क्या वैक्सीन बंटवारे के लिए डब्लूएचओ और चीन साठगांठ कर चुके हैं!

कोरोना वायरस वैक्सीन दुनियाभर के देशों में बिना भेदभाव बंट सके, इसके लिए चीन भी अब कोवैक्स का हिस्सा बन गया है. बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोवैक्स गठबंधन तैयार किया है.

ये इस तरह से बनाया गया है कि अमीर देश फंडिंग करें और इससे गरीब देशों तक भी वैक्सीन पहुंच सके. चीन पहले कोवैक्स से जुड़ने को तैयार नहीं था लेकिन फिर अचानक जुड़ गया, जबकि अमेरिका इस गठबंधन का हिस्सा नहीं है. जानिए, क्या हैं इसके मायने.

सबसे पहले तो ये समझना जरूरी है कि आखिर ये कोवैक्स क्या है और क्या करेगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अप्रैल में कोरोना महामारी का टीका तैयार करने के लिए इसे बनाया. यूरोपियन यूनियन भी इसमें उसका सहयोगी है.

इसे बनाने के पीछे विश्व स्वास्थ्य संगठन का मकसद सभी देशों को समान तरीके से कोविड-19 की वैक्सीन पहुंचाना है.

बता दें कि इससे कई वैक्सीन निर्माता देश जुड़ चुके हैं और ये तय किया गया है कि साल 2021 के आखिर तक दुनिया के देशों में कम से कम 2 बिलियन डोज पहुंचाए जाएंगे.

यह भी पढ़ें -  राजस्थान कांग्रेस में घमासान, अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले गहलोत-पायलट के गुट ने फिर बढ़ाई हाईकमान की टेंशन, भाजपा भी सक्रिय

कोवैक्स का एक और भी मकसद है, कि कोरोना वैक्सीन की जमाखोरी रोकी जा सके ताकि वो तुरंत से तुरंत जरूरतमंदों तक पहुंचे.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक कोवैक्स से अब तक 160 से ज्यादा देश जुड़ गए हैं, जिसमें ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और कनाडा जैसे विकसित देश भी शामिल हैं. ये वो देश हैं जो कोरोना वैक्सीन बनाने के आखिरी चरण में हैं.

इनका काम वैक्सीन सबको दिलवाना है. इसके लिए सभी देशों को दो श्रेणियों में रखा गया है – एक तो वो देश, जो खुद को फाइनेंस कर सकते हैं और दूसरे वो देश जिन्हें फंडिंग की जरूरत है.

पहली श्रेणी के देश वैक्सीन की पूरी कीमत चुकाएंगे और कुछ गरीब देशों को बहुत कम या कुछ भी नहीं देना होगा. इस तरह से कोवैक्स काम करेगा.

देशों ने मिलकर वैक्सीन की रिसर्च और निर्माण के लिए पहले ही 1.4 बिलियन डॉलर कोवैक्स को दिए हैं, हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक अभी और पैसों की जरूरत है.

यह भी पढ़ें -  शारदीय नवरात्रि का दूसरा दिन: ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानें विधि और कथा

इसके लिए उसने अमेरिका और रूस से भी कोवैक्स में शामिल होने की बात की लेकिन दोनों ही महाशक्तियों ने इससे इनकार कर दिया.

इसकी बजाए ये दोनों ही देश वैक्सीन बनाकर दूसरे कई देशों से द्विपक्षीय समझौते कर रहे हैं ताकि उनकी बनाई वैक्सीन खरीदी जाए.

वैसे अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप पहले ही विश्व स्वास्थ्य संगठन पर चीन से मिले होने और करप्ट होने का आरोप लगा चुके हैं.

कोरोना के मामले में देर से आगाह करने के कारण ट्रंप संगठन की अमेरिकी फंडिंग भी पहले ही रोक चुके हैं. ऐसे में कोवैक्स स्कीम से अमेरिका के जुड़ने का सवाल ही नहीं आता.

रूस का भी कोवैक्स से न जुड़ना अमेरिकी देखादेखी माना जा रहा है. रूस वैक्सीन की दौड़ में सबसे आगे है और वहां कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण भी शुरू हो चुका है.

यह भी पढ़ें -  नंदा गौरा योजना की 80 हजार लाभार्थी बालिकाओं को सीएम धामी ने हस्तांतरित की 323 करोड़ 22 लाख की धनराशि

माना जा रहा है कि वो कोवैक्स में शामिल होने पर वैक्सीन को भारी कीमत पर बेच नहीं सकेगा इसलिए वो इससे बच रहा है.

अमेरिका और रूस के शामिल न होने, जबकि चीन के कोवैक्स से जुड़ने के कई मतलब हो सकते हैं. बीजिंग ने अब तक ये साफ नहीं किया है कि वो कैसे स्कीम में अपनी मदद देगा.

हालांकि उसका कहना है कि वो वैक्सीन के बांटने में मदद करेगा और इसके लिए फंडिंग भी करेगा. वैसे इसका एक और मतलब भी हो सकता है.

कोवैक्स के तहत बनाई जा रही 9 वैक्सीन में से 4 वैक्सीन खुद चीन बना रहा है. ऐसे में बेचने और बांटने के दौरान चीन की विश्वसनीयता संदेह के घेरे में आ सकती है.

खासकर तब, जब उसपर पहले से ही कोरोना को छिपाने और दुनिया को अंधेरे में रखने का आरोप लग रहा है.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Covid19: कोरोना के नए केसों में दर्ज हुई बड़ी गिरावट, एक दिन में मिले...

0
कोरोना वायरस के मामले में भारत को बड़ी राहत मिली है. देश में कोविड 19 के नए केसों में बड़ी गिरावट दर्ज की गई...

दिल्‍ली आबकारी नीति में मामला: चर्चित शराब कारोबारी समीर महेंद्रू गिरफ्तार

0
प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्‍ली आबकारी नीति में कथित भ्रष्‍टाचार के मामले में बड़ी कार्रवाई की है. ईडी ने आबकारी नीत‍ि में भ्रष्‍टाचार से...

जारी हो गया नीट पीजी काउंसलिंग 2022 राउंड 1 प्रोविजनल सीट

0
मेडिकल काउंसलिंग कमेटी, MCC ने NEET PG काउंसलिंग 2022 राउंड 1 प्रोविजनल सीट अलॉटमेंट जारी कर दिया है. कमेटी द्वारा 27 सितंबर, 2022 को...

पीएफआई पांच साल के लिए बैन, मोदी सरकार ने घोषित किया ‘गैरकानूनी संघ’

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) पर बड़ा फैसला लिया है. मंगलवार (27 सितंबर, 2022) को...

राशिफल 28-09-2022: आज का दिन वृष राशि के विद्यार्थियों के लिए रहेगा अच्छा, जानिए...

0
मेष- सामाजिक और धार्मिक कार्यों के लिए उत्तम दिन है. आज किसी पुराने मित्र से अचानक मुलाकात हो सकती है. इससे मन में प्रसन्नता...

28 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 27 सितम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

विश्व पर्यटन दिवस पर पर्यटन के क्षेत्र में राज्य को मिले सम्मान पर सीएम...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को नई दिल्ली में विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर उत्तराखंड को बेस्ट एडवेंचर टूरिज्म डेस्टिनेशन एवार्ड तथा...

उत्तराखंड को मिला बेस्ट टूरिज्म डेस्टिनेशन अवार्ड, पर्यटन के सर्वांगीण विकास के लिए भी...

0
विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर उत्तराखंड राज्य को पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार द्वारा बेस्ट एडवेंचर टूरिज्म डेस्टिनेशन और पर्यटन के सर्वांगीण विकास के...

कांग्रेस पर्यवेक्षकों ने दी क्लीन चिट, अध्यक्ष पद की रेस से बाहर नहीं गहलोत

0
राजस्थान में कांग्रेस विधायकों की बगावत के बाद जारी सियासी संकट को लेकर पार्टी पर्यवेक्षकों ने अपनी रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज...

मुख्य सचिव ने किया हेमकुंड साहिब और बद्रीनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्यो का निरीक्षण

0
मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने मंगलवार को हेमकुंड साहिब और बद्रीनाथ धाम में यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लेने के साथ ही मास्टर प्लान...
%d bloggers like this: