spot_imgspot_img

15-18 साल की उम्र के किशोरों के वैक्‍सीनेशन के सरकार के फैसले पर एम्स के वरिष्ठ महामारी रोग विशेषज्ञ ने सवाल उठाए

देशभर में ओमिक्रोन के खतरे और कोविड- 19 की तीसरी लहर की आशंका के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार देर रात राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में 15-18 साल की उम्र के किशोरों के लिए भी वैक्‍सीनेशन का ऐलान किया और कहा कि वैक्‍सीनेशन को लेकर कोई भी फैसला वैज्ञानिकों से विचार-विमर्श के आधार पर ही लिया जाता है.

लेकिन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के वरिष्ठ महामारी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संजय के. राय ने सरकार के इस फैसले को ‘अवैज्ञानिक’ करार देते हुए कहा कि इससे कोई अतिरिक्त फायदा नहीं होगा.

डॉक्टर संजय के. राय ने इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को टैग करते हुए ट्वीट भी किया, जिसमें उन्‍होंने लिखा, ‘मैं राष्ट्र की नि:स्वार्थ सेवा और सही समय पर सही निर्णय लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा प्रशंसक हूं. लेकिन मैं बच्चों के टीकाकरण के उनके अवैज्ञानिक निर्णय से पूरी तरह निराश हूं.’

यह भी पढ़ें -  मैदान से लेकर पहाड़ तक बारिश, बर्फबारी से गिरा पारा, इन जगहों पर ऑरेंज अलर्ट

इस संबंध में अपना दृष्टिकोण स्‍पष्‍ट करते हुए उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीनेशन का मकसद या तो कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम है या मरीज के गंभीर स्थिति में पहुंचने अथवा संक्रमण की वजह से उसकी मृत्यु को रोकना है. वैक्‍सीन के बारे में हमारे पास अभी जो जानकारी है, उसके मुताबिक वैक्‍सीन संक्रमण के मामलों में कोई महत्‍वपूर्ण कमी लाने में समर्थ नहीं हैं. दुनिया के कई देशों में वैक्‍सीन का बूस्‍टर डोज लगवाने के बाद भी लोग संक्रमित हो रहे हैं.

यह भी पढ़ें -  Ind Vs Nz: टीम इंडिया ने जीता दूसरा टी 20, सीरीज 1-1 की बराबरी पर

ब्रिटेन का उदहारण देते हुए उन्‍होंने कहा कि यूरोप के इस देश में बड़ी संख्‍या में वैक्‍सीनेशन के बाद भी रोजाना संक्रमण के 50 हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. इससे साबित होता है कि वैक्‍सीनेशन कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में मददगार नहीं है, लेकिन यह संक्रमण की वजह से मरीज के गंभीर स्थिति में पहुंचने और इसकी वजह से उसकी मृत्‍यु को रोकने में प्रभावी है.

बच्‍चों में कोविड-19 के संक्रमण को लेकर उन्‍होंने कहा कि ऐसे मामलों में गंभीरता बहुत कम केस हैं. जो आंकड़े उपलब्‍ध हैं, उसके अनुसार कम उम्र के बच्‍चों व किशोरों में कोविड-19 के संक्रमण के कारण प्रति 10 लाख की आबादी पर दो मौतों का रिकॉर्ड है, जबकि अतिसंवेदनशील आबादी में यह आंकड़ा कहीं अधिक है. यहां प्रति 10 लाख की आबादी पर 15,000 लोगों की मौत का रिकॉर्ड है.

यह भी पढ़ें -  अब यूपी में जाम झलकाना पड़ेगा महंगा, बढ़ी देशी और अंग्रेजी शराब की कीमतें

वैक्‍सीनेशन के माध्यम से इनमें से 80-90 प्रतिशत मौतों को रोका जा सकता है, जिसका अर्थ है कि प्रति 10 लाख की आबादी पर 13,000 से 14,000 मौतों को रोका जा सकता है. ऐसे में जब जोखिम और लाभ का विश्‍लेषण किया जाता है तो उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर किशोरों के वैक्‍सीनेशन के फैसले में लाभ की बजाय जोखिम अधिक नजर आता है और इसलिए बच्चों का टीकाकरण शुरू करने से कोई भी उद्देश्‍य हासिल

एम्स में वयस्कों और बच्चों पर ‘कोवैक्सीन’ टीके के परीक्षणों के प्रधान जांचकर्ता और ‘इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन’ के अध्यक्ष राय ने कहा कि इस निर्णय पर अमल करने से पहले बच्चों का टीकाकरण शुरू कर चुके देशों के आंकड़ों का भी विश्लेषण करना चाहिए.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 31-01-2023: आज बजरंग बली करेंगे इनका कल्याण, पढ़ें दैनिक राशिफल

0
मेष-: परिवार में सुख-शांति और धार्मिक वातावरण रहेगा. व्यावसायिक गतिविधियों से आपको अच्छा मुनाफा मिल सकता है. आपके दिमाग और दिल में एक...

31 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 31 जनवरी 2023 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

लंबे समय से बाहर चल रहे टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने...

0
चेन्नई| लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की....

उत्तराखंड ने रचा इतिहास, गणतंत्र दिवस की परेड में ‘झांकी मानसखंड’ को मिला...

0
देहरादून| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को देशभर में प्रथम स्थान मिलने से राज्य का नाम...

पाकिस्तान आत्मघाती बम विस्फोट: मरने वालों की संख्या बढ़कर 44 हुई, 157 लोगों की...

0
पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित पेशावर में सोमवार (30 जनवरी, 2023) को पेशावर की मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट हो गया. हमले...

हॉकी विश्व कप में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद मुख्य कोच ग्राहम रीड ने दिया...

0
भुवनेश्वर| हॉकी विश्व कप में 48 साल से चल रहे सूखे खत्म करने में नाकाम रही भारतीय टीम के हेड कोच ग्राहम रीड ने...

गोरखनाथ मंदिर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा

0
2 अप्रैल 2022 को गोरखनाथ मंदिर में हमला करने के मामले में दोषी ठहराये अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा दी गई. गोरखनाथ मंदिर...

उत्तराखंड: विश्वविद्यालयों में लागू होगा समान शैक्षिक कैलेंडर, नैक मूल्यांकन कराना होगा अनिवार्य

0
उत्तराखंड के सभी राजकीय विश्वविद्यालयों में एक जैसा शैक्षणिक कैलेंडर लागू किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इसके अंतर्गत विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में...

भारत-चीन सीमा पर आया एवलांच, अलर्ट मोड में आपदा प्रबंधन विभाग

0
उत्‍तराखंड के उच्‍च हिमालयी इलाकों में रविवार से बर्फबारी का सिलसिला जारी है। बताया जा रहा है कि इस बीच चमोली जिले के मलारी...

2024 में कौन होगा नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा सियासी दुश्‍मन, पढ़ें ताजा सर्वे...

0
मिशन 2024 से पहले जनता का मूड पूरी तरह से जाना जा रहा है. एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामों को लेकर सर्वे...
%d bloggers like this: