spot_imgspot_img

उत्तराखंड: केदारनाथ त्रासदी के 7 साल बाद शुरू हुआ लापता लोगों के कंकाल ढूंढने का अभियान, इस तरह की जाएगी पहचान

साल 2013 में आए केदारनाथ त्रासदी की यादें सात साल बाद भी लोगों के जेहन में ताजा है. बादल फटने से उत्तराखंड में हिंदुओं के सबसे बड़े तीर्थ स्थल में से एक केदारनाथ में आई आपदा में हजारों लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी.

इस हादसे में कई लोग लापता हो गए थे जिनका आज तक कुछ पता नहीं चल पाया है. उत्तराखंड पुलिस ने अब उन्हीं लापता लोगों के कंकाल ढूंढने के लिए एक अभियान शुरू किया है. चार दिनों तक चलने वाले इस खोजी अभियान में मिले सभी नरकंकालों का डीएनए टेस्ट भी किया जाएगा.

मालूम हो कि बादल फटने के बाद केदारनाथ में 16 जून, 2013 में आई त्रासदी में हजारों लोगों की जान चली गई थी वहीं कई लोग लापता हो गए थे जिनके परिजनों को आज भी उनका इंतजार है.

यह भी पढ़ें -  2024 में कौन होगा नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा सियासी दुश्‍मन, पढ़ें ताजा सर्वे के खुलासे

गढ़वाल रेंज के आईजी अभिनव कुमार ने बताया, ‘इस त्रासदी में लापता हुए लोगों की संख्या और बरामद किए शवों की संख्या में बहुत अंतर है.

इसलिए कंकालों का डीएनए टेस्ट किया जाएगा.’ बता दें कि आपदा आने के बाद से कई बार इस तरह के नर कंकालों को खोजने के लिए अभियान चलाए गए हैं.

त्रासदी के बाद नैनीताल हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए उत्तराखंड सरकार को आपदा में लापता हुए लोगों के नरकंकालों को खोजने का निर्देश दिया था. इसी क्रम में बुधवार को एक और खोजी अभियान की शुरुआत की गई है.

यह भी पढ़ें -  ‘Beating the Retreat’ 2023: विजय चौक पर बारिश के बीच 'बीटिंग द रिट्रीट' समारोह, सैन्य बैंड ने दर्शकों को किया मंत्रमुग्ध

रुद्रप्रयाग के पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि खोजबीन के काम के लिए जिला स्तर पर 10 टीमों का गठन किया गया है. यह अभियान बुधवार सुबह 8 बजे से शुरू होगा.

यह सभी टीमें उन स्थानों पर सर्च अभियान चलाएंगी जहां आपदा का प्रभाव पड़ा था. नवनीत सिंह भुल्लर के मुताबिक हर टीम का नेतृत्व एक उप निरीक्षक करेगा.

खोजी दल के सभी टीमों में 2 पुलिस कॉन्स्टेबल, 2 एसडीआरएफ कॉन्स्टेबल और एक फार्मासिस्ट शामिल है. इलाके की अच्छे से पहचान की जा सके इसलिए खोजी दल में कुछ स्थानीय युवाओं को भी शामिल किया गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक हर टीम के पास सुरक्षा उपकरण, भोजन सामग्री, संचाल के लिए वायरलेस, फोटो-वीडियोग्राफी के लिए कैमरे और कैंपिंग के लिए टेंट सहित कई जरूरी सामनों को उपलब्ध कराया गया है.

यह भी पढ़ें -  Australian Open 2023: नोवाक जोकोविच दसवीं बार बने ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन, फाइनल में सिसिपास को दी मात

ये टीमें केदारनाथ से वासुकी ताल, गौरीकुंड, कालीमठ, चौमासी, रामबाड़ा, जंगल चट्टी, केदारनाथ बेस कैंप का ऊपरी क्षेत्र, केदारनाथ मंदिर के आसपास, गौरीकुंड, गऊ मुखड़ा, त्रियुगीनारायण, गरुड़ चट्टी, मुनकटिया, सोनप्रयाग आदि इलाकों में नर कंकालों की खोज करेगी.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 31-01-2023: आज बजरंग बली करेंगे इनका कल्याण, पढ़ें दैनिक राशिफल

0
मेष-: परिवार में सुख-शांति और धार्मिक वातावरण रहेगा. व्यावसायिक गतिविधियों से आपको अच्छा मुनाफा मिल सकता है. आपके दिमाग और दिल में एक...

31 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 31 जनवरी 2023 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

लंबे समय से बाहर चल रहे टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने...

0
चेन्नई| लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की....

उत्तराखंड ने रचा इतिहास, गणतंत्र दिवस की परेड में ‘झांकी मानसखंड’ को मिला...

0
देहरादून| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को देशभर में प्रथम स्थान मिलने से राज्य का नाम...

पाकिस्तान आत्मघाती बम विस्फोट: मरने वालों की संख्या बढ़कर 44 हुई, 157 लोगों की...

0
पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित पेशावर में सोमवार (30 जनवरी, 2023) को पेशावर की मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट हो गया. हमले...

हॉकी विश्व कप में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद मुख्य कोच ग्राहम रीड ने दिया...

0
भुवनेश्वर| हॉकी विश्व कप में 48 साल से चल रहे सूखे खत्म करने में नाकाम रही भारतीय टीम के हेड कोच ग्राहम रीड ने...

गोरखनाथ मंदिर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा

0
2 अप्रैल 2022 को गोरखनाथ मंदिर में हमला करने के मामले में दोषी ठहराये अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा दी गई. गोरखनाथ मंदिर...

उत्तराखंड: विश्वविद्यालयों में लागू होगा समान शैक्षिक कैलेंडर, नैक मूल्यांकन कराना होगा अनिवार्य

0
उत्तराखंड के सभी राजकीय विश्वविद्यालयों में एक जैसा शैक्षणिक कैलेंडर लागू किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इसके अंतर्गत विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में...

भारत-चीन सीमा पर आया एवलांच, अलर्ट मोड में आपदा प्रबंधन विभाग

0
उत्‍तराखंड के उच्‍च हिमालयी इलाकों में रविवार से बर्फबारी का सिलसिला जारी है। बताया जा रहा है कि इस बीच चमोली जिले के मलारी...

2024 में कौन होगा नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा सियासी दुश्‍मन, पढ़ें ताजा सर्वे...

0
मिशन 2024 से पहले जनता का मूड पूरी तरह से जाना जा रहा है. एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामों को लेकर सर्वे...
%d bloggers like this: