जानिए कौन-कौन है गांधी परिवार से अलग कांग्रेस के अध्यक्ष बनने की संभावित रेस में, ये हो सकते है नाम


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने परिवार से अलग कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की बात कहकर, फिर से वही बहस छेड़ दी है, जिसपर पिछले लोकसभा चुनाव के बाद लंबे वक्त तक पार्टी में घमासान मचा रहा था. तब राहुल गांधी ने पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ते हुए यही कहा था कि कोई प्रियंका का नाम आगे न बढ़ाए. लेकिन, हफ्तों बीत गए और कोई सर्वमान्य नेता नहीं मिला तो हारकर बुजुर्ग सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष का जिम्मा संभालना पड़ा और शायद यह सबसे पुरानी पार्टी होने का दावा करने वाले दल के लिए सबसे लंबे वक्त के अंतरिम अध्यक्ष का एक रिकॉर्ड भी बना चुका है.

बहरहाल, पार्टी में बुजुर्ग और युवा दोनों खेमों के बीच से कुछ नामों पर चर्चा हो सकती है, लेकिन यह सवाल बरकरार ही रहेगा कि क्या गांधी परिवार से अलग कोई नेता सर्वमान्य होगा या फिर उसका भी हाल ‘मनमोहन सिंह’ वाला ही होगा.

मौजूदा समय में अगर अंदाजा लगाएं तो गांधी परिवार से अलग कांग्रेस का ऐसा कौन नेता है, जो परिवार के प्रति वफादार रहने की भी शर्तें पूरी करता हो और जो पूर्णकालिक अध्यक्ष की जिम्मेदारी भी निभा सकता है. ऐसे में एक नाम राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का लिया जा सकता है. उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने अपनी संगठन क्षमता के दम पर गुजरात जैसे राज्य में भी कांग्रेस का बेहतर प्रदर्शन सुनिश्चित किया था. लेकिन, सवाल है कि क्या वह मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़कर कांग्रेस अध्यक्ष बनना पसंद करेंगे? परिवार के दिमाग में एक और नाम हो सकता है, जिसपर उसे पूरा भरोसा है- मल्लिकार्जुन खड़गे. वह राहुल की इच्छा के मुताबिक आक्रामक भी हो जाते हैं और वरिष्ठों के अनुसार अनुभवी भी हैं. लेकिन, क्या वह पार्टी की आवश्यकतानुसार उत्तर भारत में पार्टी को मजबूत कर सकेंगे ?

एक और नाम हो सकता है गुलाम नबी आजाद का. उनमें संगठन क्षमता भी है और प्रशासनिक अनुभव भी. लेकिन, जिस दौर में पार्टी का एक वर्ग हिंदुत्व की ओर मुड़ने की ताक में है, आजाद की नियुक्ति के लिए परिवार तैयार होगा? अब अगर पार्टी किसी युवा को आगे बढ़ाने की सोचती है तो सचिन पायलट भी एक नाम हो सकते हैं. इससे उन्हें गहलोत से दूर भी किया जा सकता है और उनके जोश का फायदा भी राष्ट्रीय स्तर पर उठाया जा सकता है.

लेकिन, एक महीने तक राजस्थान में जो ‘सीरियल’ बना है, उसके बाद फिलहाल पार्टी उन्हें इस पद पर देखना पसंद करेगी कहना मुश्किल है. ऊपर से ये भी कि क्या बुजुर्गों की लॉबी उनके नाम पर तैयार होगी? ऐसे में हो सकता है कि अगर गैर-कांग्रेसी अध्यक्ष की बात परिवार ने तय करके ही आगे बढ़ाई है तो कोई ना कोई ‘मनमोहन सिंह’ दिमाग में जरूर होगा? लेकिन, पार्टी को यह भी ध्यान रखना होगा कि यूपीए में पीएम की गद्दी हिलाने वालों में भी अंदर के ही कुछ नेताओं का नाम आता रहा है.

अगर मान लिया जाए कि गांधी परिवार किसी तरह से आंतरिक चुनाव के जरिए या मनोनित करवाकर किसी नेता को पूर्णकालिक अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंप देता है, जैसे मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया गया था तो क्या उसके लिए कांग्रेस में भाजपा के मुकाबले के लिए स्वतंत्र होकर काम करना मुमकिन होगा.

मनमोहन की अगुवाई वाली यूपीए सरकार को आजतक ‘रिमोट कंट्रोल’ वाली सरकार के नाम से याद किया जाता है. मनमोहन सिंह के लिए 10 साल का कार्यकाल निकाल ले जाना आसान नहीं था. उन्हें अपने साथियों से ही विरोध का सामना करना पड़ रहा था. उनके कद के दूसरे कांग्रेसी मंत्रियों में एक आम भावना यह थी कि उनकी क्यों सुनें? नतीजा ये था कि सबको 10 जनपथ तक की दौड़ लगानी पड़ती थी.

मतलब, अगर पार्टी किसी तरह से गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष खोज भी लेती है तो इसकी क्या गारंटी है कि उसे मनमोहन सिंह वाली परेशानियां नहीं झेलनी पड़ेंगी. यह भी तय है कि गांधी परिवार से अलग कोई भी नेता पार्टी में सभी लोगों को स्वीकार नहीं होगा. मतलब, बात यही होगी कि हर बात के लिए नेताओं का 10 जनपथ (या फिर राहुल-प्रियंका के पास) पर शिकायतें लेकर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो जाएगा.

यही नहीं, पार्टी में जिस भी नेता को अध्यक्ष बनाया जाएगा, उसके लिए जरूरी है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे को चुनौती दे सके. कांग्रेस के लिए इस वक्त सबसे बड़ी चुनौती तो यही है. वह किसी को खोज भी ले, लेकिन वह मोदी की शख्सियत के सामने टिक भी सके इसकी गारंटी कौन देगा?

Related Articles

Latest Articles

उत्तराखंड: चुनाव के चलते शादियों में बढ़ी परेशानी, चार बड़ी गाड़ियों में हो जाता...

0
चुनावी मौसम में वाहनों की कमी के कारण शादी-विवाह समारोहों में उलझनें बढ़ गई हैं। बड़े वाहनों की चुनाव ड्यूटी में जाने के कारण...

उत्तराखंड: कल से अंतरराष्ट्रीय सीमाएं हो जाएंगी सील, 12 पोलिंग पार्टियां होंगी रवाना

0
उत्तराखंड में मतदान के चलते मंगलवार से अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सील किए जाने की घोषणा की गई है। साथ ही, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ के...

सीमा हैदर की मुश्किलें बढ़ी! पति, वकील और पंडित को समन जारी

0
पाकिस्तानी से भारत आई सीमा हैदर मुश्किलें और बढ़ गई हैं, क्योंकि उसके पहले पति गुलाम हैदर की ओर से दायर याचिका पर जिला...

अमित शाह की आज कोटद्वार में जनसभा, भाजपा प्रत्याशी के लिए मांगेंगे समर्थन

0
आज मंगलवार को दोपहर दो बजे कोटद्वार के दुर्गापुर में चुनावी जनसभा को संबोधित करने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पहुंचेंगे। इस उत्सव...

सलमान खान के आवास के बाहर गोलीबारी की घटना के सिलसिले में दो गिरफ्तार

0
मुंबई क्राइम ब्रांच ने 14 अप्रैल को बांद्रा पश्चिम में अभिनेता सलमान खान के आवास के बाहर गोलीबारी की घटना के सिलसिले में दो...

श्रीनगर: झेलम नदी में नाव डूबी, 4 स्कूली बच्चों की मौत

0
श्रीनगर| मंगलवार को गांदरबाल इलाके में स्कूली बच्चों से भरी नाव झेलम नदी में डूब में गई. इस हादसे में कम से कम 4...

IPL 2024 SRH Vs RCB: हैदराबाद ने आरसीबी को 25 रन से हराया, कार्तिक...

0
सोमवार को सनराइजर्स हैदराबाद ने चिन्नास्वामी स्टेडियम में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु को 25 रन से हराकर शानदार जीत दर्ज कर ली है. भले ही...

चैत्र नवरात्रि 2024: नवरात्रि के आठवें दिन इस तरह करें माता महागौरी की पूजा,...

0
चैत्र नवरात्रि अब अंतिम पड़ाव पर हैं. आज यानी 16 अप्रैल 2024, मंगलवार को मां दुर्गा के आठवें स्वरूप की पूजा की जाती है....

राशिफल 16-04-2024: आज महा अष्टमी के दिन मां गौरी इन राशियों पर बरसाएंगी कृपा

0
मेष-:आज का दिन आपका अच्छा रहेगा.आज किसी काम को लेकर बाहर की यात्रा आदि में जाना पड़ सकता है. स्वास्थ्य आपका ठीक रहेगा. व्यापार-व्यवसाय...

16 अप्रैल 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 16 अप्रैल 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...