spot_imgspot_img

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, दो साल के लिए बढ़ सकता है लोन मोरेटोरियम

कोरोना वायरस की वजह से लागू किए लॉकडाउन के दौरान लोन मोरेटोरियम 6 महीने के लिए दिया गया था. जिसकी अवधि 31 अगस्त को समाप्त हो गई. इस दौरान लोन मोरेटोरियम यानी लोन की किस्तें चुकाने के लिए मिले समय के दौरान ब्याज माफी के अनुरोध पर सुप्रीम कोर्ट में आज (01 सितंबर) फिर सुनवाई शु्रु हुई. केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट को बताया कि ऋण स्थगन (मोरेटोरियम) दो साल के लिए बढ़ सकता है.

पिछली सुनवाई के दौरान इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि लोन मोरेटोरियम के मामले में अपना रूख जल्द स्पष्ट करें. साथ ही कोर्ट ने कहा कि अर्थव्यवस्था में समस्या सरकार के लॉकडाउन की वजह से आई है. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि वे इस मामले की सुनवाई करेंगे और सभी पक्षकारों के बीच कल सॉलिसिटर जनरल के माध्यम से मोरेटोरियम मुद्दे में अपना जवाब दाखिल किया.

सुप्रीम कोर्ट की बैंच ने आगरा निवासी गजेन्द्र शर्मा की याचिका पर सुनवाई कर रही है. शर्मा ने अपनी याचिका में कहा है कि रिजर्व बैंक की 27 मार्च की अधिसूचना में किस्तों की वसूली स्थगित तो की गई है पर कर्जदारों को इसमें काई ठोस लाभ नहीं दिया गया है. याचिकाकर्ता ने अधिसूचना के उस हिस्से को निकालने के लिए निर्देश देने का आग्रह किया है जिसमें मोरेटोरियम अवधि के दौरान कर्ज राशि पर ब्याज वसूले जाने की बात कही गई है.

यह भी पढ़ें -  केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान: जोशीमठ में 200 करोड़ की लागत से बनेगा सीवेज सिस्टम

इससे याचिकाकर्ता जो कि एक कर्जदार भी है. उसका कहना है कि उसके समक्ष कठिनाई पैदा होती है. इससे उसको भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 में दिए गए जीवन के अधिकार की गारंटी मामले में रुकावट आड़े आती है.

सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले कहा था कि जब एक बार मोरेटोरियम तय कर दिया गया है तब उसे उसके उद्देश्य को पूरा करना चाहिए. ऐसे में हमें ब्याज के ऊपर ब्याज वसूले जाने की कोई तुक नजर नहीं आता है. सुप्रीम कोर्ट का मानना है कि यह पूरी मोरेटोरियम अवधि के दौरान ब्याज को पूरी तरह से छूट का सवाल नहीं है बल्कि यह मामला बैंकों द्वारा बयाज के ऊपर ब्याज वसूले जाने तक सीमित है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यह मुश्किल समय है ऐसे में यह गंभीर मुद्दा है कि एक तरफ कर्ज किस्त भुगतान को स्थगित किया जा रहा है जबकि दूसरी तरफ उस पर ब्याज लिया जा रहा है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 31-01-2023: आज बजरंग बली करेंगे इनका कल्याण, पढ़ें दैनिक राशिफल

0
मेष-: परिवार में सुख-शांति और धार्मिक वातावरण रहेगा. व्यावसायिक गतिविधियों से आपको अच्छा मुनाफा मिल सकता है. आपके दिमाग और दिल में एक...

31 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 31 जनवरी 2023 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

लंबे समय से बाहर चल रहे टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने...

0
चेन्नई| लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की....

उत्तराखंड ने रचा इतिहास, गणतंत्र दिवस की परेड में ‘झांकी मानसखंड’ को मिला...

0
देहरादून| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को देशभर में प्रथम स्थान मिलने से राज्य का नाम...

पाकिस्तान आत्मघाती बम विस्फोट: मरने वालों की संख्या बढ़कर 44 हुई, 157 लोगों की...

0
पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित पेशावर में सोमवार (30 जनवरी, 2023) को पेशावर की मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट हो गया. हमले...

हॉकी विश्व कप में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद मुख्य कोच ग्राहम रीड ने दिया...

0
भुवनेश्वर| हॉकी विश्व कप में 48 साल से चल रहे सूखे खत्म करने में नाकाम रही भारतीय टीम के हेड कोच ग्राहम रीड ने...

गोरखनाथ मंदिर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा

0
2 अप्रैल 2022 को गोरखनाथ मंदिर में हमला करने के मामले में दोषी ठहराये अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा दी गई. गोरखनाथ मंदिर...

उत्तराखंड: विश्वविद्यालयों में लागू होगा समान शैक्षिक कैलेंडर, नैक मूल्यांकन कराना होगा अनिवार्य

0
उत्तराखंड के सभी राजकीय विश्वविद्यालयों में एक जैसा शैक्षणिक कैलेंडर लागू किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इसके अंतर्गत विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में...

भारत-चीन सीमा पर आया एवलांच, अलर्ट मोड में आपदा प्रबंधन विभाग

0
उत्‍तराखंड के उच्‍च हिमालयी इलाकों में रविवार से बर्फबारी का सिलसिला जारी है। बताया जा रहा है कि इस बीच चमोली जिले के मलारी...

2024 में कौन होगा नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा सियासी दुश्‍मन, पढ़ें ताजा सर्वे...

0
मिशन 2024 से पहले जनता का मूड पूरी तरह से जाना जा रहा है. एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामों को लेकर सर्वे...
%d bloggers like this: