घी संक्रांति 2023: उत्तराखंड में हर्षोल्लास के साथ मनाई जा रही है घी संक्रांति, जानिए क्या है महत्व

उत्तराखंड की संस्कृति और विरासत अपने आप में कई ऐसे पर्वों को भी समेटे हुई है, जिनका यहां की संस्कृति में खास महत्व है. इन्हीं में से एक लोकपर्व घी त्यार भी है. कुमाऊं मंडल में इस पर्व को घी त्यार और गढ़वाल मंडल में घी संक्रांति के नाम से जानते हैं. कृषि, पशुधन और पर्यावरण पर आधारित इस पर्व को लोग धूमधाम के साथ मनाते हैं.

घी संक्रांति का खास महत्व-: घी त्यार (घी संक्रांति) देवभूमि उत्तराखंड में सभी लोक पर्वों की तरह प्रकृति एवं स्वास्थ्य को समर्पित पर्व है. पूजा पाठ करके इस दिन अच्छी फसलों की कामना की जाती है. अच्छे स्वास्थ के लिए, घी एवं पारम्परिक पकवान हर घर में बनाए जाते हैं.

उत्तराखंड की लोक मान्यता के अनुसार इस दिन घी खाना जरूरी होता है. लोककथा के अनुसार कहा जाता है कि जो इस दिन घी नही खाता है, उसे अगले जन्म में घोंघा (गनेल) बनना पड़ता है. इसलिए लोग इस पर्व के लिए घी की व्यवस्था पहले से ही करके रखते हैं.

अतुलनीय संस्कृति और विरासत-: उत्तराखंड राज्य पूरे विश्व में अपनी कला और लोक संस्कृति के नाम से जाना जाता है. यूं तो यहां हर पर्व अपने आप में खास होता है. लेकिन कुछ पर्व प्रकृति से जुड़े हुए हैं. इसलिए उनका महत्व और बढ़ जाता है. प्रदेश में सुख, समृद्धि और हरियाली का प्रतीक माना जाने वाला घी त्यार हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है. उत्तराखंड में घी संक्रांति का विशेष महत्व है. इसे भाद्रपद की संक्रांति भी कहते हैं. इस दिन सूर्य सिंह राशि में प्रवेश करता है. इसलिए इसे भद्रा संक्रांति भी कहते हैं.

घी त्यार (लोकपर्व) पर प्रत्येक घरों में पुए, पकौड़े और खीर बनाई जाती है. इन पकवानों को घी के साथ परोसा जाता है. यह त्योहार अच्छी फसल की कामना के लिए भी मनाया जाता है. घी त्यार मनाए जाने की एक वजह यह भी है कि गर्मी और बरसात के मौसम में खान-पान को लेकर परहेज किया जाता था. खान-पान के लंबे परहेज के बाद खुशी में पकवान बनाए जाते हैं.

क्यों खाया जाता है घी-: उत्तराखंड में घी त्यार किसानों के लिए अत्यंत महत्व रखता है. आज के दिन प्रत्येक उत्तराखंडी ‘घी’ जरूर खाता है. यह भी कहा जाता है कि घी खाने से शरीर की कई व्याधियां भी दूर होती हैं. इससे स्मरण क्षमता बढ़ती है. नवजात बच्चों के सिर और तलुवों में भी घी लगाया जाता है. जिससे वे स्वस्थ्य और चिरायु होते हैं. बता दें कि पंचांग के अनुसार सूर्य एक राशि में संचरण करते हुए जब दूसरी राशि में प्रवेश करता है तो उसे संक्रांति कहते हैं. इस तरह बारह संक्रांतियां होती हैं. इसको भी शुभ दिन मानकर कई त्योहार मनाये जाते हैं जिसमें से एक पर्व घी त्यार भी है.

लोगों के लिए खास महत्व रखता है लोक पर्व-: किसान अंचल में कृषक वर्ग, ऋतुद्रव प्रमुख पदार्थ और भुट्टा मक्खन आदि अपने भूमि देवता, भूमिया और ग्राम देवता को अर्पित करते हैं. घर के लोग इसके उपरांत ही इनका उपयोग करते हैं. आज के दिन प्रत्येक प्रदेशवासी घी में खाना जरूर बनाते हैं. माना जाता है कि, इस त्योहार में घी खाने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है. यह त्योहार व्यक्ति को आलस छोड़ने को प्रेरित करता है.

घी त्यार के दिन दूब को घी से छू कर माथे पर लगाया जाता है. इस त्योहार में भोजन घी में ही बनता है. इस दिन का मुख्य भोजन बेड़ू, रोटी, उड़द की दाल को सिल में पीस कर भरते हैं. पिनालू की सब्जी और उसके पातों, पत्तों जिन्हें गाबा पत्यूड़े कहते हैं की सब्जी बनती है.

इस साल घी संक्रांति गुरुवार 17 अगस्त 2023 को मनाई जाएगी.

Related Articles

Latest Articles

आज मंत्री आतिशी का राजधानी के जल संकट पर अनशन, आप ने इंडिया गठबंधन...

0
दिल्ली की जल मंत्री आतिशी शुक्रवार को हरियाणा से अतिरिक्त पानी की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने जा रही हैं। आम आदमी...

मोदी का कश्मीर दौरा: परंपरागत पहनावे में प्रधानमंत्री, श्रीनगर में असमिया गमछा संग दिखे...

0
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को योग दिवस के मुख्य समारोह में असमिया गमछा पहनकर एक बार फिर राष्ट्रीय एकता और समृद्धि का...

सीएम धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में किया योग, बोले योग...

0
पिथौरागढ़| शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में योगा किया. सीएम धामी ने स्थानीय लोगों और पर्यटकों...

तमिलनाडु: मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हुई, 15 दिन की...

0
तमिलनाडु में मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हो गई है. इसी के साथ मिलावटी शराब का ये मुद्दा अब राजनीतिक...

उत्तराखंड: अब मानसून सीजन में नहीं होगी परेशानी, आपदा राहत बचाव कार्यों में लगेंगे...

0
उत्तराखंड में मानसून के सीजन में आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के लिए तीन हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया जाएगा। यह निर्णय उत्तराखंड...

बीजेपी एक बार फिर पंकजा मुंडे पर कर सकती है भरोसा, राज्यसभा भेजने पर...

0
देश के साथ-साथ महाराष्ट्र की राजनीति भी इस समय चरम पर है. इस सियासत के बीच बीड लोकसभा चुनाव में हार का सामना करने...

दिल्ली: केजरीवाल को हाईकोर्ट से झटका, सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर लगी रोक

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत देने के ट्रायल कोर्ट के आदेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा...

उत्तराखंड में आज भी बरसेंगे मेघा, मौसम को देख हैरान लोगों का है ये...

0
आज उत्तराखंड के पांच जिलों में झोंकेदार हवाओं के साथ आंधी और तेज बारिश की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र ने उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली,...

अरविंद केजरीवाल को झटका, हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर रोक

0
दिल्ली शराब नीति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गुरुवार को निचली अदालत द्वारा सीएम अरविंद केजरीवाल को मिली जमानत पर दिल्ली हाई...

देवभूमि में ऋषिकेश से हरिद्वार तक हर्ष से मनाया गया योग उत्सव

0
आज उत्तराखंड के देवभूमि में केदारनाथ से लेकर हरिद्वार और योग नगरी ऋषिकेश तक योग की महत्ता का उल्लासपूर्ण प्रदर्शन हुआ। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...