उत्तरायणी: ‘काले कौआ काले, घुघुती माला खाले’ को लेकर ये कहानी सुनी है आपने?

मकर संक्रांति के मौके पर 15 जनवरी से शुरू होने वाला बागेश्वर का मशहूर उत्तरायणी मेला सांस्कृतिक के साथ-साथ ऐतिहासिक धरोहर के रूप में भी मशहूर है. यहां के उत्तरायणी मेले को लेकर एक खास कथा भी प्रचलित है.

उत्तराखंड में काफी लंबे समय तक चंदवंशी राजाओं का राज रहा. चंदवंशी राजा कल्याण सिंह की कोई संतान नहीं थी. उन्हें बताया गया कि बागनाथ के दरबार में मन्‍नत मांगने से उन्हें निश्चित ही संतान की प्राप्त होगी. राजा ने ऐसा ही किया और फिर उन्हें पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई, उन्होंने अपने बेटे का नाम निर्भय चन्द्र रखा गया.

पुत्र प्राप्ति से बहुत प्रसन्न रानी ने बच्चे को बहुमूल्य मोती की माला पहनाई. माला पहनकर बेटा बेहद प्रसन्न रहता था. एक बार जब बालक जिद करने लगा तो रानी ने उसे डराने के लिए उसकी माला कौवे को देने की धमकी दे दी. अब बच्चा एक और जिद करने लगा कि कौवे को बुलाओ. रानी ने बच्चे को मनाने के लिए कौवे को बुलाना शुरू कर दिया.

राजा का बेटा होने के नाते बच्चा तरह-तरह के पकवान और मिठाइयों का भरपूर लुत्फ लेता था. पकवान और मिठाइयां खाने के बाद बचा-खुचा खाना कौओं को भी मिल जाता था. इसलिए कौवे बालक के इर्द-गिर्द घूमते रहते थे और इस तरह राजा के बेटे की कौओं से दोस्ती हो गई.

राजा का एक मंत्री था, जिसका नाम घुघुती था. राजा के नि:संतान होने के कारण घुघती राजा के बाद राज्य का स्वामित्व पाने के सपने देखा करता था, लेकिन निर्भय चन्द्र के कारण उसकी इच्छा फलीभूत न हो सकी. इसी कारण वह निर्भय चन्द्र की हत्या की साजिशें रचने लगा और एक बार बालक को चुपचाप से घने जंगल में ले गया.

कौओं ने जब आंगन में अपने दोस्त राजा के बेटे को नहीं देखा तो आकाश में उड़कर इधर-उधर उसे ढूंढ़ने लगे. अचानक उनकी नजर मंत्री पर पड़ी, जो बालक की हत्या की तैयारी कर रहा था. कौओं ने कांव-कांव का शोर करके बालक के गले की माला अपनी चोंच में उठाकर राजमहल के प्रांगण में डाल दी. बच्चे की टूटी माला देखकर सब आशंकित हो गए तो मंत्री को बुलाया गया, लेकिन मंत्री कहीं नहीं मिला.

राजा को किसी तरह साजिश की भनक लग गई और उन्होंने कौओं के पीछे-पीछे सैनिक भेज दिए. वहां जाकर उन्होंने देखा कि हजारों कौओं ने मंत्री घुघुती को चोंच मार-मारकर बुरी तरह घायल कर दिया था और बच्चा कौओं के साथ खेलने में मगन था. निर्भय चंद्र और मंत्री को लेकर सैनिक लौट आए.

उत्तरायणी मेला बागेश्वर
सारे कौवे भी आकर राजदरबार की मीनार पर बैठ गए. मंत्री को मौत की सजा सुनाई गई और उसके शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर कौओं को खिला दिए गए. लेकिन जब इससे कौवों का पेट नहीं भरा तो निर्भय चंद्र की प्राण रक्षा के उपहारस्वरूप विभिन्‍न प्रकार के पकवान बनाकर उन्हें खिलाए गए.

इस घटना से ही हर साल घुघुती माला बनाकर कौओं को खिलाने की परम्परा शुरू हुई. यह संयोग ही था कि उस दिन मकर संक्रांति थी, इसीलिए उत्तरायणी मेले का मकर संक्रांति के दिन शुरू होने का खासा महत्त्व है.

मान्‍यता के अनुसार, संक्रांति की सुबह जल्दी उठकर बच्चों को तिलक लगाकर, उनके गले में घुघुती की माला पहनाकर ‘काले कौआ काले, घुघती माला खाले’ कहने के लिए छत-आंगन या घर के दरवाजे पर खड़ा कर दिया जाता है. यह त्योहार बच्चों का ही त्योहार माना जाता है.

बच्चे इस दिन बहुत खुश रहते हैं. अपनी माला में गछे, गेहूं के आटे में गुड़ मिलाकर घी या तेल में पके खजूरों को घुघुती का प्रतीक मानकर चिल्ला-चिल्ला कर गाते हैं – ‘काले कौआ काले, घुघुती माला खाले.

Related Articles

Latest Articles

गंगा दशहरा 2024: इस साल कब है गंगा दशहरा! जानिए पूजा विधि-शुभ मुहूर्त

0
गंगा दशहरा हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है जिसका हिंदू धर्म में बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है. गंगा दशहरा ज्येष्ठ माह के शुक्ल...

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ कैंची धाम में, चंदन लगाकर किया स्वागत

0
गुरुवार को उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कैंची धाम पहुंचकर बाबा नीब करौरी महाराज के दर्शन किए और पूजा अर्चना की। इस अवसर पर स्थानीय...

T20 WC 2024: टीम इंडिया- पाक मैच में आतंकी हमले का खतरा, बढ़ाई गई...

0
न्यूयॉर्क|…. टी20 वर्ल्ड कप के बहुतप्रतीक्षित भारत-पाकिस्तान मुकाबले में आतंकी हमले का खतरा मंडरा रहा है. आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने न्यूयॉर्क में होने...

लोकसभा चुनाव: अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन, पीएम मोदी समेट...

0
लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आज आखिरी दिन है. आज शाम 6 बजे अंतिम चरण के चुनाव प्रचार...

दिल्ली: अब मौसम विभाग ने मंगेशपुर के तापमान को लेकर दी ये सफाई

0
देश की राजधानी दिल्‍ली के मौसम के इतिहास में बुधवार को जो कुछ हुआ वो इससे पहले कभी भी नहीं हुआ था. मौसम विभाग...

30 मई 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 30 मई 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

राशिफल 30-05-2024: आज इन राशियों का चमकेगा भाग्य, पढ़ें मेष से मीन तक का...

0
मेष-: कार्यक्षेत्र में आज आपको कुछ अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन उन्हें हतोत्साहित न होने दें. इसके बजाय, एक रचनात्मक...

डीआरडीओ ने किया रुद्राएम-2 मिसाइल का सफल फ्लाइट टेस्ट, जानें इसकी सटीकता और ताकत

0
रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने बुधवार की सबसे शानदार मिसाइल रुद्राएम-2 मिसाइल को सू-30 एमकेआई फाइटर जेट से सफल परीक्षण किया गया....

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज के ओएसडी निलंबित, उप राज्यपाल के आदेश पर...

0
पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार में जिस बेबी केयर न्यू बोर्न अस्पताल में आग लगने से छह मासूमों की मौत हुई उसका लाइसेंस 31...

ऋषिकेश के रिजॉर्ट में चार साल के बच्चे की मौत, स्विमिंग पूल में डूबने से...

0
ऋषिकेश के लक्ष्मण झूला क्षेत्र स्थित एक रिजॉर्ट में चार साल के बच्चे की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई। बच्चा रिजॉर्ट के स्वीमिंग...