कोणार्क से भी पुराना है अल्मोड़ा का कटारमल सूर्य मंदिर, जहां प्रतिमा पर साल में दो बार पड़ती है सूरज की किरण

अल्मोड़ा| उत्तराखंड की सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में ऐसे कई धार्मिक स्थल हैं, जिनका प्राचीन इतिहास है. अल्मोड़ा से तकरीबन 18 किलोमीटर की दूरी पर है प्राचीन सूर्य मंदिर कटारमल. यह मंदिर 9वीं सदी का बताया जाता है, जो कत्यूरी शासक कटारमल देव के द्वारा बनाया गया था. मान्यताओं के अनुसार, यहां पर कालनेमि राक्षस का आतंक रहता था, तो यहां के लोगों ने भगवान सूर्य का आह्वान किया. भगवान सूर्य बरगद में विराजमान हुए तब से लेकर आज तक यहां उन्हें बड़ा आदित्य के नाम से भी जाना जाता है.गौरतलब है की कोणार्क के सूर्य मंदिर का निर्माण 1250 में हुआ था.

सूर्य मंदिर दो ही जगह पर स्थापित है ओडिशा के कोणार्क में दूसरा अल्मोड़ा में स्थित सूर्य मंदिर कटारमल में स्थापित है. यहां पर भगवान बड़ा आदित्य की मूर्ति पत्थर या धातु की न होकर बड़ के पेड़ की लकड़ी से बनी है, जो गर्भ गृह में ढककर रखी गई है. यहां पर स्थानीय श्रद्धालुओं के साथ देश-विदेश के पर्यटक भी यहां पर आकर भगवान के दर्शन करते हैं. इस मंदिर में साल में दो बार सूर्य की किरणें भगवान की मूर्ति पर पड़ती है. 22 अक्टूबर और 22 फरवरी को सुबह के समय यह देखने को मिलता है. जिसको देखने के लिए लोग यहां पर पहुंचते हैं.

परिसर में छोटे-बड़े 45 मंदिर
इस परिसर में छोटे-बड़े मिलाकर 45 मंदिर हैं. पहले इन मंदिरों में मूर्तियां रखी थीं, जिनको अब गर्भ गृह में रखा गया है. बताया जाता है कि कई साल पहले मंदिर में चोरी हो गई थी, जिस वजह से अब सभी मूर्तियों को गर्भ गृह में रखा गया है. इस मंदिर में चंदन का दरवाजा हुआ करता था, जो दिल्ली म्यूजियम में रखा गया है. स्थानीय लोगों की मांग उठती रही है कि उसे दोबारा मंदिर में लगाया जाना चाहिए.

सूर्य मंदिर में है पॉजिटिव एनर्जी
बेंगलुरु से आईं श्रद्धालु धनलक्ष्मी ने बताया कि वह पहली बार इस मंदिर में आई हैं और यहां पर आकर उन्हें बहुत अच्छा लगा है. इस मंदिर में पॉजिटिव एनर्जी है. यहां के पुजारी ने बताया कि साल में दो बार सूर्य की किरण भगवान सूर्य की मूर्ति में पड़ती है और यह मंदिर काफी प्राचीन है.

मंदिर में थोड़े सुधार की जरूरत
श्रद्धालु श्रीनिवासन सल्लू ने बताया कि वो मंदिर में दर्शन करने के लिए आए हैं. यह मंदिर काफी खूबसूरत है और इस मंदिर में आकर उन्हें बेहद अच्छा लगा है. इस मंदिर में वह पहली बार आए हैं. वैसे तो ये मंदिर काफी अच्छा है पर इसमें थोड़ा बहुत सुधार करने की जरूरत है.

पौष माह में लगता है मेला
स्थानीय निवासी हरीश सिंह बिष्ट ने बताया कि साल में दो बार यहां पर सूर्य की किरणें गर्भ गृह में रखी मूर्ति में पड़ती है जब सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण और उत्तरायण से दक्षिणायन की ओर सूर्य होता है, तब यह देखने को मिलता है. जिसको देखने के लिए सुबह के वक्त काफी संख्या में श्रद्धालु यहां पर आते हैं. इसके अलावा पौष माह के आखिरी रविवार में यहां पर भव्य भंडारा कराया जाता है, जिसमें काफी संख्या में श्रद्धालु आकर प्रसाद ग्रहण करते हैं.

Related Articles

Latest Articles

इन राज्यों में हुए सबसे ज्यादा पेपर लीक, दांव पर लगा लाखों उम्मीदवारों का...

0
नीट यूजी कंट्रोवर्सी ने एक बार फिर से पेपर लीक मुद्दे को हवा दे दी है. ये पहला मामला नहीं है जब पेपर लीक...

नए आपराधिक कानूनो को लागू करने लिए उत्तराखंड की तैयारी पूरी: सीएस राधा रतूड़ी

0
देशभर में 1 जुलाई 2024 से लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों हेतु उत्तराखंड की तैयारी पूरी हो चुकी है. उत्तराखंड की मुख्य...

सीएम धामी ने दिल्ली के एम्स पहुंचकर जाना घायल वन कर्मियों का कुशलक्षेम

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पहुंचकर अल्मोड़ा के बिनसर वन्यजीव विहार में वनाग्नि हादसे में गम्भीर...

अबकी बार स्पीकर पद पर तकरार, ओम बिरला बनाम के. सुरेश के बीच जंग

0
लोकसभा स्पीकर पद के लिए अब एक बार फिर एनडीए और विपक्ष के बीच घमासान होने वाला है. एनडीए ने जहां ओम बिरला को...

अभी तिहाड़ जेल से बाहर नहीं आएंगे केजरीवाल, हाईकोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक

0
दिल्ली शराब घोटाला केस में अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका लगा है. दिल्ली हाईकोर्ट ने जमानत पर रोक लगा दी है. हाईकोर्ट ने अपने...

काशीपुर-जसपुर मार्ग पर दो डंपरों आपस में भिड़े, चालक की जिंदा जलकर मौत

0
काशीपुर| उधमसिंहनगर ज़िले से बड़े सड़क हादसे की खबर सामने आ रही है. काशीपुर-जसपुर मार्ग पर टोल प्लाजा के पास मंगलवार सुबह दो डंपरों...

दिल्ली: सफदरजंग अस्पताल की पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में आग, मौके पर फायर ब्रिगेड की...

0
राजधानी दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल की पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में आग लगने की खबर है. बताया जा रहा है कि पुरानी इमरजेंसी बिल्डिंग में...

लोकसभा स्पीकर के लिए एनडीए के साथ कांग्रेस, लेकिन राहुल ने रखी ये शर्त…

0
संसद सत्र की शुरुआत हो चुकी है. आज यानी मंगलवार को संसद सत्र का दूसरा दिन है. लोकसभा स्पीकर पद के लिए आज नॉमिनेशन...

दूसरी बार लोकसभा स्पीकर बनेंगे ओम बिड़ला

0
18वीं लोकसभा के पहले सत्र का आज दूसरा दिन है. सत्र के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत 262 नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली....

T20 WC Super 8: अफगानिस्तान ने रचा इतिहास, पहली बार सेमीफाइनल में पहुंचा

0
सोमवार को टी20 वर्ल्ड कप 2024 के अंतिम सुपर 8 मुकाबले में अफगानिस्तान ने इतिहास रचते हुए पहली बार सेमीफाइनल में प्रवेश किया. सेंट...