कंगना के खिलाफ जंग में अकेले पड़े उद्धव ठाकरे, साथी दलों का नहीं मिल रहा साथ


सुशांत सिंह राजपूत मामले में काफी आलोचना झेलनी वाली उद्धव सरकार के लिए मुसीबतें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. कंगना रनौत के साथ बढ़ा विवाद महाराष्ट्र में चल रही गठबंधन सरकार की और मुश्किलें बढ़ा सकता है. दरअसल, बीएमसी ने कंगना के ऑफिस पर बुलडोजर चलाया तो शिवसेना को अपने साथी दलों का साथ नहीं मिला. अब जैसे-जैसे ये विवाद बढ़ रहा है, उसी बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात के लिए सीएम के आधिकारिक निवास वर्षा बंगला पहुंचे हैं.

इससे पहले बीएमसी की कार्रवाई पर शरद पवार ने कहा, ‘मुझे उनके कार्यालय के संबंध में कोई जानकारी नहीं है. लेकिन मैंने समाचार पत्रों में पढ़ा कि यह एक अवैध निर्माण था. हालांकि, मुंबई में अनधिकृत निर्माण नए नहीं हैं. अगर बीएमसी नियमानुसार कार्य कर रही है, तो यह सही है.’

पवार ने कहा, ‘मौजूदा स्थिति में इस तरह की कार्रवाइयां लोगों के मन में संदेह पैदा करती हैं. कार्रवाई करने से उन्हें बोलने का मौका मिला है. यह जांचने की जरूरत है कि बीएमसी ने अब कार्रवाई क्यों की.’ इसके अलावा पवार ने कंगना रनौत का नाम लिए बिना कहा कि उनके बयानों को अनुचित महत्व दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हम ऐसे बयान देने वालों को अनुचित महत्व दे रहे हैं. हमें देखना होगा कि लोगों पर इस तरह के बयानों का क्या प्रभाव पड़ता है. मेरी राय में लोग (ऐसे बयानों को) गंभीरता से नहीं लेते हैं.

वहीं कांग्रेस के संजय निरूपम ने कहा, ‘कंगना का ऑफिस अवैध था या उसे डिमॉलिश करने का तरीका? क्योंकि हाई कोर्ट ने कार्रवाई को गलत माना और तत्काल रोक लगा दी. पूरा एक्शन प्रतिशोध से ओत-प्रोत था. लेकिन बदले की राजनीति की उम्र बहुत छोटी होती है. कहीं एक ऑफिस के चक्कर में शिवसेना का डिमॉलिशन न शुरू हो जाए.’


कंगना के बांद्रा स्थित बंगले का कुछ हिस्सा ढहाए जाने को लेकर शिवसेना के नेतृत्व वाली बीएमसी को भी आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा है. बॉम्बे हाई कोर्ट ने रनौत के यहां स्थित बंगले में अवैध निर्माण को तोड़ने की बीएमसी की प्रक्रिया पर रोक लगा दी और पूछा कि नगर निकाय के अधिकारी मालिक की गैरमौजूदगी में संपत्ति के भीतर क्यों गए. सोशल मीडिया पर भी लोग इस कार्रवाई पर सवाल खड़ा कर रहे हैं और शिवसेना के साथ-साथ महाराष्ट्र सरकार को भी घेर रहे हैं.

ऐसे में सवाल है कि कंगना के खिलाफ बीएमसी की ये कार्रवाई कहीं महाराष्ट्र सरकार पर भारी न पड़ जाए. ये सवाल इसलिए भी है क्योंकि कंगना इस कार्रवाई के बाद और ज्यादा आक्रमक हो रही हैं और उद्धव ठाकरे को सीधी चुनौती दे रही हैं. इस लड़ाई में उन्हें भारी सर्मथन भी मिल रहा है.

Related Articles

विज्ञापन

Latest Articles

फ्रांस में गर्भपात को संवैधानिक अधिकार बनाने वाले विधेयक को मिली मंजूरी, ऐसा करने...

0
फ्रांस की सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए देश में गर्भपात को महिलाओं का संवैधानिक अधिकार बनाने को हरी झंडी दे दी है. फ्रांस...

राशिफल 05-03-2024: आज बजरंग बली की कृपा से इन राशियों का होगा कल्याण

0
मेष-: यह अपने टैलेंट, नई खोज करने और अपनी क्षमता का प्रदर्शन करने का समय है. अपने आप पर भरोसा रखें. यह समय आपको...

05 मार्च 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 05 मार्च 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

देहरादून से अयोध्या अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा, 6 मार्च को होगा...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी का प्रयास रंग लाया है. देहरादून से देश के तीन प्रमुख शहरों अयोध्या, अमृतसर और वाराणसी के लिए सीधी हवाई...

हरिद्वार: लक्सर में आयोजित लाभार्थी सम्मेलन में सीएम धामी ने किया 68.82 करोड़ की...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को जनपद हरिद्वार के लक्सर में आयोजित लाभार्थी सम्मेलन के अवसर पर 68.82 करोड़ की विभिन्न योजनाओं का...

लोकसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका! अर्जुन मोढवाडिया ने...

0
अहमदाबाद| कांग्रेस को लोकसभा चुनाव से पहले गुजरात में फिर बड़ा झटका लगा है. पोरबंदर से विधायक अर्जुन मोढवाडिया ने पार्टी से इस्तीफा दे...

आईपीएल 2024 से पहले सनराइजर्स हैदराबाद ने किया बड़ा बदलाव! पैट कमिंस नए कप्तान

0
आईपीएल 2024 से पहले सनराइजर्स हैदराबाद ने बड़ा बदलाव करते हुए पैट कमिंस को नया कप्तान बना दिया है. फ्रेंचाइज़ी ने पिछले सीज़न यानी...

औली में तीन फीट जमी बर्फ, चारों ओर जन्नत सा नजारा

0
औली की वादियां बर्फबारी के बाद अब सोने जैसी चमक रही हैं। यहां का मौसम खुशनुमा हो गया है और अभी तक तीन फीट...

इसरो प्रमुख एस सोमनाथ कैंसर से पीड़ित, आदित्य-एल1 की लॉन्चिंग के दिन चला पता,...

0
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के प्रमुख एस सोमनाथ कैंसर से पीड़ित हैं. उन्हें इस बात की जानकारी आदित्य-एल1 की लॉन्चिंग के वक्त हुई....

अब उत्तराखंड में भी संपत्ति के नुकसान पर होगी वसूली

0
उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए सरकारी और निजी संपत्ति क्षति वसूली एक्ट को मंजूरी दे दी. सोमवार को...