दूरदर्शन दिवस पर विशेष: आज दूरदर्शन दिवस पर आओ अपने सुनहरे दिन याद करें

आज 15 सितंबर है. आज देश ही नहीं बल्कि हमारे लिए भी प्रसारण के क्षेत्र में बहुत गौरव का दिन है. आज बात उस मनोरंजन की होगी जिससे आपकी सुनहरी यादें जुड़ी हुईं हैं, इससे बचपन से शुरू हुआ आपका साथ आज भी बना हुआ है. आज चर्चा होगी ‘दूरदर्शन’ की. आज दूरदर्शन 61 वर्ष का हो चुका है.

यहां हम आपको बता दें कि भारत में 15 सितंबर 1959 को दूरदर्शन ने राजधानी दिल्ली से पहला प्रसारण शुरू किया था. तब से लेकर अब तक इसने लंबा सफर सफर तय किया है. भारत में टेलीविजन की जब शुरुआत हुई तो दूरदर्शन ने ही पहली बार टीवी पर चित्र उकेरे थे. दूरदर्शन का एक ऐसा नाम है जिससे भारत में टीवी इतिहास की कहानी शुरू की थी.

आज भी दूरदर्शन का नाम सुनते ही अतीत की कई गुदगुदाती और सुनहरे पल याद आ जाते हैं. शुरुआत में इसका प्रसारण सप्ताह में सिर्फ तीन दिन आधा-आधा घंटे होता था. वर्ष 1965 से दूरदर्शन ने अपना प्रसारण रोजाना शुरू कर दिया था. पांच मिनट के समाचार बुलेटिन का आगाज भी इसी साल हुआ.

उसके बाद 10 वर्ष तक दूरदर्शन धीरे-धीरे अपनी गति में आगे बढ़ता रहा.‌ 1975 तक यह सिर्फ 7 शहरों तक ही सीमित था. इसी वर्ष इसका हिंदी नामकरण ‘दूरदर्शन’ से किया गया. यही नहीं कई बड़े फिल्म स्टारों ने भी अपनी यात्रा दूरदर्शन से ही शुरू की थी. शाहरुख खान, इरफान खान, पंकज कपूर, विद्या बालन, राकेश बेदी, मंदिरा बेदी, और मुकेश खन्ना आदि ऐसे कलाकार रहे जो दूरदर्शन से ही निकलकर बॉलीवुड के बड़े स्टार बने.


1982 में ‘कलर टेलीविजन’ आने के बाद दूरदर्शन ने देश में पकड़ी स्पीड

आपको बता दें कि दूरदर्शन की विकास यात्रा शुरू में काफी धीमी मानी जाती है. धीमी यात्रा के पीछे देश में कई कारण थे. भारत में ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता और खराब बिजली व्यवस्था का अभाव और सरकारों का दूरदर्शन को बढ़ाने में ज्यादा रुचि न लेना, आदि कारण रहे.

लेकिन वर्ष 1982 में ऐसा वर्ष था जो दूरदर्शन की विकास यात्रा को गति देने के लिए जाना जाता है. इस वर्ष नई दिल्ली में आयोजित हुए ‘एशियाई खेलों’ के प्रसारण ने भारत में दूरदर्शन की दिशा में ‘क्रांति’ ला दी थी.

1982 में ही देश में रंगीन (कलर) टेलीविजन बाजार में आ गए थे. इससे दूरदर्शन के दर्शकों में इसके प्रति दीवानगी अचानक बढ़ गई थी. 80 के दशक में पूरा देश दूरदर्शन पर प्रसारित कार्यक्रमों को देखकर अपना मनोरंजन करते थे.

उस दौर में टेलीविजन ही मनोरंजन करने का सस्ता साधन हुआ करता था. अपने मनपसंद कार्यक्रमों और धारावाहिकों के लिए देशवासी एक सप्ताह तक इंतजार करते थे. टेलीविजन पर चित्रहार, सिनेमा, धारावाहिक और अन्य कार्यक्रमों को देखने के लिए लोग अपने महत्वपूर्ण काम भी छोड़ दिया करते थे.

रामायण और महाभारत धारावाहिक ने दूरदर्शन की लोकप्रियता में जबरदस्त उछाल किया
हम बात करेंगे रामानंद सागर द्वारा निर्मित रामायण धारावाहिक की. वर्ष 1986 में धारावाहिक रामायण का टेलीविजन पर प्रसारण किया गया था. रामायण देखने के लिए लोग एक सप्ताह इंतजार करते थे. उसके बाद वर्ष 1988 में फिल्म डायरेक्टर बीआर चोपड़ा ने दूरदर्शन पर धारावाहिक महाभारत का प्रसारण के लिए शुरू किया.

इन दोनों धारावाहिकों ने देश में टेलीविजन देखने वालों का एक नया दर्शक तैयार कर दिया था.‌ उस दौर में रामायण और महाभारत के प्रसारण के दौरान देश की सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता था.‌ उसके बाद धारावाहिक हम लोग, बुनियाद, नुक्‍कड़, यह जो है जिंदगी, शांति और शक्तिमान जैसे कार्यक्रमों ने दूरदर्शन की लोकप्रियता को बुलंदियों पर पहुंचा दिया.

इसके साथ ही ‘चित्रहार’ और हर रविवार को सुबह प्रसारित होने वाली ‘रंगोली’ को भी दर्शक नहीं भूल पाएंगे. वर्ष 1990 के बाद दूरदर्शन ने अपने लोकप्रिय ‘मेट्रो चैनल’ की शुरुआत की थी.

यह भी पढ़ें -  आप क्रेडिट और डेबिट कार्ड से ज्यादा पेमेंट करते हैं, तो ये खबर जरूर पढ़े...

मेट्रो ने कम समय में ही लोगों को अपना दीवाना बना लिया था. अगर विज्ञापनों की बात करें तो ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ जहां लोगों को एकता का संदेश देने में कामयाब रहा, वहीं बुलंद भारत की बुलंद तस्वीर-हमारा बजाज से अपनी व्यावसायिक क्षमता का लोहा भी मनवाया.

दूरदर्शन के इन विज्ञापनों को भी लोग नहीं भूले हैं.आपको बता दें कि तीन नवंबर 2003 में दूरदर्शन का 24 घंटे चलने वाला समाचार चैनल शुरू किया गया था. दो राष्‍ट्रीय और 11 क्षेत्रीय चैनलों के साथ कुल दूरदर्शन के कुल 21 चैनल प्रसारित होते हैं.


लॉकडाउन में देशवासी एक बार फिर अपने दूरदर्शन से जुड़े थे
पिछले दो दशकों से देश में निजी चैनलों की बाढ़ आ गई है, लेकिन दूरदर्शन का महत्व आज भी लोगों के लिए कम नहीं हुआ है.‌ ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी लोग दूरदर्शन को उसी अंदाज में देखते हैं. कुछ माह पहले देश में कोरोना महामारी फैलने के बाद लगाए गए लॉकडाउन में केंद्र सरकार ने एक बार फिर से दूरदर्शन को देशवासियों से जोड़ दिया था.

केंद्र की भाजपा सरकार ने पुराने और लोकप्रिय धारावाहिक रामायण और महाभारत का प्रसारण दूरदर्शन के टेलीविजन पर किया था. सरकार के इस कदम का लोगों ने जबर्दस्त समर्थन किया और दूरदर्शन पर अपनी पुरानी यादें भी ताजा की. देशवासियों में इन दोनों धारावाहिकों को देखने के लिए वही पुरानी दीवानगी देखी गई.

दोनों धारावाहिकों के प्रसारण से दूरदर्शन ने लॉकडाउन के दौरान अपनी कमाई के साथ ‘टीआरपी’ का भी जबरदस्त इजाफा किया. भले ही आज टीवी चैनल पर कार्यक्रमों की बाढ़ आ गई हो लेकिन दूरदर्शन की पहुंच को टक्कर दे पाना अभी भी किसी के बस की बात नहीं है. आइए आज दूरदर्शन दिवस पर कुछ पल अपनी पुरानी यादों को याद करें.

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी और कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत ने अंकिता भंडारी के परिजनों से मुलाकात कर बंधाया ढांढस

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार 

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

फोन को प्लेन में क्यों रखा जाता है ‘फ्लाइट मोड’! जानिए इसके पीछे का...

0
जब भी हम प्लाइट से ट्रेवल करते हैं तो यात्रा शुरू करने से पहले फ्लाइट अटेंडेंट की तरफ से कुछ दिशा-निर्देश दिए जाते हैं....

कुछ दिन पहले दिया था विवादित बयान: बिहार की नीतीश सरकार में कृषि मंत्री...

0
लगातार अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले बिहार की नीतीश कुमार सरकार में कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे...

सिद्धू मोसेवाला हत्याकांड: लॉरेन्स गैंग का दीपक टीनू पुलिस हिरासत से फरार

0
पंजाब पुलिस की हिरासत से सिद्धू मोसेवाला हत्याकांड का एक शूटर और लॉरेन्स बिश्नोई गैंग का गैंगस्टर फरार हो गया है. पुलिस हिरासत से...

Road Safety World Series Final: सचिन तेंदुलकर की इंडिया लीजेंड्स ने दूसरी बार जीता...

0
इंडिया लीजेंड्स ने रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज 2022 के फाइनल मैच में श्रीलंका लीजेंड्स को 33 रनों से हराकर दूसरी बार खिताब पर कब्जा...

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 2.5 रही तीव्रता

0
उत्तरकाशी| उत्तराखंड स्थित उत्तरकाशी में जनपद मुख्यालय में रविवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप के झटकों के बाद लोग घरों के...

कृति रावत और पहाड़ की महिलाओं ने ‘पिरुल’ से बनाए घरेलू उत्पादों की लगाई...

0
उत्तराखंड में प्राकृतिक संपदा का भरपूर भंडार मौजूद है. बस में पहचानने और उपयोग करने की जरूरत है. ‌ हिमालय क्षेत्र में ऐसे पेड़-पौधे...

सीएम धामी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री को दी श्रद्धांजलि,...

0
देहरादून| आज देशभर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती मनाई जा रही है. इसी कड़ी में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सीएम आवास में...

इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान भगदड़ मचने से 127 लोगों की मौत, 200...

0
इंडोनेशिया में एक फुटबॉल मैच के दौरान शनिवार रात भगदड़ मचने से 127 लोगों की मौत हो गई है और करीब 200 लोग घायल...

अंकिता मर्डर मामला: यूकेडी समेत कई संगठनों ने किया उत्तराखंड बंद का आह्वान, आरोपियों...

0
देहरादून| अंकिता भंडारी मर्डर केस को लेकर उत्तराखंड में रविवार को प्रदेश बंद का आह्वान किया गया है. उत्तराखंड क्रान्ति दल की तरफ से...

यूपी: कानपुर में भीषण सड़क हादसा, ट्रैक्टर ट्रॉली के पलट जाने से 26...

0
यूपी के कानपुर में शनिवार देर रात भीषण सड़क हादसा हुआ है. शनिवार को देर रात श्रद्धालुओं से भरी एक ट्रैक्टर ट्रॉली के पलट...
%d bloggers like this: