसों से जुड़ा लेनदेन करने...

10 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 10 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Bihar: 10 अगस्त को नीतीश कुमार लेंगे सीएम पद की शपथ

0
पटना| बुधवार 10 अगस्त शाम 2 बजे नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. तेजस्वी यादव होंगे डिप्टी सीएम. मंगलवार को बिहार के राज्यपाल...

यूजीसी-नेट के दूसरे चरण की परीक्षा स्थगित, अब इस दिन से होगी...

0
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) को स्थगित कर दिया गया है और अब यह 20 से 30 सितंबर के बीच...

हर घर तिरंगा’ अभियान: आईटीबीपी की महिला जवानों ने 17,000 फीट की ऊंचाई पर...

0
देश 75वें स्वतंत्रता दिवस के उपल्क्षय में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. साथ में हर घर तिरंगा कैंपेन भी चलाया जा...

जाने-माने पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का सड़क दुर्घटना में निधन

0
दक्षिण अफ्रीका के पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का मंगलवार को यहां के निकट रिवरडेल शहर में एक कार दुर्घटना में निधन हो गया....

बिहार संकट: नीतीश कुमार ने पेश किया नई सरकार बनाने का दावा, राज्यपाल को...

0
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. नीतीश अपनी पार्टी जेडीयू...
%d bloggers like this: