विश्व सोशल मीडिया डे: दुनिया के लोगों को आपस में जोड़ने का सशक्त माध्यम बनकर उभरा यह ‘प्लेटफार्म’

आज हम एक ऐसे माध्यम की बात करेंगे जिसने करोड़ों लोगों को अपने विचार प्रकट करने के साथ बोलने की आजादी भी दी. बहुत ही कम समय में यह लोगों को अपनी बात रखने और विरोध प्रकट करने का सबसे मजबूत ‘हथियार और गेम चेंजर’ बन गया. इसके साथ ‘राजनीतिक दलों के नेताओं का भी यह प्लेटफार्म ‘सियासी अखाड़ा’ बन चुका है’.

पिछले डेढ़ सालों से कोरोना वायरस संकटकाल के दौरान देश में ‘भाजपा, कांग्रेस समेत तमाम सियासी दलों के नेताओं ने एक दूसरे पर इसी के सहारे आरोप-प्रत्यारोप और हमले बोलते आ रहे हैं’. सियासी दलों के नेता पिछले काफी समय से ‘वर्चुअल’ के माध्यम से बैठक और रैली भी कर रहे हैं. इसके साथ व्यापार, शॉपिंग संदेश, ऑनलाइन पढ़ाई, जागरूकता आदि क्षेत्र में भी ये प्लेटफार्म करोड़ों यूजर्स का साथी बना हुआ है. जी हां हम बात कर रहे हैं ‘सोशल मीडिया प्लेटफार्म’ की.

यह भी पढ़ें -  26 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

‘आज विश्व सोशल मीडिया दिवस है’ . हर साल 30 जून को विश्व सोशल मीडिया दिवस के रूप में मनाया जाता है. व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, टि्वटर, यूट्यूब आदि ऐसे माध्यम हैं जो सोशल मीडिया के रूप में जाने जाते हैं. आज हम सोशल मीडिया की बढ़ती ताकत को लेकर बात करेंगे. ‘संचार माध्यम को लेकर करीब एक दशक पहले दुनिया क्या थी और आज क्या है, इन वर्षों में समूचे विश्व में अगर सबसे तेज ग्रोथ किसी की हुई है तो वह सोशल मीडिया ही है, हाल के वर्षों में मीडिया से भी ताकतवर सोशल मीडिया उभर कर सामने आया है’.

यह भी पढ़ें -  अंकिता भंडारी हत्याकांड मामला: परिवार ने अंतिम संस्कार करने से किया इनकार, सामने आई ये वजह

बता दें कि सोशल मीडिया दिवस का मुख्य उद्देश्य यह है कि विश्व में सोशल मीडिया संचार के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण के रूप में कैसे उभरा इसके बारे में सभी को बताया जा सके. ‘गौरतलब है कि उस समय विश्व में सोशल मीडिया के प्रभाव और वैश्विक संचार में इसकी भूमिका पर जोर देने के लिए विश्व सोशल मीडिया दिवस को मनाया गया था’. दुनिया भर में सबसे पहले 1997 में पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘सिक्स डिग्री’ लॉन्च किया गया था.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएम धामी ने की प्रदेश की कानून व्यवस्था की समीक्षा, मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक सहित अन्य उच्चाधिकारी रहे मौजूद

वहीं साल 2001 में इसके दस लाख से अधिक यूजर्स होने के बाद इसे बंद कर दिया गया . लेकिन कुछ वर्षों के बाद सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्म ने दुनिया में तेजी से विस्तार शुरू कर दिया. ‘पिछले एक दशक से सोशल मीडिया दुनिया के कोने-कोने से लोगों को आपस में जोड़ने का अहम साधन बनकर उभरा है’. इसके अलावा सोशल मीडिया प्रमुख प्रभावशाली लोगों को अपना ब्रांड बढ़ाने में मदद करता है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 27-09-2022: आज वृश्चिक को कारोबार में मिलेंगे लाभ के अवसर, जानिए अन्य...

0
मेष-: मन परेशान हो सकता है. मानसिक शान्ति बनाये रखने के लिए प्रयास करें. परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. पिता का साथ...

27 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 27 सितम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

शारदीय नवरात्रि का दूसरा दिन: ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानें विधि और...

0
26 सितम्बर 2022 से चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हो गई है. नवरात्रि के दौरान मां के 9 रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है....

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने ‘समूह ग’ की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा...

0
उत्तराखंड में बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर है. उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की ओर से सोमवार को 'समूह ग' 23 परीक्षाओं के लिए...

सीएम धामी ने दिए मानसखण्ड कॉरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग, एनएच और बीआरओ के प्रदेश में निर्माणाधीन और प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा की. मुख्यमंत्री...

सीएम धामी का सख्त फैसला: उत्तराखंड में होटल, रिजॉर्ट और होमस्टे में अब नहीं...

0
उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्टिव मोड में है. वहीं दूसरी ओर अंकिता भंडारी मर्डर केस...

मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी, 13 लोगों की मौत-कई घायल

0
सोमवार को मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी हुई, जिसमें कई छात्र घायल हुए. वहीं जिस शख्स ने फायरिंग की उसने खुद...

नंदा गौरा योजना की 80 हजार लाभार्थी बालिकाओं को सीएम धामी ने हस्तांतरित की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में...

अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने पर भी खड़ा हुआ संकट

0
फिलहाल जैसे राजस्थान में सियासी माहौल बयां कर रहे हैं उससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का भी संकट...

राजस्थान कांग्रेस में घमासान, अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले गहलोत-पायलट के गुट ने...

0
राजनीति के मैदान में भी उलटफेर होना आम हो चला है. अब पार्टी के विधायक या सांसद क्या अच्छा है, क्या बुरा, स्वयं फैसला...
%d bloggers like this: