पौराणिक मान्यताओं के अनेक राज समेटे हुए है बाणासुर का किला

उत्तराखंड़ को देवों की भूमि (देवभुमी)कहा जाता है, कहते हैं ऋषि मुनियों ने सैकड़ों साल तपस्या करके इसे दिव्यभूमि बनाया है, जिसका वैभव पाने के लिए श्रद्धालु मीलों की यात्रा करके अपने भगवान के दर्शन को आते हैं.

चम्पावत जिले के लोहाघाट नगर से लगभग 6 किलोमीटर दूर कर्णकरायत नामक स्थान से एक किलोमीटर ऊपर लगभग 1900 मीटर ऊंचाई पर स्थित है बाणासुर का किला. इसे स्थानीय लोग बानेकोट भी कहते हैं.

‘कुमाऊं केसरी’ के नाम से प्रसिद्ध बद्रीदत्त पाण्डे की किताब कुमांउ का इतिहाश में उन्होंने लिखा है कि लोहाघाट क्षेत्र का “सबसे पुराना किला टौलगढ़ है, जिसको कहते हैं कि वाणासुर दैत्य ने अपने लिए बनाया था.

जब वह विष्णु से न मारा गया तो महाकाली ने प्रकट होकर उसे मारा. लोहा नदी उसी दैत्य के लहू से निकली . वहां की मिट्टी कुछ लाल, कुछ काली है. कहा जाता है कि दैत्य के खून से वह ऐसी हुई. और भी सुई कोट, चुमल कोट, चंदीकोट, छतकोट, बौनकोट किले कहे जाते हैं जो खंडहर के रूप में हैं. ये छोटे-छोटे माण्डलीक राजाओं द्वारा बनाये गये हैं.”

कुछ एसी है बाणासुर किले की भौगोलिक स्थिती –
बाणासुर किले की भौगोलिक स्थिती अपने आप में ही मनमोहक है इसी की वजह से यह किला इतिहास के पन्नों में दर्ज है. किले से 360 अंश तक चारों दिशाओं में बहुत दूर -दूर तक का नजारा साफ देखा जा सकता है. हिमालय का तो यहां से इतना विहंगम दृश्य दिखता है कि पर्यटन विभाग ने अब यहां एक शक्तिशाली दूरबीन भी लगा दी है.

किले से चारों तरफ का विहंगम दृश्य देखते ही बनता है. चोटी पर लगभग 90 मीटर लम्बे और 20-25 मीटर चौड़ाई के आकार में बने हुये किले के अवशेष अब भी साफ दिखाई देते हैं. यह किला भी अब भारतीय पुरातत्व विभाग में संरक्षण में है.

किले से पूर्व एवं उत्तर दिशा में हिमालय की श्रृंखलाएं दिखाई देती हैं और नेपाल की चोटियों से लेकर चौखम्भा तक की चोटियों को यहां से देखा जा सकता है. पश्चिम की ओर गहरी खाई है और उस ओर घना जंगल भी दिखाई देता है. दक्षिण की कर्णकरायत के आसपास की उपजाऊ जमीन इस किले से दिखाई देती है.

इस किले के दो प्रवेश द्वार हैं. लम्बाकार बने इस किले के वर्तमान स्वरूप को देखकर यह सहज ही अनुमान किया जा सकता है कि इस किले का निर्माण कम से कम तीन अलग-अलग कालों में हुआ होगा. किले के चारों कोनों पर चार सुरक्षा बुर्ज बने हुए हैं. चांदपुर गढ़ी की तरह ही बाणासुर के किले में भी दीवारों बाहर देखने के लिए रोशनदान या प्रकाशछिद्र हुए हैं. इन 85 छिद्रों की निचली सतह ढालदार है, सम्भवत यह आकार इनके सामरिक उपयोग में मददगार होता होगा.

प्राचीन काल में जल का कोई उचीत श्रोत ना होने के कारण पानी की दिक्कत रहा करती थी जिसके लिए बाणासुर के किले में आयताकार कुँआ मुख्य भवन के बीचोंबीच बनाया गया था. तेरह मीटर लम्बा और पांच मीटर चौड़ा यह जल संग्राहक लगभग 8 मीटर गहरा है और इसमें नीचे तक उतरने के लिए सीढ़ियां भी बनी हैं.

यह भी पढ़ें -  असदुद्दीन ओवैसी ने की उदयपुर घटना की निंदा, बोले नुपुर शर्मा भी हो गिरफ्तार!

ऐसा माना जाता हैे कि जब इस किले का उपयोग किया जाता होगा तो उन दिनों निश्चित रूप से इसी जल कुंड का पानी किले के निवासियों के उपयोग में आता होगा. यह भी हो सकता है कि उन दिनों युद्ध आदि की स्थितियों में इस कुंड को किसी बाहरी जल स्रोत के पानी से भरा जाता होगा. किले की दक्षिणी दिशा में कर्णकरायत क्षेत्र में जल स्रोतों की अधिकता आज भी इन क्षेत्र के बेहद उपजाऊ होने की एक बड़ी वजह है.

यह भी पढ़ें -  1 जुलाई ला रहा है आपकी वित्‍तीय सेहत से जुड़े कई बदलाव, जिससे आपकी जेब पर पड़ेगा सीधा असर

संभवतः ऐसे ही किसी जल स्रोत ने अतीत में बाणासुर के किले को एक बेहतरीन दुर्ग के रूप में अपनी उपयोगिता दिखाने का मौका दिया होगा. ऐसे ही अनेक लोगों ने अपनी अपनी रोचक कहानीयों के साथ कीले के मानचित्र को दर्शाया हैं.





Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,229FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

भाजपा का आखिरी समय तक सस्पेंस: सीएम न बनाए जाने पर नाराज हुए फडणवीस...

0
महाराष्ट्र में 10 दिनों से जारी सियासी संकट का आखिरकार गुरुवार शाम 7:30 बजे पटाक्षेप हो गया. मुंबई स्थित राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह...

महाराष्ट्र: एकनाथ शिंदे 2 जुलाई को करेंगे बहुमत साबित, स्पीकर का भी होगा चुनाव

0
मुंबई| राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से शनिवार यानी कि आगामी 2 जुलाई को बहुमत साबित करने के लिए कहा है....

ऑटो ड्राइवर से सीएम बनने का सियासी सफर, कुछ ऐसा रहा ‘एकनाथ शिंदे’ का...

0
एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे. आम शिवसैनिक से अपने सियासी सफर की शुरुआत करने वाले शिंदे आज सीएम की कुर्सी पर पहुंच...

हर मौसम में दिन और रात तस्वीरें खींचने की क्षमता रखता है ये सैटेलाइट,...

0
श्रीहरिकोटा| गुरुवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने PSLV-C53 मिशन लॉन्च किया. आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से शाम 6.02 बजे तीन सैटेलाइट लॉन्च...

हरिद्वार: उत्तराखंड एसटीएफ और ड्रग्स विभाग की छापेमारी, बड़ी मात्रा में नकली दवाइयां बरामद

0
गुरुवार को उत्तराखंड एसटीएफ (उत्तराखंड स्पेशल टॉस्क फोर्स) और ड्रग्स विभाग की संयुक्त टीम ने हरिद्वार जिले के रुड़की में 5 मेडिकल स्टोरों...

धामी सरकार के 100 दिन: सीएम धामी ने ‘हमारो पहाड़’ टाइटल सॉग...

0
गुरुवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर ‘ सर्वश्रेष्ठ बने उत्तराखण्ड...

महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री बने एकनाथ शिंदे, देवेंद्र फडणवीस ने ली डिप्टी सीएम पद...

0
गुरुवार को शिवसेना के एकनाथ शिंदे ने को महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. उन्हें राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पद...

Ind Vs Eng: इंग्लैंड खिलाफ आखिरी टेस्ट मैच से रोहित बाहर, जसप्रीत बुमराह के...

0
बर्मिंघम|…. शुक्रवार से इंग्लैंड के खिलाफ शुरू होने जा रहे सीरीज के पांचवें और आखिरी टेस्ट मैच में जसप्रीत बुमराह टीम इंडिया की...

सियासी उलटफेर: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री, थोड़ी देर में लेंगे शपथ

0
महाराष्ट्र की राजनीति को लेकर एक बहुत बड़ी खबर सामने आई है. बीजेपी के सहयोग से श‍िवसेना के बागी एकनाथ शिंदे महाराष्‍ट्र के नए...

महाराष्ट्र में चल रहे सियासी हलचल पर हरीश रावत का भाजपा पर बड़ा हमला,...

0
महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम के मामले में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने आरोप...
%d bloggers like this: