आमना-सामना हुए बिना ही युद्ध लड़ने की तैयारी, DRDO फैंटेसी मूवी जैसे हथियार बनाने में जुटा

डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की तैयारी डायरेक्‍टेड एनर्जी वेपंस (DEWs) के लिए एक नैशनल प्रोग्राम चलाने की है.

पूरी दुनिया में ऐसे हथियारों की पूछ बढ़ रही है ताकि आमना-सामना हुए बिना ही युद्ध लड़े जा सकें. ये हथियार कुछ-कुछ वैसे ही होंगे जैसे फैंटेसी मूवी सीरीज ‘स्‍टार वार्स’ में दिखाए गए हैं.

DRDO के इस नैशनल प्‍लान में शॉर्ट, मीडियम और लॉन्‍ग टर्म के लिए लक्ष्‍य तय किए जाएंगे. कोशिश होगी कि घरेलू इंडस्‍ट्री के साथ मिलकर 100 किलोवाट क्षमता तक के DEWs डेवलप किए जा सकें.

DRDO पहले से ही कई DEW प्रोजेक्‍ट्स पर काम कर रहा है. इसमें ‘केमिकल ऑक्सिजन आयोडीन’ से लेकर ‘हाई पावर फाइबर’ लेसर तक शामिल हैं.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएम धामी ने पुलिस लाईन रेस कोर्स में किया कई भवनों का शिलान्यास

DRDO एक पार्टिकल बीम वेपन ‘काली’ पर भी काम कर रहा है. हालांकि इनमें से कोई भी ऑपरेशनल होने के करीब नहीं है.

परंपरागत हथियारों में काइनेटिक/केमिकल एनर्जी का इस्‍तेमाल होता है. मिसाइलों व अन्‍य प्रक्षेपास्‍त्रों की मदद से टारगेट को उड़ाया जाता है.

डायरेक्‍टेड एनर्जी वेपंस में टारगेट पर इलेक्‍ट्रॉनिक/मैग्‍नेटिक एनर्जी या सबएटॉमिक पार्टिकल्‍स की बौछार की जाती है. इनके दो मेजर सब-सिस्‍टम होते हैं- लेसर सोर्स और पार्टिकल बीम कंट्रोल सिस्‍टम.

पावर की बात करें तो एक मिसाइल को उड़ाने के लिए किसी लेसर वेपन को 500 किलोवॉट की बीम की जरूरत पड़ेगी.

ये पहली बार नहीं है जब DRDO का ध्यान इस तरफ गया है. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन पहले से कई DEW (डायरेक्टेड एनर्जी वेपन्स) प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहा है. इसमें हाई पॉवर फाइबर लेसर से लेकर केमिकल ऑक्सीजन आयोडीन तक शामिल हैं.

जिस हथियार से लड़ाई आपने अभी तक सिर्फ फिल्मों में देखी है आखिर वो है क्या. जिन हथियारों का उपयोग सेनाएं करती हैं, जिन्हें हम आमतौर पर परंपरागत हथियार कहते हैं, उनमें केमिकल एनर्जी का इस्तेमाल किया जाता है.

यह भी पढ़ें -  भारत की पाकिस्तान पर बड़ी कार्रवाई, पड़ोसी देश के चार दूतावासों के ट्विटर अकाउंट को किया बंद

इन हथियारों को मिसाइल की मदद से उड़ाया जाता है. जबकि इस नए हथियार में टारगेट पर इलेक्ट्रॉनिक/मग्नेटिक एनर्जी या सबएटॉमिक पार्टिकल की बौछार की जाती है.

क्‍या हैं ऐसे हथियारों के फायदे?
– प्रकाश की गति से लगते हैं, निशाना एकदम सटीक.
– एक शॉट पर कम खर्च आता है, मिसाइलों के मुकाबले फ्लेक्सिबल.
– रैपिड री-टारगेटिंग के साथ कई टारगेट्स को एक साथ निशाना बनाया जा सकता है.
– अगर पावर सप्‍लाई पर्याप्‍त हो तो इनका जब तक चाहें, इस्‍तेमाल जारी रख सकते हैं.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,230FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

महिलाओं और बच्चों के यौन शोषण के दोषी अमेरिकी पॉप गायक आर कैली को...

0
अमेरिकी पॉप गायक आर कैली (55) को महिलाओं और बच्चों के यौन शोषण का दोषी ठहराए जाने के नौ माह बाद सजा सुनाई गई....

राशिफल 30-06-2022: महीने के आखिरी दिन कैसा रहेगा सभी राशियों का दिन, जानिए

0
मेष- वाणी के प्रभाव से रुके कार्य पूर्ण होंगे. कारोबार से आय में वृद्धि होगी. परिश्रम अधिक रहेगा. भौतिक सुखों में वृद्धि होगी. वृष-...

30 जून 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 30 जून 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

महाराष्ट्र: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने पद से दिया इस्तीफा

0
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के बाद आदेश दिया था...

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला, महाराष्ट्र में कल ही होगा फ्लोर टेस्ट

0
बुधवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. सुप्रीम...

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिले प्रेमचंद अग्रवाल, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि...

0
केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में चंडीगढ़ में 47वीं जीएसटी कॉउंसिल की दो दिवसीय बैठक आयोजित हुई. इस बैठक में उत्तराखंड के...

महाराष्ट्र सियासी संकट: राज्यपाल ने दिए फ्लोर टेस्ट के आदेश, अब सुप्रीम कोर्ट के...

0
महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच आज बहुत ही अहम दिन है. भाजपा के फ्लोर टेस्ट कराने की मांग पर शिवसेना ने सुप्रीम...

राष्ट्रपति चुनाव के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव का भी बजा बिगुल, चुनाव आयोग ने किया...

0
देश में राष्ट्रपति चुनाव के बाद अब उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए भी बिगुल बज चुका है. चुनाव आयोग ने बुधवार को उपराष्ट्रपति चुवाव के...

देहरादून: मुख्य सचिव ने की केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा, अधिकारियों को दिए ये...

0
बुधवार को मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सचिवालय में केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा की. मुख्य सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिए...

उत्तराखंड: सोनप्रयाग में बड़ा हादसा, भारी बारिश की वजह से वाहन पर गिरा बोल्डर-एक...

0
उत्तराखंड के सोनप्रयाग में बुधवार को बड़ा हादसा हो गया. भारी बारिश की वजह से बोल्डर और मलबा एक वाहन पर गिर गया. हादसे...
%d bloggers like this: