यूपी विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस-बसपा के चुनावी समर में उतरने से दिलचस्प होगा मुकबला

लखनऊ| यूपी के आठ विधानसभा क्षेत्रों में होंने वाले उप चुनावों में कांग्रेस ने कमेटी बनाकर तो बसपा ने उम्मीदवारों के चयन और उनके नामों की घोषणा की जिम्मेदारी सेक्टर प्रभारियों को देकर चुनावी समर का मुकबला दिलचस्प बना दिया है. भाजपा जहां सभी सीटों पर कमल खिलाने के लिए बेताब है, वहीं विपक्षी दल खुद को मुख्य मुकाबले में आने की होड़ में हैं.

यह तो तय हो गया है ये पार्टियां अलग-अलग मुद्दों से भाजपा को घेरने का खाका तैयार कर चुकी हैं. कांग्रेस की तैयारी और बसपा के चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद भाजपा विपक्ष के बिखरे वोटों का लाभ लेने की फिराक में भी है. सपा पहले ही मैदान में उतरने को लेकर प्रत्याशियों के नाम पर मंथन कर रही है.

अमूमन उप चुनाव न लड़ने वाली बसपा विधानसभा की आठों सीटों पर उम्मीदवार उतारने का मन बनाकर अपनी हैसियत परखना चाह रही है.

बसपा के एक नेता ने बताया, प्रदेश में बसपा को नम्बर दो पार्टी बनने के लिए भी यह चुनाव जीतना जरूरी है. अभी तक सपा की सीटें हमसे कहीं ज्यादा है. इसलिए उपचुनाव को मजबूती से लड़ने की तैयारी हो रही है.

बसपा पहले उप चुनाव नहीं लड़ती रही है, लेकिन बीते वर्ष से ही पार्टी ने रणनीति बदली है. अब पार्टी विधानसभा के उप चुनाव में भी किस्मत आजमाने लगी है.

प्रदेश में कानपुर के घाटमपुर, जौनपुर के मल्हनी, रामपुर के स्वार, बुलंदशहर के सदर, आगरा के टूंडला, देवरिया के देवरिया सदर, उन्नाव के बांगरमऊ तथा अमरोहा के नौगावां सादात विधानसभा क्षेत्र के लिए उप चुनाव होने हैं.

इन आठ में से छह पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी, जबकि दो पर समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज की थी. आठ सीट का नम्बर काफी बड़ा माना जाता है, इसलिए बसपा ने सभी पर अपने प्रत्याशी उतारने का मन बना लिया है.

मायावती इन दिनों उप चुनाव की समीक्षा को लेकर दिल्ली में पदाधिकारियों के साथ मंथन भी कर रही हैं. उधर पिछले कई महीनों से कांग्रेस ने प्रदेश में सरकार के खिलाफ लगातर मोर्चा खोला हुआ है.

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू लगातार अंदोलन और गिरफ्तारी के माध्यम से विपक्ष में सबसे आगे चल रहे हैं. इसके चलते उन्होंने उपचुनावों में दिलचस्पी दिखाते हुए हर सीट के लिए दावेदारों से आवेदन लेने के लिए भारी भरकम फौज उतार कर भाजपा के खिलाफ दमदारी से चुनाव लड़ने का संदेश दिया है.

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक राजकुमार सिंह ने बताया कि उप चुनाव में कांग्रेस, बसपा के आने से निष्चित तौर पर चुनाव रोचक होगा. हलांकि, मुकबला भाजपा और मुख्य विपक्षी दल सपा के बीच में अभी तक दिख रही है.

बीते दिनों को देखें तो बसपा उप चुनाव में ज्यादा गंभीरता नहीं दिखाती रही है. लेकिन इस बार काफी दमखम दिखा रही है. अभी जो मायावती की रणनीति दिख रही है उससे ऐसा लग रहा है कि वह सपा का नुकसान करेगी. उसी का वोट काटेगी.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की बात करें तो प्रदेश अध्यक्ष लल्लू के आंदोलन और प्रियंका के ट्विटर वार जरूर पार्टी को सुर्खियां दिला रहें हैं. पर अभी तक जमीन पर कार्यकतार्ओं का अभाव दिख रहा है.

बीते दिनों समाजवादी पार्टी के कार्यकतार्ओं ने बेरोजगारी समेत कई मुद्दे उठाकर हर जगह पार्टी में जान फूंकी है. उपचुनाव में कितना कारगर है, यह कह पाना अभी जल्दबाजी होगी.

भाजपा संगठन के बूथ मैनेंजमेंट में कोई जोड़ नहीं है. वह सारे चुनाव गंभीरता से लड़ती है. यह उपचुनाव सभी पर्टियों के लिए आने वाले समय के लिए बड़ा संकेत होगा.

Related Articles

Latest Articles

बिहार: बीते 24 घंटे में 14 मौतें, कई जिलों में भीषण गर्मी का अलर्ट,...

0
बिहार में जारी हीट वेव ने पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं, जिससे लोग अत्यधिक परेशानी का सामना कर रहे हैं। मौसम विभाग ने...

उत्तराखंड: सीएम धामी पहुंचे दरबार साहिब, दरबार में सेवा कर सुनी गुरुवाणी

0
बुधवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पंजाब के लोकसभा चुनाव प्रचार के तहत अमृतसर का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने हरमंदिर...

दिल्ली को हरियाणा की मनमानी ने आपात स्थिति में डाल दिया, AAP केंद्र को...

0
दिल्ली के नागरिक वर्तमान में दोहरी समस्या का सामना कर रहे हैं। एक तरफ तोषणकारी गर्मी ने जनजीवन को मुश्किल बना दिया है, वहीं...

तुंगनाथ में श्रद्धा और अभिषेक ने भरतनाट्यम कर बनाया रिकॉर्ड, अगला लक्ष्य पंचकेदार

0
तुंगनाथ जो कि दुनिया के सबसे ऊंचे शिव मंदिर में दो युवा कलाकारों, श्रद्धा बछेती और अभिषेक यादव ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर...

वट सावित्री व्रत 2024: कब है वट सावित्री व्रत! जानिए पूजा विधि-मुहूर्त

0
वट सावित्री व्रत, जिसे सावित्री अमावस्या या वट पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है, इस साल ये व्रत 6 जून 2024 को...

गंगा दशहरा 2024: इस साल कब है गंगा दशहरा! जानिए पूजा विधि-शुभ मुहूर्त

0
गंगा दशहरा हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है जिसका हिंदू धर्म में बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है. गंगा दशहरा ज्येष्ठ माह के शुक्ल...

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ कैंची धाम में, चंदन लगाकर किया स्वागत

0
गुरुवार को उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कैंची धाम पहुंचकर बाबा नीब करौरी महाराज के दर्शन किए और पूजा अर्चना की। इस अवसर पर स्थानीय...

T20 WC 2024: टीम इंडिया- पाक मैच में आतंकी हमले का खतरा, बढ़ाई गई...

0
न्यूयॉर्क|…. टी20 वर्ल्ड कप के बहुतप्रतीक्षित भारत-पाकिस्तान मुकाबले में आतंकी हमले का खतरा मंडरा रहा है. आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने न्यूयॉर्क में होने...

लोकसभा चुनाव: अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन, पीएम मोदी समेट...

0
लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है. आज शाम 6 बजे अंतिम चरण के चुनाव प्रचार...

दिल्ली: अब मौसम विभाग ने मंगेशपुर के तापमान को लेकर दी ये सफाई

0
देश की राजधानी दिल्‍ली के मौसम के इतिहास में बुधवार को जो कुछ हुआ वो इससे पहले कभी भी नहीं हुआ था. मौसम विभाग...