विशेष: सोशल मीडिया पर सरकार की बंदिशें नहीं बल्कि बढ़ती अराजकता और फूहड़ता रोकना है

अभिव्यक्ति की आजादी, लिखने की आजादी, बोलने की आजादी इसके साथ अपने आक्रोश को प्रकट करने की आजादी. जी हां, आज हम बात करेंगे सोशल मीडिया की. हाल के वर्षों में दुनिया भर में सोशल मीडिया एक ताकतवर के रूप में सामने आया है. इस युग में यह प्लेटफॉर्म्स लोगों की अभिव्यक्ति व्यक्त करने का सशक्त माध्यम बन गया है. वहीं इस प्लेटफॉर्म्स की लोगों को ताकतवर बनाने में बड़ी भूमिका भी रही.

यही नहीं कई शख्सियत ऐसी भी हैं जो सोशल मीडिया का सहारा लेकर अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई. कई मौके पर लोगों ने इसके माध्यम से सरकारों को चैलेंज भी किया.‌ अब भारत सरकार सोशल मीडिया को कानून केे दायरे में लाने जा रही है, या कहें इस प्लेटफॉर्म्स पर सख्त नियम बनने शुरू हो गए हैं. फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब जैसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर दुनिया में इसके करोड़ों यूजर हैं. देश और दुनिया भर में तमाम मुद्दों पर लोग बेबाकी से अपनी राय रखते हैं.

इसके साथ लोग इस माध्यम का गलत इस्तेमाल भी करने में लगे हुए हैं. आज कई देशों का मानना है कि सोशल मीडिया इतना ताकतवर हो गया है कि वह सरकारों को भी गिराने की ताकत रखता है, जिसके चलते अराजकता और लोकतंत्र कमजोर हो रहा है.

हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में फेसबुक और सरकार को लेकर लंबा विवाद भी देखने को मिला. ऐसे ही पिछले महीने अमेरिका के वाशिंगटन में कैपिटल हिल पर उपद्रव मचाया था तब भी फेसबुक, और टि्वटर की भूमिका संदेह के दायरेे में थी. ऐसा ही किसान आंदोलनों के बीच 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर कई आपत्तिजनक पोस्ट शेयर की गई.‌ बस यहीं से मोदी सरकार की इस प्लेटफॉर्म्स पर पाबंदी लगाने की उल्टी गिनती शुरू हो गई थी.

गौरतलब है कि इस मामले की शुरुआत 11 दिसंबर 2018 से हुई, जब सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि वह चाइल्ड पोर्नोग्राफी, गैंगरेप से जुड़े कंटेंट को डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से हटाने के लिए जरूरी गाइडलाइन बनाए. उसके बाद केंद्र सरकार सक्रिय हो गई थी.

सोशल मीडिया के तीनों प्लेटफॉर्म्स पर यह बनाए जाएंगे नियम
बता दें कि ओटीटी और डिजिटल खबरों के कंटेंट के लिए श्रेणियां बनेंगी, फिल्मों जैसा कोड भी बनेगा. ओटीटी, डिजिटल न्यूज के लिए तीन चरणों की प्रणाली बनेगी. इन्हें अपनी कंपनी की जानकारियां देनी होंगी.

यदि आप कोई आपत्तिजनक पोस्ट या कंटेंट शेयर करते हैं और उस पर आपत्ति आती है तो सोशल मीडिया कंपनी इसकी जानकारी सरकार को उपलब्ध कराएगी. आपका कोई पोस्ट सोशल मीडिया कंपनी डिलीट करती है तो आप कंपनी से इसकी वजह पूछ सकते हैं. महिलाओं से जुड़ी आपत्तिजनक सामग्री शेयर पर उसे शिकायत मिलने के 24 घंटे के भीतर हटा दिया जाएगा. यूजर्स के लिए अच्छी बात यह है कि सोशल मीडिया का दुरुपयोग बंद होगा.

फेक न्यूज, अफवाहें, दुष्प्रचार और आपत्तिजनक कंटेंट रोकने में सरकार को मदद मिलेगी. सरकार का कहना है कि रजिस्ट्रेशन की बाध्यता नहीं है, पर जानकारी देनी ही होगी. साथ ही डिजिटल न्यूज मीडिया के पब्लिशर्स को प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया और केबल टीवी नेटवर्क रेगुलेशन एक्ट से जुड़े नियमों को मानना होगा ताकि प्रिंट, टीवी और डिजिटल मीडिया के बीच रेगुलेशन का सिस्टम एक जैसा हो.बता दें कि नई गाइडलाइंस के दायरे में फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्‍स और नेटफ्लिकस, अमेजॉन प्राइम, हॉटस्‍टार जैसे ओटीटी प्‍लेटफॉर्म्‍स आएंगे.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,230FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Covid19: उत्तराखंड में बढ़ी कोरोना की रफ्तार, मिले 54 नए मरीज, एक्टिव केस 323

0
देहरादून| उत्तराखंड में 24 घंटे के भीतर कोरोना के 54 नए मरीज मिले हैं, जबकि 27 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं. वहीं, एक्टिव...

चोल राजवंश कहानी लेकर आ रहे है मणिरत्नम, इस दिन रिलीज ‘पोन्नियन सेल्वन’

0
चार साल के ब्रेक के बाद एक्ट्रेस ऐश्वर्या राय बच्चन बड़े परदे पर कमबैक करने जा रहीं और उनकी कमबैक फिल्म मणिरत्नम निर्देशित...

शरद पवार का तंज, कई समारोह का हिस्सा रहा, लेकिन कभी किसी राज्पाल ने...

0
महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की ओर से राज्य के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को मिठाई खिलाते हुए वायरल हुई तस्वीरों पर शरद...

मौका-मौका: एसबीआई जल्द करने वाला है क्लर्क के पदों पर बंपर भर्ती, जानिए पूरी...

0
बैंक में सरकारी नौकरी का सपना संजोए बैठे उम्मीदवारों के लिए अच्छी खबर है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया जल्द ही क्लर्क के पदों पर...

उत्तराखंड: पूर्व कैबिनेट मंत्री की करीबी पर शासन ने कसा जांच का शिकंजा, जानिए...

0
उत्तराखंड के पूर्व कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत की परेशानी कम होने का नाम नही ले रही. अब पूर्व कैबिनेट मंत्री की...

महाराष्ट्र विधानसभा के लिए आज का दिन अहम, शिंदे की अग्निपरीक्षा-होना है स्पीकर का...

0
महाराष्ट्र की शिंदे सरकार के लिए आज का दिन अहम में कितना दम है. आज ये भी तय हो जाएगा कि क्या सच में...

राशिफल 03-07-2022: आज सूर्य देव की कृपा से इन राशियों का चमकेगा भाग्य

0
मेष- आत्मविश्वास भरपूर रहेगा. माता का सानिध्य मिलेगा. कारोबार में वृद्धि होगी. परिश्रम अधिक रहेगा. स्वास्थ्य का ध्यान रखें. क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मन...

3 जुलाई 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 3 जुलाई 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Ind Vs Eng-5th Test: दूसरे दिन का खेल खत्म, टीम इंडिया का दबदबा-सैकड़े से...

0
मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ अधूरी छूटी सीरीज के पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन एजबस्टन में दूसरे दिन बारिश के तीन बार अड़ंगा डालने के...

मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में...

0
शनिवार को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (CMM) ने ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज कर...
%d bloggers like this: