पौराणिक मान्यताओं के अनेक राज समेटे हुए है बाणासुर का किला

उत्तराखंड़ को देवों की भूमि (देवभुमी)कहा जाता है, कहते हैं ऋषि मुनियों ने सैकड़ों साल तपस्या करके इसे दिव्यभूमि बनाया है, जिसका वैभव पाने के लिए श्रद्धालु मीलों की यात्रा करके अपने भगवान के दर्शन को आते हैं.

चम्पावत जिले के लोहाघाट नगर से लगभग 6 किलोमीटर दूर कर्णकरायत नामक स्थान से एक किलोमीटर ऊपर लगभग 1900 मीटर ऊंचाई पर स्थित है बाणासुर का किला. इसे स्थानीय लोग बानेकोट भी कहते हैं.

‘कुमाऊं केसरी’ के नाम से प्रसिद्ध बद्रीदत्त पाण्डे की किताब कुमांउ का इतिहाश में उन्होंने लिखा है कि लोहाघाट क्षेत्र का “सबसे पुराना किला टौलगढ़ है, जिसको कहते हैं कि वाणासुर दैत्य ने अपने लिए बनाया था.

जब वह विष्णु से न मारा गया तो महाकाली ने प्रकट होकर उसे मारा. लोहा नदी उसी दैत्य के लहू से निकली . वहां की मिट्टी कुछ लाल, कुछ काली है. कहा जाता है कि दैत्य के खून से वह ऐसी हुई. और भी सुई कोट, चुमल कोट, चंदीकोट, छतकोट, बौनकोट किले कहे जाते हैं जो खंडहर के रूप में हैं. ये छोटे-छोटे माण्डलीक राजाओं द्वारा बनाये गये हैं.”

कुछ एसी है बाणासुर किले की भौगोलिक स्थिती –
बाणासुर किले की भौगोलिक स्थिती अपने आप में ही मनमोहक है इसी की वजह से यह किला इतिहास के पन्नों में दर्ज है. किले से 360 अंश तक चारों दिशाओं में बहुत दूर -दूर तक का नजारा साफ देखा जा सकता है. हिमालय का तो यहां से इतना विहंगम दृश्य दिखता है कि पर्यटन विभाग ने अब यहां एक शक्तिशाली दूरबीन भी लगा दी है.

किले से चारों तरफ का विहंगम दृश्य देखते ही बनता है. चोटी पर लगभग 90 मीटर लम्बे और 20-25 मीटर चौड़ाई के आकार में बने हुये किले के अवशेष अब भी साफ दिखाई देते हैं. यह किला भी अब भारतीय पुरातत्व विभाग में संरक्षण में है.

किले से पूर्व एवं उत्तर दिशा में हिमालय की श्रृंखलाएं दिखाई देती हैं और नेपाल की चोटियों से लेकर चौखम्भा तक की चोटियों को यहां से देखा जा सकता है. पश्चिम की ओर गहरी खाई है और उस ओर घना जंगल भी दिखाई देता है. दक्षिण की कर्णकरायत के आसपास की उपजाऊ जमीन इस किले से दिखाई देती है.

इस किले के दो प्रवेश द्वार हैं. लम्बाकार बने इस किले के वर्तमान स्वरूप को देखकर यह सहज ही अनुमान किया जा सकता है कि इस किले का निर्माण कम से कम तीन अलग-अलग कालों में हुआ होगा. किले के चारों कोनों पर चार सुरक्षा बुर्ज बने हुए हैं. चांदपुर गढ़ी की तरह ही बाणासुर के किले में भी दीवारों बाहर देखने के लिए रोशनदान या प्रकाशछिद्र हुए हैं. इन 85 छिद्रों की निचली सतह ढालदार है, सम्भवत यह आकार इनके सामरिक उपयोग में मददगार होता होगा.

प्राचीन काल में जल का कोई उचीत श्रोत ना होने के कारण पानी की दिक्कत रहा करती थी जिसके लिए बाणासुर के किले में आयताकार कुँआ मुख्य भवन के बीचोंबीच बनाया गया था. तेरह मीटर लम्बा और पांच मीटर चौड़ा यह जल संग्राहक लगभग 8 मीटर गहरा है और इसमें नीचे तक उतरने के लिए सीढ़ियां भी बनी हैं.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएम धामी ने किया 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ

ऐसा माना जाता हैे कि जब इस किले का उपयोग किया जाता होगा तो उन दिनों निश्चित रूप से इसी जल कुंड का पानी किले के निवासियों के उपयोग में आता होगा. यह भी हो सकता है कि उन दिनों युद्ध आदि की स्थितियों में इस कुंड को किसी बाहरी जल स्रोत के पानी से भरा जाता होगा. किले की दक्षिणी दिशा में कर्णकरायत क्षेत्र में जल स्रोतों की अधिकता आज भी इन क्षेत्र के बेहद उपजाऊ होने की एक बड़ी वजह है.

यह भी पढ़ें -  दिल्ली होटल मालिक आत्महत्या मामले में उत्तराखंड के आईपीएस का नाम, दिल्ली से देहरादून तक मचा हड़कंप

संभवतः ऐसे ही किसी जल स्रोत ने अतीत में बाणासुर के किले को एक बेहतरीन दुर्ग के रूप में अपनी उपयोगिता दिखाने का मौका दिया होगा. ऐसे ही अनेक लोगों ने अपनी अपनी रोचक कहानीयों के साथ कीले के मानचित्र को दर्शाया हैं.





Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,252FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

नौसेना दिवस: ‘मैरीटाइम इनफार्मेशन चार्ट’ का लोकार्पण, राज्यपाल और सीएम धामी हुए शामिल

0
नौसेना दिवस के अवसर पर राजपुर रोड स्थित राष्ट्रीय जल सर्वेक्षण कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल(से.नि.) गुरमीत सिंह ने बतौर मुख्य...

केदारनाथ-बद्रीनाथ धाम की तर्ज पर अब महासू देवता और जागेश्वर धाम को विकसित करेगी...

0
बद्रीनाथ और केदारनाथ की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास के लिए बदरी-केदारनाथ धाम की तर्ज...

पिथौरागढ़: नेपाल की तरफ से पत्थरबाजी की घटना, निर्माण कार्य में लगे मजदूरों...

0
पिथौरागढ़| धारचूला के घटखोला में तटबंध निर्माण के दौरान नेपाल की ओर से पत्थरबाजी की गई. पत्थर फेंकने से वहां अफरा-तफरी मच गई. तटबंध...

Ind Vs Bang 1st ODI: मेहदी हसन ने टीम इंडिया के जबड़े से छीनी...

0
मेहदी हसन मिराज (38) और मुस्‍ताफिजुर रहमान (10) ने आखिरी विकेट के लिए 51 रन की अविजित साझेदारी करके बांग्‍लादेश को रविवार को वनडे...

यूपी: शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला...

0
प्रयागराज| प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला भी जल्द खाली होगा....

उत्तराखंड: अंकिता भंडारी हत्याकांड के तीनों आरोपियों का होगा नार्को टेस्ट, 10 दिन के...

0
उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले पर पुलिस अगले 10 दिनों के भीतर चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इसके साथ ही अंकिता...

देहरादून: विपिन रावत मौत मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

0
देहरादून| चमोली निवासी युवक विपिन रावत के साथ मारपीट के बाद मौत के मामले में बीते दिन परिजनों समेत स्थानीय लोगों ने निजी अस्पताल...

देहरादून: वरिष्ठ पत्रकार व राज्य आंदोलनकारी योगेश भट्ट बने राज्य सूचना आयुक्त, आदेश जारी

0
उत्तराखंड में धामी सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट को राज्य सूचना आयुक्त नियुक्त किया है. प्रभारी सचिव एसएन पांडे ने इसके आदेश जारी...

देहरादून: सीएम धामी ने किया 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ

0
देहरादून| रविवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय से देहरादून स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत 10 इलैक्ट्रिक बसों का विस्तारित मार्ग आई.एस.बी.टी....

जानें 2023 के लिए बाबा वेंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां

0
नास्त्रेदमस वुमन के नाम से मशहूर बल्गेरियाई फकीर बाबा वेंगा ने 2023 को लेकर कई भविष्यवाणी की हैं. माना जाता है कि बाबा वेंगा...
%d bloggers like this: