यूपी विधानसभा चुनाव: ‘पांडवों की राजधानी’, जहां की हार जीत से तय होता है किसकी बनेगी सरकार

यूपी में मंगलवार को विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए प्रचार का दौर थम चुका है. जिन सीटों पर पहले चरण के तहत 10 फरवरी को वोट डाले जाने हैं, उनमें पश्चिमी यूपी की हस्तिनापुर विधानसभा सीट भी है. हस्तिनापुर जहां ऐतिहास‍िक रूप से अपना अलग महत्‍व रखता है, वहीं इसे लेकर एक रोचक तथ्‍य भी यूपी की राजनीति से जुड़ा है.

हस्तिनापुर को लेकर तथ्‍य यह है कि 1957 में विधानसभा सीट बनने के बाद से यहां जिस पार्टी को जीत मिली है, वही प्रदेश में सरकार बनाने में सफल रही है. 1950 के दशक से शुरू हुआ यह सिलसिला 2017 तक जारी रहा, जब राज्‍य में बीजेपी की अगुवाई में सरकार का गठन हुआ.

ऐसे में इस पर एक बार फिर सभी की नजरें टिकी हुई हैं कि आखिर 2022 के चुनाव का नतीजा क्‍या होता है और क्‍या एक बार फिर यहां से जीत दर्ज करने वाली पार्टी ही राज्‍य में सरकार बनाएगी?

महाभारत काल से है हस्‍त‍िनापुर का संबंध
हस्तिनापुर का अपना ऐतिहासिक महत्‍व है. इसका सीधा संबंध महाभारत काल से है. इतिहास में यह पांडवों की राजधानी के तौर पर वर्णित है, जहां से उन्‍होंने महाभारत युद्ध के बाद राज किया. अतीत में हुए यूपी के चुनावों यहां सरकार बनाने वाली पार्टियों पर नजर डालें तो 1957 में यहां से कांग्रेस के ब‍िशांभर सिंह ने दर्ज की थी और उस चुनाव के बाद पार्टी ने यहां सरकार बनाई थी. यह सिलसिला 1967 के चुनाव तक जारी रहा था.

वर्ष 1969 में कांग्रेस यह सीट हार गई थी और भारतीय क्रांति दल ने यहां से जीत दर्ज की थी, जिसका गठन चौधरी चरण सिंह ने कांग्रेस से अलग होकर किया था. 1969 में वह यूपी के सीएम बने. लेकिन 1974 में यह सीट फिर से कांग्रेस के खाते में गई और पार्टी यहां सरकार बनाने में सफल रही. 1977 में यहां से जनता पार्टी ने जीत हासिल की और पार्टी के नेता राम नरेश यादव यहां सीएम बने.

यहां जीत-हार से तय होता है किसकी बनेगी सरकार
वर्ष 1980 में फिर कांग्रेस (I) ने जीत हासिल की और विश्‍वनाथ प्रताप सिंह सीएम बने. 1985 में भी कांग्रेस यहां से जीतने और यूपी में सरकार बनाने में कामयाब रही. 1989 में यहां से जनता दल (सोशलिस्‍ट) के प्रत्‍याशी ने जीत हासिल की और उसी साल मुलायम सिंह यादव राज्‍य के सीएम बने. इसके बाद 1996 में हुए चुनाव में बहुजन पार्टी ने यहां से जीत हासिल की और सरकार बनाने में सफल रही. लेकिन फिर 2002 के चुनाव में सपा ने यहां जीत दर्ज की और सरकार बनाई.

साल 2007 में बसपा के टिकट पर योगेश वर्मा यहां से जीते और मायावती राज्‍य की सीएम बनीं. 2012 के चुनाव में यह सीट सपा के खाते में गई और अखिलेश यादव के नेतृत्‍व में पार्टी ने यूपी में सरकार बनाई. साल 2017 के चुनाव बीजेपी ने यहां जीत दर्ज की, जिसके बाद योगी आदित्‍यनाथ की अगुवाई में पार्टी ने यहां सरकार का गठन किया है. यही वजह है कि अब एक बार फिर हस्तिनापुर पर सभी की नजरें टिकी हैं कि आखिर इस बार यहां से किसकी जीत होती है और कौन सी पार्टी यूपी में सरकार बनाने में सफल होती है.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,242FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

सीएम धामी के निर्देश पर ताबड़तोड़ कार्रवाई, नैनीताल में 5 रिज़ॉर्ट सील

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी के निर्देशों पर उत्तराखण्ड में विभिन्न गेस्ट हाउस और रिज़ॉर्ट पर प्रशासन की ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू हो गई है. सीएम...

मिजोरम: असम राइफल्स और स्थानीय पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, 167.86 करोड़ रुपये की...

0
मिजोरम में असम राइफल्स और स्थानीय पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. पार्टियों में सप्लाई होने वाले ड्रग्स की एक बड़ी खेप को...

अंकिता मर्डर केस: नालायक बेटे के अपराध ने पिता को एक झटके में ही...

0
उत्तराखंड में पूर्व राज्य मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेताओं में शुमार रहे विनोद आर्य को उनके बेटे ने ही जिंदगी भर की मेहनत...

उत्तराखंड में विधानसभा अध्यक्ष ने सीएम से की बड़ी मांग, राजस्व पुलिस व्यवस्था समाप्त...

0
ऋषिकेश में अंकिता भंडारी निर्मम हत्याकांड के बाद उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने प्रदेश में जहाँ कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था...

Ankita Bhandari Murder Case: एम्स ऋषिकेश में हुआ अंकिता भंडारी का पोस्टमार्टम, अस्पताल के...

0
उत्तराखंड में रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या के बाद उसके शव का पोस्टमार्टम एम्स ऋषिकेश में हुआ. वहीं एम्स ऋषिकेश के बाहर लोगों की...

देश में एक अक्टूबर से शुरू होगी 5जी सेवाएं, पीएम मोदी भारतीय मोबाइल कांग्रेस...

0
भारत में 5जी सेवाएं आधिकारिक तौर पर 1 अक्टूबर से शुरू होंगी. नेशनल ब्रॉडबैंड मिशन ने शनिवार को ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र...

पितृ अमावस्या 2022: 25 सितम्बर पितृ अमावस्या, जानें शुभ मुहूर्त-महत्व

0
25 सितम्बर को पितर आशीर्वाद देकर अपने-अपने धाम को चले जायेंगे, माना जाता है कि इन दिनों पितरों का आह्वान करने से वे हमसे...

अंकिता भंडारी मर्डर केस: मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के पिता और भाजपा के नेता...

0
उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्शन में है. वहीं अंकिता की हत्या के बाद उत्तराखंड में...

अंकिता भंडारी हत्याकांड: पुलकित के करीबियों पर गिरी गाज, भाई को ओबीसी आयोग से...

0
उत्तराखंड स्थित ऋषिकेश में अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले में एक्शन लगातार जारी है. पहले पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए जांच के बाद 24...

ऋषिकेश: चीला पावर हाउस के पास मिला अंकिता भडारी का शव, जांच के लिए...

0
ऋषिकेश| एसडीआरएफ की टीम को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. चीला शक्ति नहर में चीला पावर हाउस के पास अंकिता भडारी का शव मिला...
%d bloggers like this: